लद्दाख की गलवान घाटी में भारत ने चीन को दिया करारा जवाब, 43 चीनी सैनिक हताहत

 लद्दाख सीमा पर भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प.
लद्दाख सीमा पर भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प.

लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय सेना और चीनी सेना के बीच हिंसक झड़प हुई. इस झड़प में 3 जवान शहीद हुए और 17 घायल हुए, जिन्होंने बाद में दम तोड़ दिया. भारतीय सेना ने चीन के जवानों को करारा जवाब दिया. भारतीय सेना के जवाबी हमने में 43 सैनिक हताहत हुए. इसमें कई सैनिकों की मौत हो गई कई चीनी सैनिक घायल हुए. इन्हें चीनी हैलिकॉप्टर अपनी सीमा में उठाकर ले गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 16, 2020, 11:06 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) की गलवान घाटी (Galwan Valley) में भारतीय सेना और चीनी सेना के बीच हिंसक झड़प हुई. इस झड़प में 3 जवान शहीद हुए और 17 घायल हुए, जिन्होंने बाद में दम तोड़ दिया. भारतीय सेना (Indian Army) ने चीन के जवानों को करारा जवाब दिया. भारतीय सेना के जवाबी हमने में 43 सैनिक हताहत हुए. इसमें कई सैनिकों की मौत हो गई कई चीनी सैनिक घायल हुए. इन्हें चीनी हैलिकॉप्टर अपनी सीमा में उठाकर ले गए.

सूत्रों ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को बताया कि इस घटना के बाद से ही LAC पर चीनी हेलिकॉप्टर गतिविधि में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है. बताया जा रहा है कि ये हेलिकॉप्टर, गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में मारे गये चीनी सैनिकों को लेने के लिए आ रहे हैं.

20 जवान हुए शहीद
पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में हुई इस झड़प में भारतीय सेना के भी 20 जवान शहीद हुए हैं. एएनआई के मुताबिक भारतीय और चीनी सैनिक पहले 15-16 जून 2020 की रात को भिड़ गये थे तब उन्हें अलग किया गया. सेना ने बयान में कहा कि जान गंवाने वाले 20 में से 17 सैनिक गतिरोध वाले स्थान पर, शून्य से नीचे तापमान में ड्यूटी के दौरान गंभीर रूप से घायल हो गए थे. भारतीय सेना ने कहा है कि हम राष्ट्र की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा के लिए दृढ़ता से प्रतिबद्ध हैं.
संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने कहा- संयम बरतें


भारत और चीन के बीच जारी तनातनी पर संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने प्रतिक्रिया दी है.  गुटेरेस ने कहा है, "हम वास्तविक सीमा रेखा (LAC) पर हुई हिंसा और मौतों की रिपोर्ट को लेकर चिंतित हैं. हम दोनों ही पक्षों से अधिकतम संयम बरतने की गुजारिश करते हैं."

वहीं भारत चीन के बीच जारी तनाव को लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि दोनों देशों के बीच सैन्‍य और कूटनीतिक स्‍तर पर बातचीत जारी है. तनाव को कम करने की कोशिश की जा रही है.

विदेश मंत्रालय ने कहा- हिंसा से बचा जा सकता था
अनुराग श्रीवास्‍तव ने कहा कि भारत और चीन के सीनियर कमांडरों के बीच 6 जून को बैठक हुई थी. इसके बाद ग्राउंड स्‍तर के कमांडरों के बीच कई बैठकें हुईं. उन्‍होंने कहा क‍ि इन सब बातचीत के बीच हमें उम्‍मीद थी कि सब अच्‍छा होगा.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने कहा क‍ि गलवान घाटी में चीनी सेना एलएसी का सम्‍मान करते हुए पीछे हटने लगी थी. लेकिन 15 जून को चीन के द्वारा स्थिति बदलने लगी, जिसके बाद हिंसक झड़प हो गई. इस झड़प में दोनों पक्षों के लोग हताहत हुए हैं. हालांकि इससे बचा जा सकता था.

ये भी पढ़ें-
भारत से मनोवैज्ञानिक युद्ध हारने के बाद चीन बौखलाहट में उठा रहा है कदम?

एलएसी पर गलवान घाटी में भारत के 20 जवान शहीद, चीन के 43 सैनिक हताहत
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज