INX मीडिया केस: तिहाड़ जेल में दर्द से कराह रहे हैं पी चिदंबरम, बीमारी के कारण वजन भी घटा

पी. चिदंबरम

दिल्ली (Delhi) के राउज एवेन्यू कोर्ट (Court) ने गुरुवार को सुनवाई के दौरान पी. चिदंबरम (P. Chidambaram) की न्यायिक हिरासत (Judicial Custody) की अवधि तीन अक्टूबर तक बढ़ा दी थी. अब उनकी जमानत याचिका पर 23 सितंबर को दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi high court) में सुनवाई होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    नई दिल्ली. आईएनएक्स मीडिया केस (INX Media Case) में तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में बंद पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम (P. Chidambaram) की सेहत ठीक नहीं है. चिदंबरम को कई तरह की बीमारियां होने के कारण उनका वजन तेजी से घट रहा है. चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) ने कोर्ट से चिदंबरम को समय-समय पर मेडिकल सर्विस (Medical Service) और सप्लीमेंट्री डाइट देने की मांग की है. तिहाड़ से मिली जानकारी के मुताबिक, जेल में बंद चिदंबरम की पीठ और पेट में काफी दर्द रहने लगा है, जिसके कारण वह न तो बैठ पा रहे हैं और न ही लेट पाते हैं.

    गौरतलब है कि कोर्ट ने गुरुवार को सुनवाई के दौरान चिदंबरम की न्यायिक हिरासत (Judicial Custody) की अवधि तीन अक्टूबर तक बढ़ा दी थी. अब उनकी जमानत याचिका पर 23 सितंबर को दिल्ली की हाईकोर्ट में सुनवाई होगी.

    दिल्ली के राउज एवेन्यू कोर्ट में चिदंबरम की तरफ से कहा गया था कि उनकी पीठ में दर्द है. जिसके बाद विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहाड़ ने चिदंबरम की मेडिकल जांच की भी अनुमति दे दी. सीबीआई की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने न्यायिक हिरासत बढ़ाने की मांग की और कहा कि चिदंबरम को जिस दिन पहली बार जेल भेजा गया था, तब से परिस्थिति में कोई बदलाव नहीं हुआ है. चिदंबरम की पैरवी कर रहे वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने न्यायिक हिरासत की अवधि बढ़ाने के सीबीआई के अनुरोध का विरोध किया. सिब्बल ने कोर्ट को बताया कि कि चिदंबरम कई तरह की बीमारियां हैं, जिसके कारण उनका वजन तेजी से घट रहा है. इसलिए उन्हें नियमित मेडिकल सर्विस और सप्लीमेंट्री डाइट की जरूरत है.

    इसे भी पढ़ें :- तिहाड़ में जगकर कट रहीं चिदंबरम की रातें, गर्मी और बदबू से परेशान

    कोर्ट ने चिदंबरम की न्यायिक हिरासत तीन अक्टूबर तक बढ़ाई
    कोर्ट ने चिदंबरम की न्यायिक हिरासत तीन अक्टूबर तक बढ़ाई


    'तिहाड़ में एक कुर्सी थी, वो भी छीन ली गई'
    कपिल सिब्बल ने चिदंबरम की ओर से कोर्ट से अनुरोध किया कि उनके मुवक्किल को न्यायिक हिरासत के दौरान तिहाड़ जेल में रहते हुए समय-समय पर मेडिकल जांच तथा पर्याप्त मात्रा में पूरक आहार मुहैया कराए जाए. उनके पेट और पीठ में दर्द है. तिहाड़ उनके बैठने के लिए कुर्सी तक नहीं दी गई है. सिर्फ एक बैड है, पिलो (तकिया) भी नहीं दिया गया है. सिब्बल में कोर्ट को बताया कि चिदंबरम के बैरक में तीन दिन पहले एक कुर्सी थी, जिसे अब हटा दिया गया है. वह दिनभर बेड पर नहीं बैठ सकते, उनकी पीठ में दर्द हो गया है. वहीं, पी चिदंबरम ने भी कोर्ट को बताया कि हॉल से तीन दिन पहले कुर्सी को हटा दिया गया.

    इसे भी पढ़ें :- चिदंबरम से मिलने तिहाड़ पहुंचे कांग्रेस नेता, जेल प्रशासन से नहीं मिली अनुमति

    High Court transfers all aircel-maxis cases To special judge
    अब उनकी जमानत याचिका पर 23 सितंबर को दिल्ली की हाईकोर्ट में सुनवाई होगी.


    दिल्ली हाईकोर्ट में 23 सितंबर को होगी सुनवाई
    पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम पर आरोप है कि उन्होंने पद पर रहते हुए आईएनएक्स मीडिया को साल 2007 में 305 करोड़ रु. लेने के लिए विदेशी निवेश प्रोत्साहन बोर्ड से मंजूरी दिलाई थी. मनी लॉन्ड्रिंग के इस मामले में ईडी पूर्व वित्त मंत्री से पूछताछ कर रही है. चिदंबरम इस मामले में जमानत के लिए दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर कर चुके हैं. इस पर 23 सितंबर को सुनवाई होगी.

    इसे भी पढ़ें :-

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.