अपना शहर चुनें

States

कश्मीर मुद्दे पर PAK के ICJ जाने पर भारत का जवाब- जहां जाना है जाओ, वहीं जवाब देंगे

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन (फाइल फोटो)
संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन (फाइल फोटो)

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) से अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाए जाने के फैसले के खिलाफ पाकिस्तान (Pakistan) ने अंतरराष्ट्रीय कोर्ट (ICJ) में अपील करने का फैसला किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 21, 2019, 5:25 PM IST
  • Share this:
नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार ने जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) का विशेष दर्जा अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाकर खत्म कर दिया था. इसके बाद से पाकिस्तान (Pakistan) इस मुद्दे पर लगातार अंतरराष्ट्रीय समुदाय (International Community) का ध्यान खींचने का प्रयास कर रहा था. लेकिन अपने इन प्रयासों में उसे बुरी तरह से विफलता हाथ लगी थी. जिसके बाद पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) में इस मुद्दे को उठाने की बात कही थी. लेकिन भारत ने पाकिस्तान की इन धमकियों को बिल्कुल भाव नहीं दिया है.

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन (Syed Akbaruddin) ने एक चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा है कि प्रत्येक देश को उसके पास उपलब्ध प्रत्येक रास्ते को अपनाने का अख्तियार है. हमारी सोच भी अलग-अलग हैं. अगर वे हमसे अलग-अलग अखाड़ों में निपटना चाहते हैं, तो हम उसी अखाड़े में जवाब देंगे. यह उनकी पसंद का अखाड़ा है. उन्होंने एक बार कोशिश की, लेकिन वे नाकाम रहे."

अकबरुद्दीन ले रहे थे पाकिस्तान की चुटकी
दरअसल एक बार की पाकिस्तान की नाकाम कोशिश का जिक्र अकबरुद्दीन, कुलभूषण जाधव (Kulbhushan Jadhav) के संदर्भ में कर रहे थे. यानी अकबरुद्दीन ने न सिर्फ पाकिस्तान को भारत के इरादों के बारे में बताया बल्कि पाकिस्तान की जाधव मामले में हुई किरकिरी पर चुटकी भी ली है.
दरअसल, जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के फैसले के बाद ICJ में पाकिस्तान के अपील करने की बात पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कही थी. कुरैशी ने कहा था कि हमने सभी कानूनी पक्षों को ध्यान में रखते हुए ऐसा किया था. बता दें इससे पहले पाकिस्तान, कश्मीर के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् (UNSC) भी जा चुका है. जहां उसे परिषद के सदस्यों ने भी भाव नहीं दिया था और कश्मीर में उठाए गए भारत के कदम को द्विपक्षीय मुद्दा बताया था.



पाक की मदद कर चीन ने भी उड़वाई खिल्ली
बता दें कि पाकिस्तान अर्थव्यवस्था (Economy) के मोर्चे जबरदस्त संकट से जूझ रहा है लेकिन उस पर ध्यान देने के बजाए लगातार कश्मीर को लेकर अंतरराष्ट्रीय मुद्दा बनाने की कोशिश में जुटा हुआ है. इसी प्रयास के लिए पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी चीन गए थे. न्यूज इंटरनेशनल के अनुसार चीन जाने से पहले कुरैशी ने कहा भी था कि भारत अपने असंवैधानिक तौर-तरीकों से क्षेत्रीय शांति को बाधित करने पर आमादा है.

इसके अलावा कुरैशी ने चीन के पाकिस्तान का मित्र होने की बात भी कही थी. इसी के चलते चीन ने UNSC में पाक का साथ दिया था लेकिन वह वहां अकेला पड़ गया क्योंकि बाकी 14 सदस्यों में से किसी ने भी पाक का साथ नहीं दिया और इसे द्विपक्षीय मुद्दा बताया. इससे UNSC में न सिर्फ पाक बल्कि चीन की भी किरकिरी हो गई थी.

यह भी पढ़ें: आर्टिकल 370 हटने से बीजेपी की बल्ले-बल्ले, टूटे सारे रिकॉर्ड
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज