राहुल गांधी से बातचीत में नर्स ने कहा- पहले हमें लगा यह बस सामान्य फ्लू है

राहुल गांधी से बातचीत में नर्स ने कहा- पहले हमें लगा यह बस सामान्य फ्लू है
Doctors Day पर बातचीत करते राहुल गांधी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने बुधवार को Doctor's Day के मौके पर भारत समेत तीन अन्य देशों में कोरोना वायरस से जुड़े इलाज में लगे भारतीय स्वास्थ्य कर्मियों से बात की.

  • Share this:
नई दिल्ली. दुनिया भर के अलग-अलग हिस्सों में मौजूद भारतीयों और अन्य देशों के विशिष्ट लोगों से बातचीत के क्रम में कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने बुधवार को Doctor's Day के मौके पर भारत समेत चार देशों में मौजूद भारतीय स्वास्थ्य कर्मियों से बात की. राहुल से बातचीत करने वाले नर्सों में लिवरपूल, इंग्लैंड से शर्ली, एम्स दिल्ली के विपिन, राजस्थान (फिलहाल ऑस्ट्रेलिया में) निवासी नरेंद्र और न्यूजीलैंड में काम कर रही अनु रंगत हैं. इस दौरान राहुल गांधी ने कहा कि मुझे लगता है कि सरकारें इस धारणा को मैनेज करने की कोशिश कर रही हैं कि समस्या उतनी भी बुरी नहीं जितनी दिख रही है. लेकिन मेरा मानना है कि हमें समस्या का सामना करना होगा इसलिए हमें समस्या को स्वीकारना चाहिए

राहुल ने पूछा कि इस दौरान तो गैर कोविड पेशेंट्स को दिक्कत होती होगी जिस पर शर्ली ने बताया कि ब्रिटेन के अस्पतालों में इमरजेंसी सेवा जारी है. रेड और ग्रीन जोन बनाए गए हैं. इस बीच विपिन ने कहा कि यह सवाल भारत के संदर्भ में ज्यादा जरूरी है. मेरे पास कई पेशेंट्स के फोन आए जो कैंसर के पेशेंट्स थे लेकिन हम उनके लिए कुछ कर नहीं पाए.

पहले हमें लगा एक सामान्य फ्लू है- नरेंद्र
नर्सों से बातचीत में राहुल गांधी ने कहा कि हमें आप पर गर्व है कि आप दुनिया के अलग-अलग देशों  में भारत की प्रतिष्ठा बढ़ा रहे हैं. राहुल ने कहा कि आपसे बातचीत में मैं यह समझना चाहता हूं कि आखिर आप कैसे काम कर रहे हैं और दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में कोविड-19 पर कैसी प्रतिक्रिया दी जा रही है.



ऑस्ट्रेलिया (Australia) से एक पुरुष नर्स नरेंद्र सिंह ने कहा, 'हमने पहले यही सोचा था कि यह एक साधारण फ्लू (Normal Flu) है, लेकिन जब कोविड फैलना शुरू हुआ और जब हमने इसकी खबरें रोज सुननी शुरू कीं और जब इटली में मौतों की दर ऊपर जाने लगीं, तब हमने और सोचना शुरू किया और हमें समझ आया कि यह कोई साधारण फ्लू नहीं है.'



AIIMS में काम करने वाले विपिन ने राहुल से की शिकायत!
परिजनों से जुड़े सवाल पर अनु ने बताया कि न्यूजीलैंड की सरकार ने हमारे लिए रहने का इंतजाम किया. बातचीत में विपिन ने दावा किया कि एम्स के दो नर्सों की कोरोना से मौत हो गई लेकिन अब तक दिल्ली सरकार ने 1 करोड़ रुपये नहीं दिए. डॉक्टर और नर्स जोखिम श्रेणी में नहीं आते. हम सेना की तरह लड़ रहे हैं. डॉक्टरों और नर्सों को रिस्क अलाउंस मिलना चाहिए.

राहुल ने पूछा कि क्या आप लोगों के बच्चे भी साथ रहते हैं. इस पर शर्ली ने बताया कि वह छह हफ्ते तक बाहर रहीं ताकि उनके पति और बच्चों तक संक्रमण ना पहुंचे. दो हफ्ते पहले मैं अपने घऱ आई. हमें सरकार, लोग और सुपरमार्केट्स से काफी मदद मिली.

नरेंद्र ने कहा- धोते रहना होगा हाथ
इस दौरान नरेंद्र ने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग समेत अन्य उपायों के साथ ही टेस्टिंग बहुत जरूरी है. नरेंद्र ने कहा कि हमें लगातार हाथ धोते रहना होगा. अस्पताल में 12 घंटे की शिफ्ट करते हुए हमें लगातार हाथ धोते रहना होगा.

एम्स में काम कर रहे विपिन ने कहा कि हमारे पास 1.2 मिलियन एलौपैथी डॉक्टर और 3.7 मिलियन नर्स हैं. मानव संसाधन कम पड़ रहे हैं फिर भी हम कर रहे हैं. हमारे देश में परिदृश्य अलग है. निजी और सरकारी अस्पताल में अंतर है. निजी क्षेत्र में बहुत भेदभाव है. वहां काम करने वालों की सैलरी कट रही है. इस कंडीशन में उनके लिए जीना मुश्किल हो जाएगा. राहुल ने कहा कि मुझे बताया गया कि दिल्ली के अस्पतालों में टेस्टिंग अलाउ नहीं है जिस पर विपिन ने सहमति जताई. विपिन ने कहा कि मृतकों की संख्या बढ़ रही है, संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है लेकिन जांच कम की जा रही है, यह मेरे समझ के परे है.

इन लोगों से भी बात कर चुके हैं राहुल गांधी
इससे पहले राहुल गांधी ने बुधवार सुबह ट्वीट किया, 'डॉक्टर्स डे पर मैं उन समर्पित पेशेवरों का बहुत आभारी हूं, जो कोरोना वायरस (Coronavirus) के इस समय में उम्मीद जगाते हैं. आज सुबह 10 बजे, कोविड संकट के बारे में मेरे साथ 4 समर्पित नर्सों की बातचीत देखें और जानें कि हमें कैसे इस पर आगे काम करना है.'

इससे पहले राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने एक वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा था, 'कल सवेरे 10 बजे, मेरे सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर देखिए पूरी दुनिया में काम कर रहे/रही भारतीय नर्सों के साथ मेरी बातचीत, जो कि कोविड-19 (Covid-19) के खिलाफ लड़ाई में मोर्चे पर हैं.' राहुल गांधी ने जो वीडियो ट्वीट किया है, उसमें उन्हें ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, ब्रिटेन (United Kingdom) और भारत के नर्सों से बात करते हुए देखा जा सकता है.

राहुल गांधी को इस वीडियो में नर्सों से कहते हुए सुना जा सकता है कि यह जरूर आप सबके लिए सबसे कठिन समय रहा होगा. मुझे नहीं लगता, ऐसा आपने पहले कुछ देखा होगा.



इससे पहले राहुल गांधी, RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन, नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी, अमेरिका के अंबेसडर निकोलस बर्न्स, उद्योगपति राजीव बजाज, प्रोफेसर आशीष झा और प्रोफेसर योहान से बातचीत कर चुके हैं. राहुल ने इन लोगों से कोविड-19 और भारतीय इकोनॉमी में इसके असर पर चर्चा की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading