लाइव टीवी

कश्मीर: पाक के प्रोपेगेंडा की दुनियाभर में ऐसे हवा निकाल रहे भारतीय दूतावास

Shailendra Wangu | News18Hindi
Updated: October 11, 2019, 9:59 PM IST
कश्मीर: पाक के प्रोपेगेंडा की दुनियाभर में ऐसे हवा निकाल रहे भारतीय दूतावास
विदेशों में कश्मीर पर पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा का मुंहतोड़ जवाब दे रहे भारतीय दूतावास

विदेश मंत्रालय ने दुनिया भर में कश्मीर (Kashmir) को लेकर किए जा रहे पाकिस्तानी दुष्प्रचार (Propoganda) का मुंहतोड़ जवाब दिया है. भारतीय दूतावास ईमेल के ज़रिए कश्मीर के वास्तविक हालात विदेशों में रह रहे महत्वपूर्ण लोगों तक पहुंचा रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 11, 2019, 9:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. 5 अगस्त के बाद पाकिस्तान (Pakistan) लगातार कश्मीर (Kashmir) को लेकर दुष्प्रचार कर रहा है और इसके लिए वो किसी भी मंच का इस्तेमाल करने से पीछे नहीं हट रहा. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (United Nation Human rights) से लेकर सुरक्षा परिषद (Security Council) या इमरान खान (Imran Khan) का UNGA में संबोधन, हर मंच से पाकिस्तान ने अपने नकारात्मक रवैये के चलते कश्मीर की झूठी तस्वीर दुनिया के सामने रखने की नाकाम कोशिश की. लेकिन हर मंच पर पाकिस्तान को मुंह की ही खानी पड़ी, वजह है भारतीय विदेश मंत्रालय (Ministry of External affairs) की सकारात्मक पहल. पूरी दुनिया में पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को विफल करने और कश्मीर की असल तस्वीर को दुनिया के सामने रखने में विदेश मंत्रालय को बड़ी कामयाबी मिली है.

ईमेल से कश्मीर की सच्ची तस्वीर दुनिया के सामने
कश्मीर को लेकर पाकिस्तानी साज़िश का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारतीय दूतावास अहम भूमिका निभा रहे हैं. सूत्रों ने न्यूज़18 को बताया कि दुनियाभर में भारतीय दूतावास ईमेल के ज़रिए कश्मीर के हालात पर औपचारिक जानकारी उन देशों में रह रहे महत्वपूर्ण लोगों और समूहों तक पहुंचा रहे हैं. न्यूज़18 के पास ऐसे एक ईमेल की कॉपी है जोकि अमेरिका में भारतीय दूतावास ने अमेरिका में रह रहे प्रवासी भारतीयों को लिखी है. इस ईमेल में कश्मीर के ताज़ा हालात पर औपचारिक जानकारी दी गयी है, यह ईमेल 9 अक्टूबर कि शाम को भेजा गया है.

News - भारतीय दूतावास ईमेल के ज़रिए कश्मीर के वास्तविक महत्वपूर्ण हालात लोगों तक पहुंचा रहे हैं.
भारतीय दूतावास ईमेल के ज़रिए कश्मीर के वास्तविक महत्वपूर्ण हालात लोगों तक पहुंचा रहे हैं.


कश्मीर के हालात पर जानकारी
ईमेल में बताया गया है कि कश्मीर में आवश्यक सामग्री की कोई किल्लत नहीं है. खाने पीने और बच्चों की खुराक से जुड़ा सामान भी मौजूद है. हॉस्पिटल भी सामान्य रूप से काम कर रहे हैं और दवाइयों की कोई कमी नहीं है. कश्मीर में 10 ज़िला हॉस्पिटल, 33 सब-डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल और 222 प्राइमरी हेल्थ सेंटर, 604 सब-हेल्थ सेंटर लोगों का उपचार कर रहे हैं. राज्य में ATM भी काम कर रहे हैं और नकदी की कोई किल्लत नहीं. ईमेल में बताया गया है कि लैंडलाइन सेवा बहाल कर दी गयी है और 22 में से 14 ज़िलों में मोबाइल सेवा बहाल कर दी गई है, जिसमें हंदवाड़ा और कुपवाड़ा शामिल है.

मीडिया पर कोई प्रतिबंध नहीं
Loading...

ईमेल में बताया गया है कि मीडिया पर कोई प्रतिबंध नहीं है, 37 अंग्रेज़ी, 53 उर्दू और 2 कश्मीरी अखबार प्रकाशित हो रहे हैं. वहीं जुम्मे की नमाज़ के लिए भी कोई प्रतिबंध नहीं है. ईमेल में कश्मीर में 24 अक्टूबर में होने वाले BDC चुनाव की जानकारी भी दी गयी है. ईमेल में कहा गया है कि नज़रबंद कश्मीरी नेताओं को पार्टी के लोगों से मुलाकात करने की इजाज़त भी दी गई, जिसमें फ़ारूक़ अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती शामिल हैं.

News - ईमेल में बताया गया कि नज़रबंद कश्मीरी नेताओं को उनकी पार्टी के लोगों से मुलाकात करने की इजाज़त भी दी गई
ईमेल में बताया गया कि नज़रबंद कश्मीरी नेताओं को उनकी पार्टी के लोगों से मुलाकात करने की इजाज़त भी दी गई


भय का माहौल बना रहे आतंकी
ईमेल में इस बात की जानकारी दी गयी है कि कश्मीर में कोई बड़ी हिंसक घटना नहीं हुई, न ही एक भी गोली चलानी पड़ी. स्थानीय प्रदर्शनों को संयम के साथ निपटा जा रहा है. लेकिन हिज़बुल, जैश और लश्कर जैसे आतंकी संगठन कश्मीर में भय का माहौल बनाने की कोशिश में हैं और पोस्टर लगाकर युवाओं, सरकारी कर्मचारियों, दुकानदारों से हड़ताल में शामिल होने के लिए मजबूर किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें -
राम मंदिर मामला: मुस्लिम पक्ष मानता है कि हिंदुओं के केस जीतने पर बढ़ेगा सांप्रदायिक तनाव
LIVE: पंच रथ के बाद शोर मंदिर पहुंचे पीएम मोदी और शी जिनपिंग, सांस्कृतिक कार्यक्रम शुरू

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 7:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...