मोदी-ट्रंप बातचीत पर ओवैसी ने कहा- क्या अमेरिकी राष्ट्रपति कोई चौधरी हैं?

News18Hindi
Updated: August 21, 2019, 11:46 AM IST
मोदी-ट्रंप बातचीत पर ओवैसी ने कहा- क्या अमेरिकी राष्ट्रपति कोई चौधरी हैं?
ओवैसी ने ये भी सवाल किया कि क्या ट्रंप कोई 'पुलिसमैन' हैं या 'चौधरी' हैं, जो इस मुद्दों को हल कर सकते हैं.

असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने यह भी सवाल किया कि क्या डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) कोई 'पुलिसमैन' हैं या 'चौधरी' हैं, जो जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के इस मुद्दों को हल कर सकते हैं?

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 21, 2019, 11:46 AM IST
  • Share this:
हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने मंगलवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के साथ कश्मीर (Kashmir) मुद्दे पर चर्चा करने के मोदी सरकार के फैसले पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की. ओवैसी ने कहा कि उन्हें यह जानकर दुख हुआ कि पीएम मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति के समक्ष इस द्विपक्षीय मुद्दे को उठाया. असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, 'प्रधानमंत्री मोदी ने फोन पर ट्रंप से बात करने और एक द्विपक्षीय मुद्दे पर चर्चा करने से मैं आश्चर्यचकित और दुखी हूं. पीएम मोदी का ये कदम ट्रंप के मध्यस्थता के दावे की पुष्टि करता है. यह एक द्विपक्षीय मुद्दा है और इसमें किसी भी तीसरे पक्ष को हस्तक्षेप करने की अनुमति नहीं है.'

'ट्रंप कोई 'पुलिसमैन' हैं या 'चौधरी' हैं?'
ओवैसी ने यह भी सवाल किया कि क्या ट्रंप कोई 'पुलिसमैन' हैं या 'चौधरी' हैं, जो इस मुद्दों को हल कर सकते हैं. आगे उन्होंने कहा, 'मोदी ने फोन पर ट्रंप से शिकायत की. कौन हैं ट्रंप? क्या वो कोई पूरी दुनिया का 'पुलिसमैन' है या किसी तरह का चौधरी है? साथ ही उन्होंने कहा, 'हम सभी एक साथ कह रहे हैं कि कश्मीर एक द्विपक्षीय मुद्दा है. भारत का इस पर बहुत ही स्थिर रुख है. फिर प्रधानमंत्री मोदी को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को फोन पर बात करने की और शिकायत करने की क्या जरूरत थी?'

मोदी ने द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मामलों पर ट्रंप के साथ चर्चा की, ये चर्चा 30 मिनट तक चली.


पीएम मोदी ने सोमवार को किया था ट्रंप को फोन
पीएम मोदी ने सोमवार को द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मामलों पर चर्चा करने के लिए ट्रंप को डायल किया था, ये बातचीत 30 मिनट तक चली थी. केंद्र सरकार ने ये कदम जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाने के कुछ दिनों बाद उठाया है. पीएम मोदी ने इस खित्ते के कुछ नेताओं की तरफ से कट्टरतापूर्ण बयानबाजी और लोगों को भारत के खिलाफ हिंसा के लिए उकसाने को लेकर बात की, और इसे इसे शांति के लिए बाधा बताया. उनका सीधा निशाना पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को लेकर था, जो पिछले दो हफ्तों में भारत के खिलाफ जहर उगलने का काम कर रहे हैं.
ये भी पढ़ें: ट्रंप की इमरान खान को नसीहत- कश्मीर पर जुबान संभाल के

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 11:22 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...