गंगा की सफाई करने वाली कंपनी को मिला प्रतिष्ठित पर्यावरण पुरस्कार

कंपनी वाराणसी में जापान अंतर्राष्ट्रीय सहयोग एजेंसी के सहायता से चल रही गंगा एक्शन प्लान -2 पर काम कर रही है

भाषा
Updated: October 13, 2017, 6:10 PM IST
गंगा की सफाई करने वाली कंपनी को मिला प्रतिष्ठित पर्यावरण पुरस्कार
क्रेडिट-एनजेएस साइट
भाषा
Updated: October 13, 2017, 6:10 PM IST
भारत की एक इंजीनियरिंग परामर्शदाता फर्म को सिंगापुर में प्रतिष्ठित पर्यावरण पुरस्कार प्रदान किया गया है. कंपनी को यह अवार्ड सीवेज शोधन और वाराणसी में गंगा नदी के पारिस्थितिकी में सुधार के लिए दिया गया है.

पुणे की कंपनी एनजेएस इंजीनियर्स प्राइवेट लिमिटेड ने कल पर्यावरण पुरस्कार "बी इंस्पायर्ड" बीआईएम एडवान्समेंट प्राप्त किया. कंपनी वाराणसी में जापान अंतर्राष्ट्रीय सहयोग एजेंसी के सहायता से चल रही गंगा एक्शन प्लान -2 पर काम कर रही है. 496.90 करोड़ रुपये की गंगा सफाई परियोजना का उद्देश्य जल की गुणवत्ता और नदी पारिस्थितिकी में सुधार के साथ-साथ गंगा और उसकी सहायक वरुणा नदी को प्रदूषित होने से रोकना है.

इस परियोजना को 31 जुलाई 2018 तक पूरा किया जाना है. बेंटले की ओर से आयोजित इन्फ्रास्ट्रक्चर सम्मेलन 2017 में एनजेएस के सूचना प्रौद्योगिकी सक्षम सेवाओं के प्रमुख रोहित देमबी ने कहा, "इस परियोजना का दायरा घरेलू सीवेज को रोकना, हटाना और उसका शोधन करना है."

उन्होंने कहा कि परियोजना से पहले 67 प्रतिशत सीवेज बिना शोधन के सीधे गंगा में या उसकी सहायक नदी वरुणा नदी के जरिये गंगा में छोड़ा जाता था. एनजेएस, पुरस्कार के लिये अंतिम दौर में रहने वाली एकमात्र भारतीय कंपनी थी, एनजेएस, जापान के एनजेएस कंसल्टेंट्स का एक संयुक्त उपक्रम है और भारत की इकरा का संयुक्त उद्यम है. इसमें टाटा कंसल्टिंग इंजीनियर्स भी शामिल है.

ये भी पढ़ेंः
गंगा महोत्सव 2017: गंगा को स्वच्छ बनाना सबकी ज़िम्मेदारी- अग्रवाल
इलाहाबादः गंगा नदी में नाव पलटने से 4 लोग लापता, CM योगी ने दिए बचाव कार्य के न‍िर्देश

पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर