'वेलकम टू द इंडियन ओशन, हैप्पी लैंडिंग'- नौसेना ने कुछ यूं किया राफेल का स्वागत

'वेलकम टू द इंडियन ओशन, हैप्पी लैंडिंग'- नौसेना ने कुछ यूं किया राफेल का स्वागत
राफेल विमानों (Rafale Fighter Jets) का पहला बेड़ा बुधवार दोपहर हरियाणा स्थित अंबाला एयरबेस पर उतरेगा. पांच राफेल विमानों को 17 गोल्डन एरो स्क्वाड्रन के कमांडिंग आफिसर ग्रुप कैप्टन हरकीरत सिंह की अगुआई में पायलट फ्रांस से लेकर भारत आ रहे हैं.

राफेल विमानों (Rafale Fighter Jets) का पहला बेड़ा बुधवार दोपहर हरियाणा स्थित अंबाला एयरबेस पर उतरेगा. पांच राफेल विमानों को 17 गोल्डन एरो स्क्वाड्रन के कमांडिंग आफिसर ग्रुप कैप्टन हरकीरत सिंह की अगुआई में पायलट फ्रांस से लेकर भारत आ रहे हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय वायुसेना (Indian Air force) बुधवार को आधुनिकता की एक और सीढ़ी चढ़ेगी. फ्रांस निर्मित राफेल (Rafale) अब से कुछ देर में हरियाणा स्थित अंबाला में वायुसेना के बेस पर लैंड करने वाला है. संयुक्त अरब अमीरात से उड़ान भरने के कुछ देर बाद ही पांचों राफेल विमान भारतीय वायुसीमा में पहुंचे.

जिसके बाद INS कोलकाता कंट्रोल रूम से उनका भारत में स्वागत किया गया. जब राफेल के पांचों विमान अरब सागर से निकले, तो INS कोलकाता के कंट्रोल रूम से स्वागत किया गया. INS कोलकाता ने राफेल के पायलट से कहा- 'इंडियन नेवल वॉर शिप डेल्टा 63 वेलकम टू द इंडियन ओशन.... ( हिंद महासागर में आपका स्वागत है.).' इसके जवाब में राफेल के पायलट ने कहा- 'बहुत धन्यवाद. यह संतुष्ट करने वाला है कि इन सीमाओं पर भी आप तैनात हैं.' INS कोलकाता कंट्रोल रूम से जवाब मिला- 'डेल्टा 63 ऐरो लीडर. मे यू टच द स्काई विद ग्लोरी, हैप्पी लैंडिंग.'


आज अंबाला पहुंचेंगे पांच राफेल विमान
राफेल विमान भारत द्वारा पिछले दो दशक से अधिक समय में लड़ाकू विमानों की पहली बड़ी खरीद है. इन विमानों के आने से भारतीय वायुसेना की युद्धक क्षमता में महत्वपूर्ण रूप से बढ़ोतरी होने की संभावना है. भारत ने 23 सितंबर 2016 को फ्रांसीसी एरोस्पेस कंपनी दसॉ एविएशन से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने के लिए 59,000 करोड़ रुपये का सौदा किया था.



इन विमानों को बुधवार दोपहर में भारतीय वायुसेना में स्क्वाड्रन नंबर 17 में शामिल किया जाएगा, जिसे 'गोल्डन एरोज' के नाम से भी जाना जाता है. हालांकि, इन विमानों को औपचारिक रूप से भारतीय वायुसेना में शामिल करने के लिए मध्य अगस्त के आसपास समारोह आयोजित किया जा सकता है जिसमें रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और देश के शीर्ष सैन्य अधिकारियों के शामिल होने की उम्मीद है.



भारत ने जो 36 राफेल विमान खरीदे हैं उनमें से 30 विमान लड़ाकू जबकि छह प्रशिक्षक विमान हैं. अंबाला एयरबेस को भारतीय वायुसेना का महत्वपूर्ण बेस माना जाता है, क्योंकि यहां से भारत-पाकिस्तान सीमा महज 220 किलोमीटर की दूरी पर है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading