Home /News /nation /

कांग्रेस मुक्त विपक्ष! क्या AAP और TMC ने बदल दिया देश की सबसे पुरानी पार्टी का गेम

कांग्रेस मुक्त विपक्ष! क्या AAP और TMC ने बदल दिया देश की सबसे पुरानी पार्टी का गेम

कांग्रेस को टीएमसी से बड़ी चुनौती मिल रही है.  (सांकेतिक फोटो)

कांग्रेस को टीएमसी से बड़ी चुनौती मिल रही है. (सांकेतिक फोटो)

राज्य सभा के 12 सांसदों के निलंबन को लेकर कांग्रेस ( congress ) ने जो पत्र जारी किया है, वह पार्टी के अंदर के असमंजस को दर्शाता है. जहां इसमें 12 सांसदों के निलंबन को लेकर विरोध दर्ज किया गया है. इसमें टीएमसी (TMC) के सदस्य के नाम शामिल हैं. वहीं, ममता बनर्जी (Mamata banerjee) के नेतृत्व वाली टीएमसी की तरफ से किसी का कोई हस्ताक्षर इसमें मौजूद नहीं है. टीएमसी, कांग्रेस को लगातार विपक्ष के स्थान से सरका रही है. टीएमसी की भाजपा से अकेले मुकाबला करने की योजना है. उसकी इस योजना का कांग्रेस हिस्सा नहीं है. उधर कांग्रेस के बर्ताव से ऐसा लग रहा है जैसे वो भी धीरे-धीरे विपक्ष के किरदार से बाहर निकलने की अभ्यस्त होती जा रही है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. राज्य सभा के 12 सांसदों के निलंबन को लेकर कांग्रेस ( congress )  ने जो पत्र जारी किया है, वह पार्टी के अंदर के असमंजस को दर्शाता है. जहां इसमें 12 सांसदों के निलंबन को लेकर विरोध दर्ज किया गया है. इसमें टीएमसी (TMC) के सदस्य  के नाम शामिल हैं. वहीं, ममता बनर्जी (Mamata banerjee) के नेतृत्व वाली टीएमसी की तरफ से किसी का कोई हस्ताक्षर इसमें मौजूद नहीं है. यह तो साफ है कि कांग्रेस, टीएमसी के लिए समर्थन को सार्वजनिक करने से बचना चाहती है, लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि देश की सबसे पुरानी पार्टी अकेले जाना चाहती है, बल्कि ऐसा इसलिए है क्योंकि टीएमसी, कांग्रेस को लगातार विपक्ष के स्थान से सरका रही है.

    टीएमसी की भाजपा से अकेले मुकाबला करने की योजना है. उसकी इस योजना का कांग्रेस हिस्सा नहीं है. उधर कांग्रेस के बर्ताव से ऐसा लग रहा है जैसे वो भी धीरे-धीरे विपक्ष के किरदार से बाहर निकलने की अभ्यस्त होती जा रही है. संसद के पहले दिन विपक्षी दलों की बैठक में टीएमसी ने आने से इनकार कर दिया. शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस (एनसीपी) के महाराष्ट्र में गठबंधन के बावजूद उनका भी इस बैठक में शामिल नहीं होना तनाव का मामला लगा. हालांकि सेना ने अपनी पूर्व  व्यस्तताओं की बात करके बात शांत करने की सोची, इधर कांग्रेस अब शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार और ममता बनर्जी के साथ बैठक करने के बारे में विचार कर रही है.

    ये भी पढ़ें : Mumbai Coronavirus News: मुंबई में अनिवार्य हो सकता है वैक्सीनेशन, टीका ना लगवाने पर जुर्माने का भी विचार

    पार्टी में चल रही खींचतान से कैसे निपटा जाए

    कांग्रेस खुद को ऐसी स्थिति में देख रही है जहां उसे यह समझ नहीं आ रहा है कि अब उसे अगला समर्थन कहां से हासिल होगा, उस पर पार्टी में चल रही खींचतान से कैसे निपटा जाए यह भी उनके लिए एक अहम सवाल है.  मल्लिकार्जुन खड़गे उन लोगों में से हैं जिन्हें लगता है कि यह वक्त टीएमसी पर हमला करने के लिए सही नहीं है, इस दौरान कांग्रेस को संयमित बर्ताव करना चाहिए. उनका कहना है कि हमारा लक्ष्य बड़ा है और वो भाजपा को मात देना है, इसके लिए हमें साथ मिलकर लड़ाई लड़नी होगी. लेकिन कुछ वरिष्ठ नेता जैसे केसी वेणुगोपाल और अधीर रंजन चौधरी को लगता है कि तृणमूल कांग्रेस पर कभी भरोसा नहीं किया जा सकता है. वे इस बात को लेकर भी नाराज हैं कि अभिषेक बनर्जी ने राहुल गांधी पर भी खुलकर ज़बानी हमला बोला है.

    ये भी पढ़ें :  क्या टीएमसी अपना नाम बदलेगी? ममता बनर्जी जल्‍द ले सकती हैं बड़ा फैसला

    कांग्रेस को लगने लगा है कि नुकसान पहुंचा रही है टीएमसी 

    पार्टी को अब लगने लगा है कि टीएमसी एक भूखे शेर की तरह है जो बस कांग्रेस को नुकसान पहुंचा रही है और उसकी जगह को निगल रही है. इसलिए उन्होंने टीएमसी को भाजपा की बी टीम बोलना शुरू कर दिया था. वहीं टीएमसी ने पलटवार करते हुए कहा कि हमने खुद को बंगाल चुनाव में साबित किया है. कांग्रेस की कमजोर प्रतिक्रिया बताती है कि वह किसी तरह का जोखिम उठाना नहीं चाहती है और उनके सारे पत्ते फेल हो चुके हैं. वैसे कांग्रेस इस बड़ी योजना से भलीभांति वाकिफ है कि आप (AAP ) और टीएमसी की महत्वाकांक्षा के चलते उनके पास काफी कम जगह बची है. आप पंजाब में कांग्रेस को हराने के लिए जी जान से जुटी हुई है. उत्तराखंड में भी आप चाहेगी कि उसे कांग्रेस की जगह मिल जाए. वह उसे ऐसे राज्य से बाहर निकालना चाहती है जहां उसकी जीत की थोड़ी बहुत उम्मीद है.

    कांग्रेस का गेम प्लान क्या होगा

    प्रशांत किशोर की कर्नाटक के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात की खबर ने कांग्रेस की रीढ और झुका दी है. अब उनका सबसे बड़ा डर यही है कि टीएमसी और आप उन्हें आगे नहीं बढ़ने देंगी. ऐसे में कांग्रेस का गेम प्लान क्या होगा. सबसे पहले वह विपक्षी दल जैसे एनसीपी, शिवसेना और डीएमके के साथ अपने मैत्री गठबंधन को सुनिश्चित करना चाहेगी. उसे उम्मीद है कि आप और टीएमसी से बचने के लिए यह गठबंधन उनके लिए कवच का काम करेगा. इसके अलावा अब कांग्रेस राहुल गांधी के नेतृत्व में सड़क पर उतरने की योजना बना रही है. संसद में भी कांग्रेस जोरदार और उदार छवि बनाना चाहती है. जिससे वो अपने साथियों के दिल में जगह बना सके और यह समझा सके कि टीएमसी ऐसा दल है जिस पर भरोसा नहीं किया जा सकता है. कांग्रेस को उम्मीद है इस तरह से वह कांग्रेस मुक्त भारत और कांग्रेस मुक्त विपक्ष दोनों ही बातों के लिए कुछ दमदार नीति बना सकेगी.

    Tags: AAP, Congress, Mamata banerjee, TMC

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर