• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • क्वाड पर अमेरिका ने दिया चीन को जवाब, तालिबान को भी सख्त चेतावनी

क्वाड पर अमेरिका ने दिया चीन को जवाब, तालिबान को भी सख्त चेतावनी

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन (Photo-ANI)

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन (Photo-ANI)

Antony Blinken in India: ब्लिंकन ने कहा कि क्वाड कोई सैन्य गठबंधन नहीं है. इसका उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय नियमों और मूल्यों को मजबूत करते हुए क्षेत्रीय चुनौतियों पर मदद पहुंचाना है. ब्लिंकन ने कहा कि हमारे मुताबिक यह क्षेत्र में शांति, समृद्धि, स्थिरता का आधार है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन (US Secretary of State Antony Blinken ) ने बुधवार को अफगानिस्तान (Afghanistan) से अमेरिकी सैनिकों की वापसी और लगातार जारी संघर्ष को लेकर कहा कि अमेरिका अभी भी अफगानिस्तान में विकास कार्यों में लगा हुआ है. इसके साथ ही हमारा उद्देश्य संघर्ष का समाधान करने के लिए एक मंच पर लाने का है. ब्लिंकन ने कहा, “जब हम अफगानिस्तान से अपनी सेना हटा रहे हैं, तब भी हम अफगानिस्तान के साथ बंधे हुए हैं. वहां न सिर्फ हमारा मजबूत दूतावास है बल्कि ऐसे कई जरूरी कार्यक्रम भी हैं जो विकास और सुरक्षा सहायता के जरिए अफगानिस्तान  को आर्थिक रूप से समर्थन देते हैं.” ब्लिंकन ने कहा, “हम अफगानिस्तान में संघर्ष के समाधान के लिए पार्टियों को एक साथ लाने के लिए काम करने की कूटनीति में जी-जान से जुटे हुए हैं.”

    ब्लिंकन ने तालिबान पर निशाना साधते हुए कहा, “बलपूर्वक देश पर अधिकार करना और लोगों के अधिकारों का हनन करना अपने मंसूबों को हासिल करने का रास्ता नहीं है.” उन्होंने कहा, “केवल एक ही रास्ता है और वह है बातचीत की मेज पर संघर्ष को शांतिपूर्ण ढंग से हल करना.” अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा, “तालिबान का कहना है कि वह अंतरराष्ट्रीय मान्यता चाहता है, कि वह अफगानिस्तान के लिए अंतरराष्ट्रीय समर्थन चाहता है. शायद इसीलिए वह चाहता है कि उसके नेता दुनिया में स्वतंत्र रूप से यात्रा करें और प्रतिबंध हटा दिए जाएं.”

    ब्लिंकन ने आगे कहा, “तालिबान सिटी सेंटर्स में आगे बढ़ रहा है, अफगानिस्तान के लोगों पर उनके द्वारा अत्याचार किए जाने की खबरें भी सामने आ रही हैं जो कि काफी परेशान करने वाली बात है.” उन्होंने कहा, “यह निश्चित रूप से देश को लेकर उनके इरादों के अच्छा होने का संकेत नहीं है.” ब्लिंकन ने कहा कि हम अफगानिस्तान में अभी भी प्रयास कर रहे हैं.

    ये भी पढ़ें- सोनिया गांधी से मुलाकात होगा पहला कदम! बड़ी भूमिका के लिए ये है ममता की रणनीति

    क्वाड पर चीन की तिरछी नजरों पर दिया जवाब
    एंटनी ब्लिंकन ने क्वाड को लेकर लगातार सवाल उठा रहे चीन पर निशाना साधते हुए कहा, “क्वाड क्या है? यह बहुत सरल है लेकिन उतना ही जरूरी है.” उन्होंने बताया, “चार समान विचारधारा वाले देश लोगों के जीवन पर वास्तविक असर डालने वाले मौजूदा समय के कुछ सबसे महत्वपूर्ण मुद्दों और स्वतंत्र और खुले इंडो-पैसिफिक सुनिश्चित करने को लेकर काम करने के लिए एक साथ आ रहे हैं.”

    ब्लिंकन ने कहा, “क्वाड कोई सैन्य गठबंधन नहीं है. इसका उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय नियमों और मूल्यों को मजबूत करते हुए क्षेत्रीय चुनौतियों पर मदद पहुंचाना है.” ब्लिंकन ने कहा कि हमारे मुताबिक यह क्षेत्र में शांति, समृद्धि, स्थिरता का आधार है.

    भारतीय विदेश मंत्री के साथ हुई अपनी बैठक के बाद एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि हमने अफगानिस्तान सहित क्षेत्रीय सुरक्षा मुद्दों पर चर्चा की. उन्होंने कहा कि शांतिपूर्ण, सुरक्षित और स्थिर अफगानिस्तान में भारत और अमेरिका की गहरी रुचि है. उन्होंने कहा कि एक विश्वसनीय भागीदार के रूप में, भारत ने अफगानिस्तान की स्थिरता और विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है और वह आगे भी इसे जारी रखेगा. ब्लिंकन ने कहा कि हम अफगानिस्तान से गठबंधन बलों की वापसी के बाद अफगान लोगों के लाभ को बनाए रखने और क्षेत्रीय स्थिरता के लिए मिलकर काम करना जारी रखेंगे.

    भारत को बताया विश्व की रक्षा के लिए ताकत
    अमेरिकी विदेश मंत्री ने भारत के साथ अमेरिकी संबंधों को लेकर कहा कि हमारे मूल्य अमेरिका और भारत के संबंधों को मजबूत करते हैं. ब्लिंकन ने कहा कि हमारे लोकतंत्र की तरह भारत का लोकतंत्र भी अपने स्वतंत्र विचार वाले नागरिकों द्वारा संचालित है. अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि हम इसकी सराहना करते हैं. उन्होंने कहा कि हम भारतीय लोकतंत्र को एक स्वतंत्र और खुले हिंद-प्रशांत और विश्व की रक्षा के लिए एक ताकत के रूप में देखते हैं.

    एंटनी ब्लिंकन ने आगे कहा कि हम मानते हैं कि हमारे अपने से शुरू होकर हर एक लोकतंत्र प्रगति पर है. उन्होंने कहा कि जब हमने इन मुद्दों पर चर्चा की, तो मैं इसे विनम्रता के शुरुआती बिंदु से शुरू करता हूं. उन्होंने कहा कि हमने उन चुनौतियों को देखा है जिनका हमारे अपने लोकतंत्र ने सामना किया और आज भी कर रहा है. सभी लोकतंत्रों के लिए इसके एक ही मायने हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज