कोरोना के खात्मे के लिए भारत खरीदेगा 1.5 अरब वैक्सीन डोज: रिपोर्ट्स

दिल्ली में कोविड टेस्ट के लिए सैंपल लेता एक स्वास्थ्यकर्मी. (AP Image)
दिल्ली में कोविड टेस्ट के लिए सैंपल लेता एक स्वास्थ्यकर्मी. (AP Image)

भारत ने जहां 1.5 अरब वैक्सीन की डोज (Vaccine Doses) की डील वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों (Pharma Companies) के साथ पक्की कर ली है वहीं यूरोपियन यूनियन (European Union) ने 1.2 अरब वैक्सीन और अमेरिका (America) ने 1 अरब की डील पक्की कर ली है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 19, 2020, 5:50 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना महामारी (Covid-19) से जूझते दुनियाभर के लोगों को वैक्सीन का इंतजार है. इस बीच अलग-अलग देशों में कई वैक्सीन का ट्रायल (Vaccine Trials) चल रहा है. इनमें से कुछ वैक्सीन परीक्षण के अंतिम चरण पर हैं. ऐसे में भारत समेत अन्य देशों ने वैक्सीन का ट्रायल कर रही कंपनियों के साथ एडवांस में खरीद की डील पक्की कर ली है. वाल स्ट्रीट जर्नल के मुताबिक सबसे ज्यादा वैक्सीन खरीद की डील पक्की करने वाले देशों में भारत तीसरे नंबर पर है तो अमेरिका पहले नंबर पर और यूरोपियन यूनियन दूसरे नंबर पर है.

ड्यूक यूनिवर्सिटी की रिसर्च
यह रिपोर्ट ड्यूक यूनिवर्सिटी के एक शोध पर आधारित है. स्वास्थ्य संबंधित नए अनुसंधानों से बनी नई तकनीक और दवाइयों को निम्न आय वाले देशों तक पहुंचने में आने वाले व्यावधानों पर किए गए इस शोध में कोरोना वैक्सीन खरीद करने वाले देशों की एक सूची तैयार की गई. इसके मुताबिक एडवांस में वैक्सीन खरीद की डील पक्की करने वाले देशों की फेहरिस्त में यूनाइटेड स्टेट्स और यूरोपियन यूनियन के बाद भारत तीसरे नंबर पर है

किस देश ने पक्की की कितनी वैक्सीन डोज की डील
भारत ने जहां 1.5 अरब वैक्सीन की डोज की डील वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों के साथ पक्की कर ली है वहीं यूरोपियन यूनियन ने 1.2 अरब वैक्सीन और अमेरिका ने 1 अरब की डील पक्की कर ली है.



इसके अलावा अमेरिका और यूरोपियन यूनियन ने अलग-अलग वैक्सीन डोज की संभावित खरीद डील भी की है. अमेरिका ने डेढ़ अरब वैक्सीन डोज तो यूरोपियन यूनियन ने करीब 7 करोड़ डोज की संभावित खरीद डील की है. इससे अनुमान होता है कि US अपनी पूरी आबादी को एक से ज्यादा बार वैक्सीन मुहैया कराने की योजना बना रहा है. वहीं भारत प्राथमिकता के आधार पर अपनी आबादी को वैक्सीन मुहैया करवाएगा. ड्यूक यूनिवर्सिटी में हुए लॉन्च ऐंड स्पीडोमीटर नाम के इस शोध के मुताबिक कोविड-19 वैक्सीन के 8 अरब से ज्यादा डोज एडवांस मार्केट कमिटमेंट्स के तहत रिजर्व किए जा चुके हैं.

हालांकि शोध के निष्कर्ष में यह शंका जताई गई है कि एडवांस मार्केट कमिटमेंट्स में मध्यम और निम्न आए वाले देशों को वैक्सीन पहुंचने में दिक्कतें आएंगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज