INX मीडिया: कोर्ट में छलका चिदंबरम का ‘दर्द’, बोले- बैठने के लिए तिहाड़ में एक कुर्सी थी, वो भी हटा दी...

INX मीडिया: कोर्ट में छलका चिदंबरम का ‘दर्द’, बोले- बैठने के लिए तिहाड़ में एक कुर्सी थी, वो भी हटा दी...
आईएनएक्स मीडिया केस में सीबीआई ने पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति समेत कुल 15 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दायर कर दी है.

पी. चिदंबरम (P. Chidambaram) की पैरवी कर रहे वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) ने कोर्ट को बताया कि उनकी बैरक में तीन दिन पहले एक कुर्सी (Chair) थी, जिसे अब हटा दिया गया है. वह दिनभर बेड पर नहीं बैठ सकते.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 19, 2019, 7:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आईएनएक्स मीडिया (INX Media Case) केस में तिहाड जेल में बंद पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम  (P. Chidambaram)  को कोर्ट से बड़ा झटका लगा है. कोर्ट ने गुरुवार को उनकी न्यायिक हिरासत (Judicial Custody) की अवधि तीन अक्टूबर तक बढ़ा दी. अब उनकी जमानत याचिका पर 23 अक्टूबर को दिल्ली की हाईकोर्ट में सुनवाई होगी.

दिल्ली (Delhi) के राउज एवेन्यू कोर्ट में चिदंबरम (P. Chidambaram)   की तरफ से कहा गया कि उनकी पीठ में दर्द (Back Pain) है. जिसके बाद विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहाड़ ने चिदंबरम की मेडिकल जांच (Medical Examination) की भी अनुमति दे दी. सीबीआई (CBI) ने चिदंबरम की न्यायिक हिरासत की अवधि बढ़ाने की मांग की थी.

सीबीआई (CBI) की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने न्यायिक हिरासत बढ़ाने की मांग की और कहा कि चिदंबरम को जिस दिन पहली बार जेल भेजा गया था, तब से परिस्थिति में कोई बदलाव नहीं हुआ है. चिदंबरम की पैरवी कर रहे वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने न्यायिक हिरासत की अवधि बढ़ाने के सीबीआई के अनुरोध का विरोध किया.



'तिहाड़ में एक कुर्सी थी, वो भी छीन ली गई'



कपिल सिब्बल ने चिदंबरम की ओर से कोर्ट से अनुरोध किया कि उनके मुवक्किल को न्यायिक हिरासत के दौरान तिहाड़ जेल में रहते हुए समय-समय पर मेडिकल जांच तथा पर्याप्त मात्रा में पूरक आहार मुहैया कराए जाए. उनके पेट और पीठ में दर्द (Back Pain) है. तिहाड़ उनके बैठने के लिए कुर्सी तक नहीं दी गई है. सिर्फ एक बैड है, पिलो (तकिया) भी नहीं दिया गया है. सिब्बल में कोर्ट को बताया कि चिदंबरम के बैरक में तीन दिन पहले एक कुर्सी थी, जिसे अब हटा दिया गया है. वह दिनभर बेड पर नहीं बैठ सकते, उनकी पीठ में दर्द हो गया है. वहीं, पी चिदंबरम ने भी कोर्ट को बताया कि हॉल से तीन दिन पहले कुर्सी को हटा दिया गया.

5 सितंबर से जेल में बंद हैं चिदंबरम
सिब्बल ने कहा कि 73 वर्षीय चिदंबरम को कई बीमारियां हैं और हिरासत में रहते हुए उनका वजन भी कम हुआ है. उन्हें एम्स में जांच कराने की अनुमति दी जाए. बता दें कि कांग्रेस नेता पांच सितंबर से न्यायिक हिरासत में हैं.

इसके बाद सीबीआई की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट से कहा, ‘किसी भी कैदी की सेहत की चिंता होनी चाहिए. कानून में जो भी स्वीकार्य हो, जेल अधिकारियों को वह करना चाहिए.’

(इनपुट भाषा)

ये भी पढ़ें-

अब हिंदी का विरोध कर रहे चिदंबरम एक समय बनाना चाहते थे इसे राष्ट्रभाषा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading