चीन से सीमा विवाद के बीच भारत ने म्यांमार के साथ तटीय शिपिंग समझौते को दिया अंतिम रूप

कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में मित्रवत पड़ोसी म्यांमार की मदद करने के लिए भारत से सू ची को ‘रेमडेसिवीर’ दवा की 3000 से अधिक शीशियां सौंपी. (Photo Courtesy- Twitter/@IndiainMyanmar)
कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में मित्रवत पड़ोसी म्यांमार की मदद करने के लिए भारत से सू ची को ‘रेमडेसिवीर’ दवा की 3000 से अधिक शीशियां सौंपी. (Photo Courtesy- Twitter/@IndiainMyanmar)

India-Myanmar: जनरल नरवणे और श्रृंगला का दौरा ऐसे समय में महत्वपूर्ण माना जा रहा है जब भारतीय सेना का पूर्वी लद्दाख में चीन की सेना के साथ सीमा पर गतिरोध जारी है तथा कोरोना वायरस महामारी के बीच विदेश यात्राओं पर पाबंदी भी लगी हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 5, 2020, 9:20 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चीन (China) से सीमा विवाद के बीच म्यांमार (Myanmar) के साथ भारत ने तटीय शिपिंग समझौते को अंतिम रूप दे दिया है. विदेश मंत्रालय (Ministry of External Affairs) ने कहा है कि आर्मी चीफ एम एम नरवणे (MM Narvane) और विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला (Forgien Seceratry Harsh Sringla) ने आग सांग सू की (Ang Sang Suu Kyi) से मुलाकात के बाद इस समझौते को अंतिम रूप दिया है. इसके अलावा द्विपक्षीय संबंधों के दूसरे मसलों पर भी चर्चा हुई. चीन से एलएसी विवाद (LAC Dispute) के बीच दोनों देशों के बीच सुरक्षा मसले पर भी चर्चा हुई और दोनों देशों के बीच चीन समर्थित विद्रोही समूह पर भी बैठक में चर्चा हुई और दोनों देशों ने प्रतिबद्धता जताई कि दोनों देश अपने क्षेत्र का इस्तेमाल एक दूसरे के खिलाफ गतिविधियों के लिये नहीं करने देंगे.

म्यंमार के रखाइन राज्य से बांग्लादेश (Bangladesh) में विस्थापित रोहिंग्या शरणार्थियों (Rohingya) की वापसी पर भी चर्चा हुई. म्यंमार और रखाइन राज्य से जुड़े प्रोजेक्ट को भी जल्द पूरा करने की उम्मीद भारत ने जताई है ताकि विस्थापितों की वापसी हो सके. भारत की तरफ से कोरोना वायरस (Coronavirus) से लड़ाई के लिये एकजुटता प्रदर्शित करने के लिये दवाईयां भी म्यांमार को दी गई हैं. भारत और म्यांमार ने मांडले में लोकमान्य तिलक (Lokmanya Tilak) की प्रतिमा भी उनके 100 पुण्यतिथि के मौके पर स्थापित करने की योजना पर चर्चा की. मांडले जेल में ही लोकमान्य तिलक ने गीता रहस्य लिखा था.

ये भी पढ़ें- कोरोना में लापरवाही की वजह से जिनकी जान गई, उन्हें महाराष्ट्र सरकार दे मुआवजा



भारतीय दूतावास ने ट्वीट किया भारतीय सेना प्रमुख और विदेश सचिव ने म्यांमार में भारत के राजदूत सौरभ कुमार के साथ सोमवार को सू ची के साथ मुलाकात की और महत्वपूर्ण द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा की. उसने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में मित्रवत पड़ोसी म्यांमार की मदद करने के लिए भारत से सू ची को ‘रेमडेसिवीर’ दवा की 3000 से अधिक शीशियां सौंपी.’’
‘रेमडेसिवीर’ का इस्तेमाल कोविड-19 के इलाज के लिए किया जाता है. कोरोना वायरस से संक्रमित अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को भी यही दवा दी जा रही है.

ये भी पढ़ें- Indian Railways ने भारत-पाक के बीच चलने वाली पुरानी ट्रेन को किया अपग्रेड

इसलिए महत्वपूर्ण है ये दौरा
जनरल नरवणे और श्रृंगला का दौरा ऐसे समय में महत्वपूर्ण माना जा रहा है जब भारतीय सेना का पूर्वी लद्दाख में चीन की सेना के साथ सीमा पर गतिरोध जारी है तथा कोरोना वायरस महामारी के बीच विदेश यात्राओं पर पाबंदी भी लगी हुई है.

यह जनरल नरवणे की पिछले साल 31 दिसम्बर को सेना प्रमुख के रूप में कामकाज संभालने के बाद पहली विदेश यात्रा होगी.

म्यांमार, भारत के रणनीतिक पड़ोसी देशों में से एक है जो उग्रवाद प्रभावित नगालैंड और मणिपुर समेत उत्तर पूर्व के कई राज्यों के साथ 1,640 किलोमीटर लंबी सीमा साझा करता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज