Assembly Banner 2021

अफगानिस्तान के लिए भारत का 'डबल पीस' फॉर्मूला!

जयशंकर ने ट्वीट किया कि मेरी अगवानी के लिए ताजिकिस्तान के राष्ट्रपति को धन्यवाद.

जयशंकर ने ट्वीट किया कि मेरी अगवानी के लिए ताजिकिस्तान के राष्ट्रपति को धन्यवाद.

India-Afganistan Relation विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि भारत अफगानिस्तान में किसी भी तरह के वास्तविक राजनीतिक समाधान का स्वागत करता है और भारत संयुक्त राष्ट्र के अंतर्गत शांति प्रक्रिया का भी समर्थन करता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. ताजिकिस्तान की राजधानी दुशांबे में आयोजित 'हार्ट ऑफ एशिया' सम्मेलन में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अफगानिस्तान में स्थाई शांति के लिए डबल पीस की जरूरत पर जोर दिया है. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा की अफगानिस्तान के भीतर और आसपास शांति की जरूरत है. विदेश मंत्री ने कहा कि भारत अफगानिस्तान में शांति प्रक्रिया का हमेशा से समर्थक रहा है और अफगानिस्तान सरकार और तालिबान के बीच बातचीत को तेज करने के पक्ष में रहा है.

अफगानिस्तान में हिंसा और रक्तपात पर चिंता जताते हुए विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा की 2020 में 2019 की तुलना में फ़ीसदी अधिक नागरिकों की जान हिंसा में गई और 2021 भी इससे बेहतर नहीं दिखता.

Youtube Video




वास्तविक राजनीतिक समाधान का स्वागत करते हैं दोनों देश
विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि भारत अफगानिस्तान में किसी भी तरह के वास्तविक राजनीतिक समाधान का स्वागत करता है और भारत संयुक्त राष्ट्र के अंतर्गत शांति प्रक्रिया का भी समर्थन करता है.
हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन में विदेश मंत्री ने अफगानिस्तान के निर्माण और विकास में भारत की भूमिका को भी रेखांकित किया विदेश मंत्री ने कहा कि भारत अफगानिस्तान के विकास के लिए कटिबद्ध है.

उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान के सभी प्रांतों में भारत के समर्थन से विकास से जुड़ी परियोजनाएं चल रही हैं और काबुल के लोगों को पीने का पानी मुहैया कराना इस सूची में नया जुड़ाव हुआ है. गौर करने वाली बात है कि भारत अफगानिस्तान में शांति प्रक्रिया का शुरू से ही समर्थक रहा है ताकि पूरे क्षेत्र में शांति स्थापित हो ऐसे में हार्ड ऑफ एशियन कार्यक्रम में विदेश मंत्री एस जयशंकर का बयान काफी महत्वपूर्ण है.

ये भी पढ़ेंः- वोटिंग के दिन पीएम मोदी रैली कैसे कर रहे हैं, ऐसा खराब चुनाव कभी नहीं देखा- ममता बनर्जी

तजाकिस्तान के राष्ट्रपति से की जयशंकर ने मुलाकात
जयशंकर ने ट्वीट किया कि मेरी अगवानी के लिए ताजिकिस्तान के राष्ट्रपति को धन्यवाद. हमारे द्विपक्षीय आर्थिक और विकास सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की. अफगान स्थिति के संबंध में उनके आकलन की सराहना की. जयशंकर ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि उन्होंने राष्ट्रपति रहमान के साथ द्विपक्षीय सहयोग और अफगानिस्तान की स्थिति पर चर्चा की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज