Home /News /nation /

पीएम मोदी डिग्री मामला: रिकॉर्ड जांचने का आदेश देने पर सूचना आयुक्त से छिना एचआरडी का चार्ज

पीएम मोदी डिग्री मामला: रिकॉर्ड जांचने का आदेश देने पर सूचना आयुक्त से छिना एचआरडी का चार्ज

File Photo

File Photo

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को डिग्री दिए जाने वाले साल के सभी रिकॉर्ड्स की जांच का आदेश देने के दो दिन बाद ही, सूचना आयुक्त से एचआरडी का चार्ज छीन लिया गया है.

  • Pradesh18
  • Last Updated :
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को डिग्री दिए जाने वाले साल के सभी रिकॉर्ड्स की जांच का आदेश देने के दो दिन बाद ही, सूचना आयुक्त से एचआरडी का चार्ज छीन लिया गया है.

    इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित खबर के मुताबिक, दिसंबर 2016 को सूचना आयुक्त एम. श्रीधर आचार्युलु ने दिल्ली विश्वविद्यालय की 1978 के बीए डिग्री रिकॉर्ड की जांच व उसे सार्वजिनक करने का आदेश दिया था.

    इस आदेश को सार्वजनिक किए जाने के करीब दो दिन बाद ही मुख्य आयुक्त आर के माथुर ने एम. श्रीधर आचार्युलु से एचआरडी मंत्रालय का चार्ज छीन लिया.

    नए आदेश में मुख्य सूचना आयुक्त ने कामों में बंटवारा किया है, जिसे तुरंत रूप से लागू कर दिया गया है. इस आदेश के मुताबिक, मानव संसाधन विकास मंत्रालय से संबंधित सभी शिकायतें व सुझाव अन्य सूचना आयुक्त मंजुला पराशर देखेंगी.

    बताया जा रहा है कि ये आदेश आचार्युलु के डिग्री संबंधी आदेश दिए जाने के दो दिन बाद ही दे दिया गया था, जो अब सामने आया है.

    गौरतलब है कि, पिछले साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शैक्षिक योग्यता पर सवाल उठने के बाद भाजपा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी. इस दौरान ये जानकारी दी गई थी कि पीएम मोदी ने साल 1978 में दिल्ली यूनिवर्सिटी से डिस्टेंस लर्निंग के तहत पॉलिटिकल साइंस में बीए डिग्री ली थी.

    हालांकि, इस जानकारी पर भी बाद में सवाल उठाए गए थे. आरटीआई के तहत जब रिकॉर्ड संबंधी जानकारी मांगी गई तो डीयू ने ये कहते हुए आवेदन अस्वीकार कर दिया कि, ये छात्रों की व्यक्तिगत जानकारी से संबंधित है. इसका खुलासा करने से किसी भी सार्वजनिक गतिविधि या हित से कोई संबंध नहीं है.

    Tags: Delhi University

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर