आयुर्वेद के डॉक्टरों को सर्जरी का अधिकार मिलने से IMA नाखुश, बोला- गंभीर परिणाम दिखेंगे

आयुर्वेद के डॉक्टरों को सर्जरी का अधिकार मिलने से IMA नाखुश
आयुर्वेद के डॉक्टरों को सर्जरी का अधिकार मिलने से IMA नाखुश

सरकार से हरी झंडी मिलने के बाद भारतीय चिकित्सा केंद्रीय परिषद (Central Council of Indian Medicine) ने नोटिफिकेशन जारी कर बताया है कि आयुर्वेद के डॉक्टर (Ayurveda Doctor) अब 58 तरह की सर्जरी कर सकेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 22, 2020, 3:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत सरकार की ओर से आयुर्वेद के डॉक्टरों (Ayurveda Doctor) को सर्जरी का अधिकार दिए जाने का भारतीय चिकित्सा संघ (Indian Medical Association) ने विरोध करना शुरू कर दिया है. एमआईए ने इस फैसले को मेडिकल संस्थानों में चोर दरवाजे से इंट्री का प्रयास बताते हुए कहा है ​कि इससे अब NEET जैसी परीक्षाओं का महत्व पूरी तरह से खत्म हो जाएगा. बता दें कि सरकार से हरी झंडी मिलने के बाद भारतीय चिकित्सा केंद्रीय परिषद (Central Council of Indian Medicine) ने नोटिफिकेशन जारी कर बताया है कि आयुर्वेद के डॉक्टर अब 58 तरह की सर्जरी कर सकेंगे.

इंडियन मेडिकल असोसिएशन ने सीसीआईएम के इस फैसले पर नाराजगी जताते हुए इसे पूरी तरह से एकतरफा बताया है. भारतीय चिकित्सा संघ की ओर से बयान जारी किया गया है कि अगर सीसीआईएम ने आईएमए की खींची हुई लक्ष्मण रेखा को लांघने की कोशिश की तो घातक परिणाम सामने आएंगे. आईएमए,सीसीआईएम को सलाह देते हुए कहा कि वह अपने प्राचीन ज्ञान के आधार पर सर्जरी का अपना नया तरीका इजाद करे और आधुनिक चिकित्सा शास्त्र पर आधारित प्रक्रिया से पूरी तरह से दूरी बनाकर रखे.

इंडियन मेडिकल असोसिएशन ने सरकार से मांग की है कि वह आधुनिक चिकित्सा शास्त्र के डॉक्टरों की पोस्टिंग भारतीय चिकित्सा के कॉलेजों में नहीं करें. उन्होंने कहा कि अगर चोर दरवाजे से आयुर्वेद के डॉक्टरों को सर्जरी की छूट दी जाएगी तो NEET का महत्व पूरी तरह से खत्म हो जाएगा.
इसे भी पढ़ें :- केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, आयुर्वेद के डॉक्टर भी अब कर सकेंगे सर्जरी



आयुर्वेद के डॉक्टर अब 58 तरह की सर्जरी कर सकेंगे
सरकार के नोटिफिकेशन के मुताबिक आयुर्वेद के पीजी के छात्रों को आंख, नाक, कान, गले के साथ ही जनरल सर्जरी के लिए विशेष रूप से प्रशिक्षित किया जाएगा. सरकार की ओर से जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक इन छात्रों को ग्लुकोमा, मोतियाबिंद हटाने, स्तन की गांठों, अल्सर और पेट से बाहरी तत्वों की निकासी जैसा कई सर्जरी करने का अधिकार होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज