कोरोना की दूसरी लहर में अब तक 719 डॉक्‍टरों की हुई मौत, सबसे ज्‍यादा बिहार से

कोरोना की दूसरी लहर में अब तक 719 डॉक्‍टरों की गई जान. (प्रतीकात्मक फोटो)

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) की ओर से जानकारी दी गई है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) की चपेट में आने से सबसे ज्‍यादा बिहार में 111, दिल्‍ली में 109, उत्‍तर प्रदेश में 79 और पश्चिम बंगाल में 63 डॉक्‍टरों को अपनी जान गंवानी पड़ी है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. कोरोना संक्रमण (Corona Infection) की दूसरी लहर (Second Wave) ने पूरे देश में कोहराम मचाया हुआ है. कोरोना (Corona) की दूसरी लहर के संक्रमण की चपेट में आने से अब तक 719 डॉक्‍टरों की मौतहो चुकी है. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) की ओर से जानकारी दी गई है कि कोरोना वायरस की चपेट में आने से सबसे ज्‍यादा बिहार में 111, दिल्‍ली में 109, उत्‍तर प्रदेश में 79 और पश्चिम बंगाल में 63 डॉक्‍टरों को अपनी जान गंवानी पड़ी है. आईएमए के मुताबिक पिछले साल कोरोना संक्रमण की चपेट में आने से 748 डॉक्‍टरों की जान गई थी.

    बता दें कि समय समय पर आईएमए डॉक्‍टरों से जुड़ी जानकारी देता रहता है. इससे पहले आईएमए ने 3 जून को बताया था कि कोरोना की दूसरी लहर में अब तक 624 डॉक्‍टरों की जान जा चुकी है. आईएमए की ओर दी गई जानकारी के मुताबिक कोरोना की दूसरी लहर के दौरान झारखंड में 39, तमिलनाडु में 32, केरल में 24, राजस्थान में 43, ओडिशा में 28, झारखंड में 39, गुजरात में 37, महाराष्‍ट्र में 23, तेलंगानाम में 36 जबक‍ि मध्‍य प्रदेश में 16 डॉक्‍टरों की मौत हो चुकी है.



    डॉक्‍टरों की मौत के बारे में सवाल उठाए जाने के बावजूद आईएमए ने डॉक्‍टरों की वैक्‍सीनेशन की स्थिति के बारे में कोई भी जानकारी देने से इनकार कर दिया है. बता दें कि देश में फ्रंट लाइन पर मौजूद हेल्‍थकेयर वर्कर्स के लिए वैक्‍सीनेशन की शुरुआत 16 जनवरी को कर दी गई थी.

    इसे भी पढ़ें :- IMA ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, चिकित्सकों के लिए ‘बेहतर माहौल’ सुनिश्चित करने की रखी मांग

    बलिदानी डॉक्‍टरों को मिले कोविड शहीद का दर्जा
    आईएमए ने कहा कि कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में जान गंवाने वाले डॉक्टरों को उनके बलिदान के लिए कोविड शहीद का दर्जा दिया जाना चाहिए और उनके परिवारों को सरकार द्वारा उचित समर्थन दिया जाना चाहिए. आईएमए ने कहा कि कोविड-19 के बाद लंग फाइब्रोसिस यानी फेफड़ों के सिकुड़न और फंगल संक्रमण की जटिलताएं बढ़ रही हैं और सभी को इसके लिए तैयार रहने की जरूरत है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.