कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने कहा, भारत में अब गिरने लगा है कोरोना का ग्राफ

देश के कई राज्यों में नए मामलों में कमी देखने को मिल रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

देश के कई राज्यों में नए मामलों में कमी देखने को मिल रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

कैंब्रिज जज बिजनेस स्कूल (Cambridge Judge Business School) और नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ इकोनॉमिक एंड सोशल रिसर्च ने पाया है कि भारत में कोरोना का पीक गुजर चुका है और अब नए मामलों में कमी आती जाएगी. ये दोनों ही इंस्टिट्यूट कैंब्रिज यूनिवर्सिटी का हिस्सा हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारत में अब करीब एक हफ्ते से हर दिन चार लाख से कम कोरोना केस (New Covid Cases) सामने आ रहे हैं. कैंब्रिज जज बिजनेस स्कूल और नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ इकोनॉमिक एंड सोशल रिसर्च ने पाया है कि भारत में कोरोना का पीक गुजर चुका है और अब नए मामलों में कमी आती जाएगी. ये दोनों ही इंस्टिट्यूट कैंब्रिज यूनिवर्सिटी का हिस्सा हैं.

हालांकि शोधकर्ताओं ने यह भी कहा है कि अब राज्यों में कोरोना के नए मामलों में काफी अंतर है. जैसे कई प्रभावित राज्यों में संख्या कम हुई है तो वहीं असम, हिमाचल प्रदेश, तमिलनाडु और त्रिपुरा जैसे राज्यों में अगले दो हफ्तों में पीक आ सकता है. इस बीच संक्रामक रोगों के विशेषज्ञ शाहिद जमील ने कहा है कि अभी कोरोना की दूसरी लहर की समाप्ति में कुछ और महीने का वक्त लग सकता है. संभव है ये लहर जुलाई के अंत तक समाप्त हो.

Youtube Video

अभी दूसरी लहर के अंत में लगेंगे कुछ महीने और
मंगलवार को स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया था कि देश के नौ राज्यों में अब नए मामलों में कमी आती दिख रही है. इनमें महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और दिल्ली जैसे जबरदस्त प्रभावित राज्य भी हैं. लेकिन शाहिद जमील का कहना है कि भले ही अभी केस कम होते दिख रहे हों, लेकिन दूसरी लहर का अंत होने में अभी कुछ महीने और लगेंगे. उन्होंने यह भी कहा कि देश में दूसरी लहर के प्रचंड प्रकोप के पीछे नए वैरिएंट भी जिम्मेदार हो सकते हैं लेकिन इस बात के संकेत नहीं हैं कि ये ज्यादा घातक हैं. उन्होंने यह भी आशंका जाहिर है कि देश में दूसरी लहर में केस उतनी तेजी से कम भी नहीं होंगे जितने सामान्य तौर पर दूसरी या तीसरी लहर में होते हैं.

शाहिद जमील का कहना है कि पहली लहर में एक दिन में देश में सर्वाधिक मरीजों की संख्या 96-97 हजार रही थी जो दूसरी लहर में करीब 4 लाख है. इसलिए इस लहर को ढलने में भी वक्त लगेगा. वैसे भी अभी कई राज्य हैं जहां पर नए मामलों में बढ़ोतरी भी हो रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज