लाइव टीवी

घाटी के अस्पतालों में अब तक शुरू नहीं हुआ इंटरनेट, सिर्फ बीएसएनएल वाले ही भेज पा रहे SMS

भाषा
Updated: January 1, 2020, 8:12 PM IST
घाटी के अस्पतालों में अब तक शुरू नहीं हुआ इंटरनेट, सिर्फ बीएसएनएल वाले ही भेज पा रहे SMS
कश्मीर में 31 दिसंबर को मोबाइल पर एसएमएस सेवा शुरू कर दी गई. फोटो. एपी

प्रशासन ने कहा था कि कश्मीर (Jammu and Kashmir) के अस्पतालों में ब्रॉडबैंड सेवा और पोस्टपेड मोबाइल फोन (Postpaid mobile service) पर एसएमएस सेवा आधी रात से बहाल कर दी जाएंगी. एसएमएस सेवा कुछ हद तक बहाल कर दी गई है, लेकिन इंटरनेट अभी तक बहाल नहीं हुआ है.

  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) सरकार द्वारा एक दिन पहले इंटरनेट सेवा (Internet service) बहाल किए जाने के वादे के बावजूद बुधवार को घाटी के अस्पतालों में अब तक ब्रॉडबैंड इंटरनेट सेवा (Broadband service) बहाल नहीं हुई है. सरकार के आधिकारिक प्रवक्ता रोहित कंसल ने मंगलवार को कहा था कि अस्पतालों में ब्रॉडबैंड सेवा और पोस्टपेड मोबाइल फोन (Postpaid mobile service) पर एसएमएस सेवा आधी रात से बहाल कर दी जाएंगी. एसएमएस सेवा कुछ हद तक बहाल कर दी गई है, लेकिन इंटरनेट अभी तक बहाल नहीं हुआ है.

घाटी के अग्रणी सरकारी एसएमएचएस अस्पताल में तकरीबन पांच महीने से इंटरनेट सुविधा नहीं है. एसएमएचएस अस्पताल प्रशासन के एक अधिकारी ने कहा कि चिकित्सा संस्थान में इंटरनेट सेवा बुधवार को बहाल नहीं हुई. उन्होंने कहा, ‘इंटरनेट काम नहीं कर रहा. सेवाएं अब तक बहाल नहीं हुई हैं.’घाटी में इकलौते बाल अस्पताल जीबी पंत अस्पताल में सेवाएं अब तक बहाल नहीं हो पाई हैं.

अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक कंवलजीत सिंह ने कहा, ‘अभी तक इंटरनेट काम नहीं कर रहा है. हो सकता है बाद में बहाल हो, लेकिन फिलहाल यह सेवा शुरू नहीं हुई है.’रैनवारी में जवाहरलाल नेहरु अस्पताल के एक अधिकारी ने भी कहा कि अस्पताल में इंटरनेट सेवा बहाल नहीं हुई है. शहर के डलगेट इलाके में चेस्ट डिजीज अस्पताल का भी यही हाल है.

एसएमएस सेवा सिर्फ बीएसएनएल की शुरू हुई

जम्मू कश्मीर में पोस्टपेड मोबाइल सर्विस के लिए एसएमएस सेवा शुरू हो गई है. पहले माना जा रहा था कि ये सभी कंपनियों के लिए होगी, लेकिन ये सेवा अभी सिर्फ बीएसएनएल ने शुरू की है. इंटरनेट और प्रीपेड मोबाइल सेवाएं घाटी में अभी भी बाधित हैं. 5 जनवरी को इस बैन को 5 महीने पूरे हो जाएंगे. जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 में बदलावों के बाद घाटी में ऐहतियातन सुरक्षा के लिए कई चीजों पर बैन लगा दिया गया था.  बैन के बाद 14 अक्टूबर को पोस्टपेड सेवाएं शुरू कर दी गई थीं. हालांकि जम्मू और लद्दाख व कारगिल में कई जगह इंटरनेट सेवाएं शुरू कर दी गई हैं.

यह भी पढ़ें...

उत्तर प्रदेश में CAA हिंसा पर योगी सरकार का बड़ा एक्शन, PFI से जुड़े 25 लोग गिरफ्तार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 1, 2020, 8:12 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर