Home /News /nation /

Indian Railways: रेलवे ने चार इंजनों के साथ चार किमी. लंबी मालगाड़ी चलाई, जानें क्‍यों पड़ी जरूरत

Indian Railways: रेलवे ने चार इंजनों के साथ चार किमी. लंबी मालगाड़ी चलाई, जानें क्‍यों पड़ी जरूरत

Indian Railways: स्‍टेशन से गुजरती चार इंजनों वाली चार किमी. लंबी मालगाड़ी.

Indian Railways: स्‍टेशन से गुजरती चार इंजनों वाली चार किमी. लंबी मालगाड़ी.

Indian Railways long freight train: भारतीय रेलवे ने चार इंजन के साथ चार मालडि़यों को एक साथ चलाया है. इन मालगाडि़यों में कोयला सप्‍लाई किया जा रहा है. पूर्व मंत्री और राज्‍यसभा सदस्‍य प्रकाश जावेड़कर ने ट्वीट कर इसे युद्धस्‍तर पर कोयले की सप्‍लाई बताया है.   

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली.  भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने चार इंजनों (four locomotives) के साथ चार मालगाडि़यों को एक साथ जोड़कर चलाया. संभवत: पहली बार इतनी लंबी मालगाड़ी (freight train) चलाई गई है. भारतीय रेलवे युद्ध स्‍तर पर ताप  बिजली संयंत्रों में कोयला सप्‍लाई कर रहा है. जिससे ताप बिजली संयंत्रों में किसी भी तरह कोयला की कमी न हो और बिजली की सप्‍लाई बाधित न हो सके. भारतीय रेलवे (Indian Railways) बिजली संयंत्रों में कोयला पहुंचाने के लिए मालगाड़ी चला रहा है.

    भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने बुधवार को एक पीछे एक करके चार मालगाडि़यों को एक साथ चलाया है. इसकी लंबाई करीब 4 किमी है. इन सभी रेक में कोयला लदा हुआ था. हालांकि यह कोयला कहां से कहां तक पहुंचाया जा रहा है, इसकी जानकारी नहीं हो पाई. इस तरह कोयले की सप्‍लाई से प्‍लांट में कमी नहीं हो पाएगी.

    पूर्व मंत्री और राज्‍यसभा सदस्‍य प्रकाश जावेड़कर ने इसे लेकर ट्वीट भी किया है.

    पूर्व मंत्री और राज्‍यसभा सदस्‍य प्रकाश जावेड़कर ने इसे लेकर ट्वीट भी किया है.

    इस संबंध में भारतीय जनता पार्टी के पूर्व मंत्री और राज्‍यसभा के सांसद प्रकाश जावेड़कर ने ट्वीट कर इसे युद्ध स्‍तर पर कोयले की सप्‍लाई बताया है. जानकार बताते हैं कि शायद यह पहली बार हुआ है जब चार चार मालगाडि़यों को एक साथ जोड़कर चलाया जा रहा है. इससे कम समय में अधिक और जल्‍दी कोयला पहुंचाया जाएगा. इस तरह किसी भी ताप बिजली संयंत्रों में कोयला की कमी नहीं हो पाएगी.

    ये है मामला

    कोल इंडिया के अनुसार बिजली की मांग बढ़ने से अगस्‍त सितंबर में कोयला कमी हो गई थी. यह नई बात नहीं है. हर साल इन महीनों में ताप बिजली संयंत्रों को कोयले का स्‍टॉक करने को कहा जाता है.चूंकि इस बार बारिश का मौसम लंबे समय तक चला और गर्मी भी खूब पड़ी है.

    Tags: Coal Shortage, Engine, Indian Railway news, Railway Board

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर