INX MEDIA CASE: चिदंबरम को नही मिली राहत, दिल्ली हाईकोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका

दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने अपना फैसला सुनाते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम (P. Chidambaram) की याचिका को खारिज कर दिया, चिदंबरम तिहाड़ जेल में बंद हैं.

दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने अपना फैसला सुनाते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम (P. Chidambaram) की याचिका को खारिज कर दिया, चिदंबरम तिहाड़ जेल में बंद हैं.

दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने अपना फैसला सुनाते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम (P. Chidambaram) की याचिका को खारिज कर दिया, चिदंबरम तिहाड़ जेल में बंद हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 15, 2019, 3:14 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम (P. Chidambaram) की जमानत याचिका (Bail Plea) पर आज दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने अपना फैसला सुनाते हुए उनकी याचिका को खारिज कर दिया. पी चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया मामले (INX Media case) में 21 अगस्त को गिरफ्तार किया गया था. तब से ही चिदंबरम तिहाड़ जेल में बंद हैं.



पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम की ओर से दिल्ली हाईकोर्ट में जमानत की मांग करते हुए कहा गया था कि आईएनएक्स मीडिया मामले के सभी दस्तावेज जांच एजेंसियों के पास हैं, इसलिए उनके साथ किसी भी तरह की छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है. ईडी ने आठ नवंबर को चिदंबरम की जमानत याचिका का विरोध किया था और कोर्ट में दलील दी थी कि वह जमानत मिलने के बाद गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं.



ईडी की तरफ से सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने दलील दी कि पूर्व वित्तमंत्री पर चल रहा धन शोधन मामला काफी गंभीर है. उन्होंने कहा कि यह एक आर्थिक अपराध है जो काफी जघन्य श्रेणी में आता है.





इसे भी पढ़ें:-दिल्ली की अदालत ने INX मीडिया मामले में पी चिदंबरम की न्यायिक हिरासत 27 नवंबर तक बढ़ाई
चिदंबरम के ऊपर है मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप

74 वर्षीय चिदंबरम को सीबीआई ने 21 अगस्त को आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार किया था. वो फिलहाल मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े एक मामले में ईडी की कस्टडी में हैं. सीबीआई ने उनके खिलाफ 15 मई, 2017 को एक एफआईआर दर्ज कराई थी. इसमें उन पर साल 2007 में आईएनएक्स मीडिया ग्रुप के लिए आने वाले 305 करोड़ के विदेशी फंड के लिए फॉरेन इंवेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड से गलत तरीके से अनुमतियां लेने का आरोप लगाया गया था. इस दौरान पी चिदंबरम ही वित्तमंत्री थे. बाद में ईडी ने भी 2017 में उनके खिलाफ एक केस दर्ज कराया था, जिसके बाद उन्हें इस साल 16 अक्टूबर को ईडी ने भी हिरासत में लिया था.





इसे भी पढ़ें:- RCEP पर बोले चिदंबरम- 2012 और 2019 के बीच अंतर सिर्फ अर्थव्यवस्था की 'बदहाल' स्थिति है
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज