क्या ट्रेन में चढ़ने के लिए कोरोना टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट देनी होगी? रेलवे चेयरमैन ने दिया जवाब

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन सुनीत शर्मा ने कहा, ‘जो लोग यात्रा करना चाहते हैं, उनके लिए ट्रेनों की कोई कमी नहीं है.'

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन सुनीत शर्मा ने कहा, ‘जो लोग यात्रा करना चाहते हैं, उनके लिए ट्रेनों की कोई कमी नहीं है.'

Indian Railways: रेलवे ने कहा, लोगों से अनुरोध है कि वे पैनिक न करें और स्टेशनों पर भीड़ न करें, केवल 90 मिनट पहले ही स्टेशन पहुंचे. रेलवे वेटिंग लिस्ट पर लगातार निगाह रखे हुए हैं. जैसी आवश्कता होगी उस हिसाब से अतिरिक्त स्पेशल ट्रेनें चलाई जाएंगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 16, 2021, 4:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. रेलवे बोर्ड (Railway Board) के चेयरमैन सुनीत शर्मा ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बताया कि किसी भी राज्य ने ट्रेनों को बंद करने या फिर इसके स्टॉपेज कम करने के लिए नहीं कहा है. मौजूदा समय में ट्रेन की सर्विस पहले की तरह जारी रहेगी. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन सुनीत शर्मा ने कहा कि जो लोग यात्रा करना चाहते हैं, उनके लिए ट्रेनों की कोई कमी नहीं है. मैं सभी को आश्वस्त करना चाहता हूं कि मांग के अनुसार ट्रेनें चलाई जाएंगी.

सुनीत शर्मा ने कहा, 'इन महीनों में रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों की संख्या सामान्य देखी गई, हम जरूरत के अनुसार ट्रेनों की संख्या बढ़ाएंगे. यात्रियों की बड़ी संख्या होने की वजह से, हम कोरोना वायरस से संक्रमित न होने की पुष्टि करने वाली रिपोर्ट नहीं मांग सकते.' उन्होंने कहा कि फिलहाल रेल सेवाओं को रोकने या कम करने की कोई योजना नहीं है.

श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाने पर विचार नहीं

रेलवे यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग कर रहा है और कोविड प्रोटोकॉल (Covid protocol) का पालन नहीं करने के लिए जुर्माना राशि को भी अधिसूचित किया है. रेलवे बोर्ड ने कहा कि श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को चलाने पर अभी कोई विचार नहीं किया गया है और कहा कि जहां भी मांग और आवश्यकता होगी वहां ट्रेनें चलाने पर विचार किया जाएगा.
प्लेटफॉर्म टिकटों की कीमत बढ़ाई

बोर्ड ने यह भी कहा कि प्लेटफ़ॉर्म पर भीड़ कम करने के लिए कई स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकटों की कीमत बढ़ाई गई है. बोर्ड ने कहा कि हमारे पास देश भर के विभिन्न स्थानों पर COVID-19 के लिए 4,000 आइसोलेशन कोच हैं. हमें महाराष्ट्र के नंदुरबार से 100 से अधिक कोच और 20 आइसोलेशन कोच उपलब्ध कराए जाने की मांग की है.

इन राज्यों पर नजर बनाए हुए है रेलवे बोर्ड



रेलवे बोर्ड ने कहा कि मुंबई, गुजरात, कर्नाटक राज्य पर रेलवे नजर बनाए हुए है और जिन राज्यों में ट्रेनों की अधिक मांग आएगी जोनल महाप्रबंधक वहां अधिक ट्रेनों के संचालन के लिए अधिकृत होंगे. बोर्ड ने कहा कि मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि सेवाओं में कोई कमी नहीं है, स्थिति काफी सामान्य है विशेष रूप से मुंबई, सूरत और बेंगलुरु में.

रेलवे बोर्ड ने कहा कि उत्तर प्रदेश के गोरखपुर, लखनऊ, वाराणसी, मंडुआडीह, प्रयागराज, बिहार के पटना, भागलपुर, दरभंगा, बरौनी, झारखंड के बोकारो, रांची, असम जैसे ज्यादा मांग वाले स्थानों के लिए ट्रेनें संचालित की जा रही हैं. रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने कहा कि राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर ने 12 से 16 अप्रैल तक दिल्ली और मुंबई के बीच 42 ट्रेनों का संचालन किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज