3840 में से सिर्फ 4 ट्रेनें लेट पहुंचीं, 90% ट्रेन समय पर, कोई रास्‍ता नहीं भटक सकती: रेलवे बोर्ड

3840 में से सिर्फ 4 ट्रेनें लेट पहुंचीं, 90% ट्रेन समय पर, कोई रास्‍ता नहीं भटक सकती: रेलवे बोर्ड
रेलवे ने दी जानकारी.

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने बताया कि अब तक भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने कुल 3840 श्रमिक स्‍पेशल ट्रेनें चलाकर 52 लाख यात्रियों को उनके गंतव्‍य स्‍थान त‍क पहुंचाया है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश में कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus) के कारण लॉकडाउन (Lockdown) लगा हुआ है. इस दौरान भारतीय रेलवे (Indian Railways) राज्‍यों के साथ मिलकर प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) को घर पहुंचाने के लिए श्रमिक स्‍पेशल ट्रेनें (Shramik Special) चला रहा है. शुक्रवार को रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने इस बारे में जानकारी दी. उन्‍होंने बताया कि अब तक भारतीय रेलवे ने कुल 3840 श्रमिक स्‍पेशल ट्रेनें चलाकर 52 लाख यात्रियों को उनके गंतव्‍य स्‍थान त‍क पहुंचाया है.

उन्‍होंने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के दौरान इस बात को खारिज किया कि ट्रेनें अपना रूट भटक कर दूसरे गंतव्‍य पर पहुंच रही है. साथ ही इससे भी इनकार किया कि ट्रेनें लंबे समय के लिए लेट हो रही हैं. उन्‍होंने कहा कि एक मीडिया रिपोर्ट में कहा गया था कि एक ट्रेन सूरत से सीवान 9 दिनों में पहुंची थी, यह फेक न्‍यूज थी. वो ट्रेन 2 दिनों में सूरत से सीवान पहुंची थी. 3840 में सिर्फ चार ट्रेनें ही ऐसी हैं, जिन्‍होंने गंतव्‍य स्‍थान पहुंचने में 72 घंटे से अधिक लिए. उन्‍होंने बताया कि रेलवे ने सिर्फ 73 ट्रेनें डायवर्ट की थीं. लेकिन कोई ट्रेन रास्‍ता नहीं भटकी. ऐसा शहरों के यात्रियों की संख्‍या को देखते हुए किया गया.

 
विनोद कुमार यादव के अनुसार 22 से 28 मई के बीच ही रेलवे ने देश में 1524 श्रमिक स्‍पेशल ट्रेनें चलाई हैं. इस एक हफ्ते में इन ट्रेनों में 20 लाख से अधिक यात्रियों ने सफर किया. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने प्रवासी मजदूरों को यात्रा कराने के संबंध में भी जानकारी दी. उन्‍होंने कहा कि प्रवासी मजदूरों की स्‍वास्‍थ्‍य स्‍क्रीनिंग की गई. 




उन्‍होंने जानकारी दी कि श्रमिक ट्रेनों के यात्रा करने वाले अधिकांश प्रवासी मजदूर उत्‍तर प्रदेश और बिहार के थे. कुल संख्‍या में 42 फीसदी प्रवासी मजदूरों को उत्‍तर प्रदेश और 37 फीसदी प्रवासी मजदूरों को बिहार पहुंचाया गया है.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading