भारतीय कंपनी ने स्वेदशी तकनीक से स्नाइपर राइफल बनाकर रचा इतिहास

News18Hindi
Updated: September 14, 2019, 7:04 AM IST
भारतीय कंपनी ने स्वेदशी तकनीक से स्नाइपर राइफल बनाकर रचा इतिहास
भारतीय कंपनी ने स्वेदशी तकनीक से स्नाइपर राइफल बनाकर रचा इतिहास.

एक भारतीय कंपनी (Indian Company) ने स्वदेशी तकनीक (indigenousTechnology) से दो स्नाइपर राइफलें (Sniper Rifles) बनाकर इतिहास रच दिया है. यह प्राइवेट कंपनी कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू में है, जिसका नाम एसएसएस डिफेंस (SSS Defense) है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 14, 2019, 7:04 AM IST
  • Share this:
एक भारतीय कंपनी (Indian Company) ने स्वदेशी तकनीक (indigenousTechnology) से दो स्नाइपर राइफलें (Sniper Rifles) बनाकर इतिहास रच दिया है. यह प्राइवेट कंपनी कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू में है, जिसका नाम एसएसएस डिफेंस (SSS Defense) है. बेंगलुरू से 28 किलोमीटर दूर जिगानी में इस कंपनी की फैक्ट्री स्थापित की गई है. फिलहाल कंपनी ने इसका प्रतिरूप या मॉडल ही तैयार किया है. इन दोनों बंदूकों को एसएसएस डिफेंस नाम की कंपनी ने बनाया है.

सब कुछ ठीक रहने पर कंपनी इन्हें एक्सपोर्ट करने की भी सोच रही है. सूत्रों के अनुसार, कंपनी का दावा है कि भारत में पहली बार उन्होंने स्वदेशी तकनीक से स्नाइपर राइफल का मॉडल तैयार करके उसे बनाया है. गौरतलब है कि प्राइवेट कंपनियों के लिए रक्षा क्षेत्र के रास्ते मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में ही खोले गए थे.

स्नाइपर राइफल का लंबे समय से इंतजार कर रही है सेना
सेना लंबे वक्त से स्नाइपर राइफल खरीदना चाहती है, लेकिन अभी तक सेना को ये राइफलें नहीं मिल पाईं हैं. स्नाइपर राइफल के लिए लगभग 20 कंपनियों ने टेंडर भरा था, लेकिन ये कंपनियां बुलेट को सौदे में शामिल नहीं कर रही थी, इसलिए इस राइफल की खरीद पर निर्णय नहीं किया जा सका है.

दोनों स्वदेशी राइफलों में ये हैं विशेषताएं
एसएसएस डिफेंस की दो राइफलों का नाम वाइपर और साबेर है. वाइपर राइफल में .308/7.62x51 एमएम की कार्टेज और साबेर राइफल में .338 की कार्टेज लगती है. एसएसएस डिफेंस का दावा है कि वाइपर की रेंज एक हजार मीटर है जबकि साबेर की रेंज लगभग डेढ़ हजार मीटर है. कंपनी के एक अधिकारी ने बताया है कि दोनों ही राइफलें सेना और सरकारी एजेंसियों को पसंद हैं.

फिलहाल राइफल को टेस्ट में पास कराना है कंपनी का लक्ष्य
Loading...

फिलहाल कंपनी का लक्ष्य अपनी राइफल को टेस्ट में पास कराना है. यदि एसएसएस डिफेंस की राइफल की टेस्ट में पास हो गई तो उसके बाद कंपनी अपनी कई और योजनाओं पर काम करेगी. फिलहाल कंपनी की फैक्ट्री 80 हजार स्कॉयर फीट से संचालित की जा रही है. कंपनी अपने ऑफिस के क्षेत्र में भी विस्तार करना चाहती है. सूत्रों के अनुसार कंपनी आर्म्स के क्षेत्र में 20 करोड़ रुपये का निवेश कर चुकी है.

ये भी पढ़ें - 

अखिलेश का मोदी सरकार पर तंज, जिस टेढ़ी आंख से पाक को देख रहे हो, जरा मानसरोवर तो ला दो

मोदी सरकार ने राहुल गांधी को संसद की इस कमेटी में किया शामिल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 14, 2019, 7:00 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...