कर्मचारियों की छंटनी की तैयारी पर रेलवे ने दिया यह जवाब

रेलवे ने इस संबंध में स्पष्टीकरण जारी कर इसे रूटीन प्रक्रिया बताया है. रेलवे की तरफ से ट्वीट में बताया गया है कि हर साल की तरह इस साल भी यही निर्देश जारी किया गया है.

News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 2:19 PM IST
कर्मचारियों की छंटनी की तैयारी पर रेलवे ने दिया यह जवाब
भारतीय रेलवे ने तीन लाख रेलवे कर्मचारियों की छंटनी की तैयारी कर ली है (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 2:19 PM IST
भारतीय रेलवे कामचोरी करने वाले कर्मचारियों की छंटनी की तैयारी में है. पीटीआई- भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, रेलवे ने तमाम जोनल ऑफिस से ऐसे कर्मचारियों की लिस्ट तैयार करने को कहा है. समाचार एजेंसी ने रेल मंत्रालय से जुड़े एक सूत्र के हवाले से बताया है कि एक निर्देश जारी किया गया, जिसमें ऐसे लोगों की लिस्ट बनाने के लिए कहा गया है जो कि 55 साल की उम्र पार कर चुके हैं या 2020 की पहली तिमाही तक रेलवे में उनकी नौकरी के 30 साल पूरे हो गए हैं.

हालांकि इस संबंध में रेलवे की तरफ से मंगलवार को स्पष्टीकरण जारी कर इसे रूटीन प्रक्रिया बताया गया है. रेलवे की तरफ से ट्वीट में बताया गया है कि हर साल की तरह इस साल भी यही निर्देश जारी किया गया है. इसके साथ ही उसने बताया कि वर्ष 2014 से 19 के बीच विभिन्न श्रेणियों में  1,84,262 कर्मचारियों की भर्ती की गई है. वहीं दो लाख 83 हजार 637 पदों पर भर्ती प्रक्रिया चल रही है, जिसमें से करीब डेढ़ लाख पदों के लिए परीक्षा पूरी हो चुकी है और बाकी की प्रक्रिया अगले दो महीने में पूरी कर ली जाएगी.


वहीं रिपोर्ट के मुताबिक, रेलवे बोर्ड ने जोनल ऑफिसों को जो पत्र भेजा है, उसके अनुसार, ज़ोनल रेलवेज से गुजारिश की गई है कि वे अपने स्टाफ का एक सर्विस रिकॉर्ड तैयार करें, जिसके साथ उनका प्रोफार्मा संलग्न किया हुआ हो. इस रिकॉर्ड में उन कर्मचारियों को शामिल किया जाए जो अपनी 55 साल की उम्र पार कर चुके हों या 2020 की पहली तिमाही तक रेलवे में 30 साल नौकरी कर पेंशन पाने के योग्य हो चुके हों. पत्र में कहा गया है कि इन दोनों ही क्राइटेरिया में आने वाले लोगों की एक लिस्ट तैयार की जाए. 2020 की पहली तिमाही का मतलब पत्र में साफ करते हुए इसे जनवरी से मार्च, 2020 बताया गया है.
Loading...

9 अगस्त तक जोनल ऑफिस भेज देंगे लिस्ट
रेलवे का यह पत्र 27 जुलाई को जारी किया गया है क्योंकि इसमें यही तारीख पड़ी हुई है. साथ ही इसमें रेलवे बोर्ड ने जोनल ऑफिसों के लिए लिस्ट भेजने की आखिरी तारीख 9 अगस्त तय की है.

रेलवे से जुड़े एक सूत्र ने बताया है यह एक समय-समय पर किया जाने वाला रिव्यू है जिसके जरिए उन कर्मचारियों की पहचान की जाती है जो ठीक से काम नहीं कर रहे होते और उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उन्हें समय से पहले रिटायर किया जाता है. यह सरकार इस तरह की कार्रवाईयों को लेकर काफी सीरियस है.

इस तरह की कार्रवाई के लिए संजीदा है सरकार
लोकसभा को हाल ही में यह जानकारी दी गई थी कि अलग-अलग सरकारी विभागों में काम करने वाले ग्रुप-A और ग्रुप-B के 1.19 लाख से भी ज्यादा अफसरों की परफॉर्मेंस की जांच की गई थी. ऐसा समय से पहले रिटायरमेंट वाले नियम के तहत किया गया था.



रेलवे से जुड़े सूत्रों के मुताबिक फिलहाल रेलवे में 13 लाख कर्मचारी हैं और मंत्रालय चाहता है कि इस संख्या को घटाकर 2020 तक 10 लाख तक लाया जा सके.

कर्मचारियों के बारे में ये जानकारियां भेजेंगे जोनल ऑफिस
जोनल रेलवे अफसरों से कर्मचारियों के मानसिक और शारीरिक फिटनेस, उनकी अटेंडेंस और अनुशासन के बारे में जानकारियां मांगीं गई हैं.

इसके अलावा एक और सेक्शन है, जिसमें पूछा गया है कि कर्मचारी का संसाधनों के खर्च को लेकर क्या रवैया है. वह पत्र-व्यवहार/ मेल आदि कर पाता है या नहीं और उसके व्यवहार का भी मूल्यांकन किया जाना है. (भाषा इनपुट के साथ)

यह भी पढे़ं: आयुष्मान भारत के बिना भी गंभीर बीमारियों का मुफ्त इलाज संभव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 30, 2019, 7:28 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...