अब समय से पहुंचेगी आपकी ट्रेन, भारतीय रेलवे कर रहा है ये बड़े बदलाव

इस योजना को अगले 2 साल में पूरा किए जाने की उम्मीद है. रेलवे ने कहा है कि यह कदम ट्रेनों की औसत स्पीड को भी बढ़ा देगा.

News18Hindi
Updated: June 19, 2019, 9:48 PM IST
अब समय से पहुंचेगी आपकी ट्रेन, भारतीय रेलवे कर रहा है ये बड़े बदलाव
भारतीय रेलवे ने अपने सिग्नलिंग सिस्टम को अपग्रेड करने का फैसला लिया है (प्रतीकात्मक तस्वीर)
News18Hindi
Updated: June 19, 2019, 9:48 PM IST
इंडियन रेलवे ने अपने सिग्नलिंग सिस्टम में विश्वस्तर पर बदलाव करने का फैसला किया है. इन बदलावों को सबसे पहले भारतीय रेलवे के चार अलग-अलग सेक्शन में लागू किया जाएगा. भारतीय रेलवे ने अपने सिग्नलिंग सिस्टम को अपग्रेड करने का फैसला लिया है ताकि यात्रियों के लिए रेलयात्रा को और ज्यादा सुरक्षित और तेज बनाया जा सके.

इंडियन रेलवे ने इसके लिए रेलटेल इंटरप्राइजेज लिमिटेड के साथ सिग्नलिंग सिस्टम को अपग्रेड करने के लिए एक समझौता किया है. भारतीय रेलवे के इस अपग्रेडेशन में एक ऑटोमैटिक ट्रेन प्रोटेक्शन सिस्टम लगाये जाने की बात है. इसके अलावा LTE तकनीक पर आधारित ट्रेन रेडियो कम्युनिकेशन सिस्टम भी रेलवे को मिलेगा. साथ ही ट्रेन में इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग भी लगाए जाने हैं.

ज्यादा आसानी से बात कर सकेंगे कंट्रोल रूम, ड्राइवर और गार्ड
ऑटोमैटिक प्रोटेक्शन सिस्टम से रेलों को किसी खतरे की स्थिति में अतिरिक्त सुरक्षा मिलेगी. LTE तकनीक पर आधारित रेडियो कम्युनिकेशन सिस्टम के इस्तेमाल से रेलवे की आंतरिक सूचनाओं के आदान-प्रदान में तेजी आ जाएगी. इससे ट्रेन का स्टॉफ जिसमें ड्राइवर, ट्रेन का रनिंग स्टॉफ, कंट्रोल ऑफिस और गार्ड्स अच्छी कनेक्टिविटी के साथ बात कर सकेंगे.

एक्सीडेंट की संभावनाएं हो जाएंगी बेहद कम
इसके अलावा इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग सॉफ्टवेयर, सिग्नल देने की एक प्रणाली होती है. यह एक ही ट्रैक पर दो ट्रेन को सिग्नल नहीं जाने देती है. इसके जरिए ट्रेन के ट्रैक की देख-रेख भी की जाती है. इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग से इस सिस्टम में गलतियों की गुंजाइश और भी कम हो जाएगी और किसी भी एक्सीडेंट की संभावनाएं बहुत कम हो जाएंगीं.

इससे ट्रेनों की स्पीड भी बढ़ जाएगी
Loading...

इस योजना को चार अलग-अलग सेक्शन में लागू किया जाएगा. इसके अलावा इसमें 1,609 करोड़ रुपये का खर्च आएगा. इस योजना को अगले 2 साल में पूरा किए जाने की उम्मीद है. इन बदलावों को इन चार चरणों में सफलतापूर्वक लागू किए जाने के बाद देश की बाकी रेल लाइनों पर भी लागू किया जाएगा. रेलवे ने कहा है कि यह कदम ट्रेनों की औसत स्पीड को भी बढ़ा देगा. इस नई तकनीक को शुरुआत में 500 इंजन में लगाए जाने की तैयारी है.

दो रूटों की ट्रेनों का रनिंग टाइम भी होगा कम

बता दें नई सरकार बनने के बाद भारतीय रेलवे की ओर से अपने 100 दिनों के प्लान में जो 11 प्रस्ताव रखे गए हैं, उनमें से दिल्ली-हावड़ा और दिल्ली-मुंबई रूट की ट्रेनों के रूट का रनिंग टाइम पांच घंटे तक कम करने का प्रस्ताव भी है. इनके लिए तत्काल प्रभाव से रेलवे काम करेगा और इसके प्लान को 31 अगस्त तक लागू कर दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें: सरकार का बड़ा फैसला- रेल अफसर करेंगे जनरल कोच में सफर!
First published: June 19, 2019, 9:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...