कौन हैं मल्लू Cyber Soldiers, जो अब पाकिस्तान के बाद चीन के हैकर्स को देंगे जवाब

मल्लू साइबर सोल्जर्स का 5 साल से भी ज़्यादा पुराना ग्रुप है.
मल्लू साइबर सोल्जर्स का 5 साल से भी ज़्यादा पुराना ग्रुप है.

क्विक हील की साइबर सिक्योरिंग विंग की इस रिपोर्ट के बाद कि पाकिस्तानी हैकर्स (Pakistani Hackers) चीनी हैकर्स को भारत पर साइबर अटैक (Cyber Attack) के मामले में मदद कर रहे हैं मल्लू सोल्जर्स ने उनको करारा जवाब देने का फैसला किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 29, 2020, 1:29 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चीनी हैकर्स (Chinese Hackers) की गतिविधियों के बाद अब एक बार फिर से मल्लू साइबर सोल्जर्स (Mallu Cyber Soldiers) सुर्खियों में हैं. यह वहीं मल्लू साइबर सोल्जर्स हैं जो आए दिन वक्त पड़ने पर पाकिस्तानी हैकर्स को मुंह तोड़ जवाब देते हैं. अगस्त 2020 में भी पाकिस्तान के डॉन अखबार में मल्लू सोल्जर्स के कारनामे छपे हैं. अब यह साइबर सोल्जर्स चीनी हैकर्स को जवाब देने की तैयारी में हैं. क्विक हील की साइबर सिक्योरिंग विंग की इस रिपोर्ट के बाद कि पाकिस्तानी हैकर्स (Pakistani Hackers) चीनी हैकर्स को भारत पर साइबर अटैक (Cyber Attack) के मामले में मदद कर रहे हैं मल्लू सोल्जर्स ने यह फैसला किया है.

इन कामों से सुर्खियों में आते रहे हैं मल्लू साइबर सोल्जर्स
केरल में आठ से दस युवाओं का मल्लू साइबर सोल्जर्स के नाम से एक ग्रुप है. ग्रुप में लड़के-लड़कियां दोनों हैं. पहली बार ये ग्रुप पाकिस्तान की बेवसाइट हैक करने के बाद सुर्खियों में आया था. बेवसाइट हैक करने की खबर पाकिस्तान में भी न्यूज चैनलों की सुर्खियां बनी थीं. उन्होंने पाक की करीब 80 बेवसाइट हैक करके उस पर भारतीय राष्ट्रगान चलाया था. किसी बेवसाइट पर तिरंगा फहराया था.

यह भी पढ़ें- West UP में जमकर हो रही है इस अधिकारी की तारीफ, महिलाओं को ऐसे दे रहे हैं रोज़गार




मई 2017 में कश्मीरी पत्थरबाजों और पाकिस्तान के संबंधों को लेकर खुलासा किया था. अगर ताजे मामले पर निगाह डालें तो 12 अगस्त 2020 को पाकिस्तान के अखबार डॉन में एक खबर छपी है. खबर यह है कि भारतीय हैकर्स पाकिस्तान के सैन्य और दूसरे अधिकारियों के गैजेट्स को टॉरगेट कर रहे हैं.

Indian, Mallu Cyber Soldiers, chinese Hackers, Pakistan, kashmir, dawn, भारतीय, मल्लू साइबर सैनिक, चीनी हैकर्स, पाकिस्तान, काशमीर, डान
मल्लू साइबर सोल्जर्स अपने अटैक से पाकिस्तानियों को परेशान करता रहता है.


यह भी पढ़ें- इन आंकड़ों के दम पर कहती है Delhi की केजरीवाल सरकार- हमारी पढ़ाई औरों से अच्छी

हाल ही में हुआ था यह साइबर अटैक
खतरनाक साइबर अटैक कैंपेन ऑपरेशन साइडकॉपी के पीछे संदेहास्पद पाकिस्तान हैकर ग्रुप ट्रांसपरेंट ट्राइब का हाथ होने की बात सामने आ रही है. इस साइबर अटैक के जरिए भारत का इंफ्रास्ट्रक्चर संबंधी और रणनीतिक डेटा चुराने की कोशिश की जा रही है. क्विक हील की साइबर सिक्योरिंग विंग के मुताबिक इस साइबर अटैक में इस्तेमाल किए गए सिग्नेचर टूल्स इस अटैक में ट्रांसपैरेंट ट्राइब की संलिप्तता की तरफ इशारा करते हैं. ऐसे इशारे मिल रहे हैं कि ट्रांसपैरेंट ट्राइब के हैकर भारत का डेटा चुराने में चीन की मदद कर रहे हैं.

यह था हमलों का मकसद
न्यूज18 से बातचीत में क्विक हील सिक्योरिटी लैब्स के डायरेक्टर हिमांशु दुबे ने बताया कि साइड कॉपी साइबर अटैक 2019 से ही लगातार जारी हैं. ये अटैक मुख्य रूप से भारत पर ही किए जा रहे हैं. इन हमलों के केंद्र में डेटा की चोरी है. जिस तरह से ये साइबर अटैक किए जा रहे हैं वो भारत की साइबर सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज