कोरोना काल में रेमडेसिविर इंजेक्‍शन की कमी दूर करने का भारत का शॉर्ट टर्म प्लान

रेमडेसिविर इंजेक्‍शन को लेकर चल रही है मारामारी. (File Pic)

रेमडेसिविर इंजेक्‍शन को लेकर चल रही है मारामारी. (File Pic)

Remdesivir: विदेश सचिव ने बताया कि मिस्र में रेमडेसिविर के दूसरे मैन्युफैक्चरर से भी संपर्क किया है और दूसरे देशों से संपर्क किया है जहां से रेमडेसिविर की कमी को पूरा किया जा सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2021, 6:14 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के मरीजों के इलाज में प्रभावी रेमडेसिविर इंजेक्शन (Remdesivir) की मांग कोरोना की दूसरी लहर में खूब बढ़ गई है. भारत में हर दिन 7 अधिकृत निर्माताओं की तरफ से 67 हजार प्रतिदिन रेमडेसिविर का उत्पादन होता है जबकि इस वक्त भारत में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए हर दिन 2 से 3 लाख तक रेमडेसिविर की जरूरत है. रेमडेसिविर की मांग और आपूर्ति को पूरा करने के लिए सरकार घरेलू स्तर के अलावा मौजूदा में मुख्य तौर पर विदेश पर निर्भर है.

विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला ने बताया कि जिलेड साइंसेज ने 450 हजार यानी 4.5 लाख रेमडेसीवर के डोज का ऑफर किया है जो कि मौजूदा संदर्भ में ज़रूरी है. जिलेड साइंसेज रेमडेसिविर बनाने वाली अमेरिकी कंपनी है.

विदेश मंत्रालय के मुताबिक भारत ने रेमडेसिविर के सभी स्रोत से संपर्क बढ़ाने की कोशिश की है. चाहे वो जिलेड साइंसेज के पास हो या उनके अधिकृत निर्माता हों. मिस्र और इजराइल में रेमडेसिविर के निर्माताओं से भारत ने संपर्क किया है. मिस्र से संपर्क किया ग़य्या है जहां से 4 लाख डोज आ सकता है. बांग्लादेश में भी प्रोडक्शन हो रहा है और उज्बेकिस्तान में भी स्टाक हैं. संयुक्त अरब अमीरात में भी स्टाक हैं जिसके संपर्क में भारत है ताकि जल्द से जल्द रेमडेसिविर देश में आ सके.

विदेश सचिव ने बताया कि मिस्र में रेमडेसिविर के दूसरे मैन्युफैक्चरर से भी संपर्क किया है और दूसरे देशों से संपर्क किया है जहां से रेमडेसिविर की कमी को पूरा किया जा सके.


घरेलू स्तर पर रेमडेसिविर बढाने की कोशिश!

विदेश सचिव ने कहा कि भारत मे रेमडेसिविर के निर्माता भी 67 हजार प्रतिदिन से प्रोडक्शन बढ़ाकर 3 से 4 लाख करने को तैयार हैं. निर्माताओं को कच्चा पदार्थ चाहिए. जिसके लिए अमेरिका और जिलेड साइंसेज की तरफ से आश्वासन मिला है कि वो हर चीज करने को तैयार है ताकि आवश्यकता की पूर्ति हो.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज