Home /News /nation /

NIA की बड़ी सफलता: पुलवामा हमले का एक और आरोपी गिरफ्तार

NIA की बड़ी सफलता: पुलवामा हमले का एक और आरोपी गिरफ्तार

 मोहम्मद इकबाल पर पुलवामा हमले का मुख्य साजिशकर्ता जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी फारूक उमर को मदद पहुंचाने का आरोप है.

मोहम्मद इकबाल पर पुलवामा हमले का मुख्य साजिशकर्ता जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी फारूक उमर को मदद पहुंचाने का आरोप है.

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) द्वारा गिरफ्तार किए गए मोहम्मद इकबाल (Iqbal Rather) पर पुलवामा हमले (Pulwama Attack) के मुख्य साजिशकर्ता जैश आतंकी फारुक उमर को मदद पहुंचाने का आरोप है.

    नई दिल्ली. भारत की राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने पुलवामा हमले (Pulwama Attack) के एक और आरोपी गिरफ्तार कर लिया है. एनआईए ने मोहम्मद इकबाल राठर (Iqbal Rather) नाम के आरोपी को पकड़ा है. मोहम्मद इकबाल पर पुलवामा हमले का मुख्य साजिशकर्ता जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी फारूक उमर को मदद पहुंचाने का आरोप है. फारूक ने ही पुलवामा हमले में इस्तेमाल किए गए आईईडी की व्यवस्था की थी. अब तक इस मामले में 6 लोगों की गिरफ्तारी NIA ने की है.

    पुलवामा हमले में सक्रिया भूमिका के आरोप
    राष्ट्रीय जांच एजेंसी के मुताबिक मोहम्मद इकबाल से पूछताछ में पता चला है कि वो पाकिस्तान में बैठे जैश-ए-मोहम्मद के टॉप कमांडरों के संपर्क में था. उन्हीं के इशारे पर उसने फारूक को दक्षिणी कश्मीर में पहुंचाया था. इसके बाद आगे भी वो फारूक की मदद करता रहा. इकबाल को सात दिनों की रिमांड पर लिया गया है. एनआईए अब इस मामले में और पूछताछ कर ज्यादा जानकारी हासिल करने की कोशिश करेगी.



    सुरक्षाबलों ने छेड़ा हुआ बड़ा अभियान
    गौरतलब है कि इस वक्त जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों और स्थानीय पुलिस ने आतंकियों के खिलाफ बड़ा अभियान छेड़ रखा है. जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने हाल में इस बारे में कहा था कि बीते चार सालों में ऐसा पहली बार हुआ है जब आतंकी ग्रुप जॉइन करने वालों से ज्यादा संख्या में आतंकियों का सफाया किया गया है.

    ये भी पढ़ें-कुदरत ने बिहार में फिर बरपाया कहर, आकाशीय बिजली गिरने से 25 लोगों की मौत

    मारे गए 119 आतंकी
    उन्होंने बताया कि सिर्फ एक साल के भीतर 119 आतंकी मारे गए हैं. इनमें टॉप कमांडर रियाज नायकू, अब्दुल रहमान उर्फ फौजी भाई, जुबैर, कारी यासिर, जुनैद सहरी, बुरहान कोका और तैयब वालिद शामिल हैं. टॉप कमांडरों के एक के बाद एक सफाए ने घाटी में आतंक की कमर तोड़ कर रख दी है. दिलबाग सिंह ने कहा था कि अपनी इंटेलिजेंस का इस्तेमाल कर जम्मू-कश्मीर पुलिस ने न सिर्फ आतंकियों का सफाया किया बल्कि ये भी खयाल रखा गया कि इन सबके दौरान पुलिसकर्मियों को कम से कम नुकसान हो.

    Tags: NIA, Pulwama attack, Pulwama Terror Attack

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर