Home /News /nation /

मुंबई में पश्चिम रेलवे बना रहा है पहला हाईटेक कंट्रोल रूम, जानें क्या है इसकी खासियत

मुंबई में पश्चिम रेलवे बना रहा है पहला हाईटेक कंट्रोल रूम, जानें क्या है इसकी खासियत

कंट्रोल रूम से ही अब मुम्बई की लोकल ट्रेनों को भी कंट्रोल किया जा सकेगा.(फाइल फोटो)

कंट्रोल रूम से ही अब मुम्बई की लोकल ट्रेनों को भी कंट्रोल किया जा सकेगा.(फाइल फोटो)

कंट्रोल रूम (Control Room) में लगाई गई तीसरी स्क्रीन पर रेलवे (Railway) से जुड़े सभी विभागों के बीच समन्वय बनाने के लिए डैशबोर्ड (Dashboard) बनाया गया है, जिसके जरिए कंट्रोल रूम में बैठा शख्स ट्रेनों के परिचालन, पावर, सिक्योरिटी सहित तमाम विभागों की ताजा रिपोर्ट एक क्लिक पर देख सकता है

अधिक पढ़ें ...

मुंबई: मुंबई में ट्रेनों के परिचालन को और बेहतर व सुरक्षित बनाने, रेलवे (Railway) के विभिन्न विभागों के बीच बेहतर समन्वय स्थापित करने और किसी भी आपात स्थिति (Emergency Situation) से फौरन निपटने के लिए पश्चिम रेलवे अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस हाईटेक कंट्रोल रूम (Hi-Tech Control Room) विकसित कर रहा है. यह कंट्रोल रूम यूनीफाइड कमांड एंड कंट्रोल सिस्टम से लैस होगा, जिसके जरिए न सिर्फ ट्रेनों का परिचालन सुरक्षित और अच्छे तरीके से किया जा सकेगा. इसके साथ ही आपात स्थिति में राज्य की सुरक्षा एजेंसियों से तुरंत संपर्क कर मदद ली जा सकेगी. रेलवे में इस तरह का यह पहला सिस्टम होगा.

कंट्रोल रूम में होंगी चार स्क्रीन 
पहली 2 स्क्रीन पर पश्चिम रेलवे के कुल 30 स्टेशन पहली बार एक साथ सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में होंगे. इस कंट्रोल रूम के जरिये हर एक स्टेशन की निगरानी अंदर बैठा RPF का जवान कर सकेगा. इससे आपराधिक घटनाओं को रोकने में मदद तो मिलेगी ही, साथ ही किसी भी आपात स्थिति जैसे बाढ़, ट्रेन हादसा या किसी अन्य प्रकार की घटना का इनपुट मिलने के बाद डिजास्टर मैनेजमेंट, पुलिस, फायर ब्रिगेड, कोस्ट गार्ड सहित तमाम एजेंसियों को अलर्ट भेज मदद पहुचाई जा सकेगी.

कंट्रोल रूम में लगाई गई तीसरी स्क्रीन पर रेलवे से जुड़े सभी विभागों के बीच समन्वय बनाने के लिए डैशबोर्ड बनाया गया है, जिसके जरिए कंट्रोल रूम में बैठा शख्स ट्रेनों के परिचालन, पावर, सिक्योरिटी सहित तमाम विभागों की ताजा रिपोर्ट एक क्लिक पर देख सकता है और उसके हिसाब से प्लानिंग कर सकता है.

चौथी स्क्रीन लोकल ट्रेन को करेगी कंट्रोल
कंट्रोल रूम की चौथी स्क्रीन पूरी तरह से मुंबई की लोकल ट्रेनों के परिचालन से जुड़ी है. इस स्क्रीन के जरिए कंट्रोल रूम में बैठा शख्स को हर स्टेशन पर पहुंचने वाली और स्टेशन छोड़ने वाली लोकल के बारे में जानकारी मिलती रहेगी. इतना ही नही, कंट्रोल रूम से ही अब मुंबई की लोकल ट्रेनों को कंट्रोल करने के अलावा पश्चिम रेलवे के वलसाड और नांदुरबार सेक्शन को भी कंट्रोल किया जा सकेगा. यानी मुंबई में बैठकर इन दोनो सेक्शन में आने वाले स्टेशन के स्टेशन मास्टर से एक बटन दबाते ही संपर्क हो जाएगा.

रेलवे का पहला हाईटेक कंट्रोल रूम
पश्चिम रेलवे के CPRO सुमित ठाकुर ने बताया कि इस तरह का रेलवे में पहला कंट्रोल रूम होगा, जिसका उद्देश्य ट्रेन परिचालन से जुड़े विभागों को एक छत के नीचे लाना है, ताकि समन्वय स्थापित हो सके. इस कंट्रोल रूम के बनने से न सिर्फ ट्रेनों का परिचालन बेहतर होगा,बल्कि सुरक्षित भी रहेगा.

हादसों और अपराधों को रोकना पहला मकसद
दरअसल इस Unified commond and Control Center को बनाने के पीछे की वजह ट्रेनों के परिचालन से जुड़ी हर एक चीज को एक छत के नीचे लाना है और तमाम अत्याधुनिक तकनीकी चीजों का इस्तेमाल और विभागों के बीच बेहतर समन्वय स्थापित करके हादसों और अपराधों को होने से रोकना है. मौजूदा समय में सिग्नल फेल होने, वायरहेड टूटने और पावर कट होने की स्थिति में ट्रेनों को ज्यादा समय तक रोकना पड़ता है और किसी आपात स्थिति में यात्रियों को मदद पहुंचने में समय लगता है. इसी तरह की स्थिति से निपटने के लिए पहली बार इस तरह का कंट्रोल रूम बनाया जा रहा है.

पश्चिम रेलवे के मुंबई डिवीजन में बनाए जा रहे इस हाईटेक कंट्रोल रूम का निर्माण कार्य बिल्कुल अंतिम चरण में है और इसी महीने के अंत मे रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव इसका उद्घाटन कर सकते हैं. रेलवे अधिकारियों की माने तो आने वाले दिनों ने इसी तरह का कंट्रोल रूम बाकी जोनल रेलवे में भी बनाया जाएगा.

Tags: Indian railway, Maharashtra, Mumbai, Mumbai Local Trains, Western railways

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर