• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • ISI ने आतंकी कमांडरों को दिया निर्देश, भारतीय खुफिया एजेंसी के लोगों को बनाएं टारगेट

ISI ने आतंकी कमांडरों को दिया निर्देश, भारतीय खुफिया एजेंसी के लोगों को बनाएं टारगेट

15 जुलाई को PoK के चेलाबंदी में आतंकी कमांडरों की बैठक में ISI ने भारत में आतंक फैलाने के दिए निर्देश.

15 जुलाई को PoK के चेलाबंदी में आतंकी कमांडरों की बैठक में ISI ने भारत में आतंक फैलाने के दिए निर्देश.

ISI की बैठक में आतंकी कमांडरों (Terrorist Commanders) को बताया गया है कि खुफ़िया एजेंसियों (Intelligence Agency) के लोग सॉफ्ट टॉरगेट हैं. उनको निशाना बनाना ज्यादा आसान है क्योंकि उनकी तरफ से तुंरत जवाबी कार्रवाई का खतरा वर्दीधारियों के मुकाबले कम होता है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. भारत (India) में आतंक फैलाने के लिए एक बार फिर आतंकी संगठन (Terrorist Organization) एकजुट हो रहे हैं. खुफिया जानकारी के मुताबिक 15 जुलाई को PoK के चेलाबंदी में आतंकी कमांडरों (Terrorist Commanders) के साथ मीटिंग में ISI ने वहां मौजूद हिजबुल, जैश और लश्कर के कमांडरों को भारतीय खुफ़िया एजेंसियों (Indian Intelligence Agency) के लोगों को निशाना बनाने के निर्देश दिए हैं.

आतंकी कमांडरों को बताया गया है कि खुफ़िया एजेंसियों के लोग सॉफ्ट टॉरगेट हैं. उनको निशाना बनाना ज्यादा आसान है क्योंकि उनकी तरफ से तुंरत जवाबी कार्रवाई का खतरा वर्दीधारियों के मुकाबले कम होता है. चेलाबन्दी का इलाका एलओसी से 30 किलोमीटर दूर पीओके में कुपवाड़ा ज़िले के पीछे है. इससे पहले News18 इंडिया ने 14 जुलाई को जानकारी देते हुए बताया था कि खुफ़िया एजेंसियों को आतंकियों का एक मोबाइल हाथ लगा है, जिसके मैसेज से आतंकियों की साज़िश का खुलासा हुआ है.

इसे भी पढ़ें :- कश्मीर में आतंकी संगठन ISIS की दस्तक, भारतीय खुफिया एजेंसी ने ऐसे किया पर्दाफाश

उर्दू में भेजे गए मैसेज में एक आतंकी ने अपने मददगार को ख़ुफ़िया एजेंसियो के ऑफिस की लोकेशन,ऑफिस की गाड़ियों की पहचान, ऑफिसर का नाम और पता देने को कहा है. खबर में रॉ, आईबी , सैन्य खुफिया एजेंसी और जम्मू कश्मीर पुलिस की CID के बारे में तमाम जानकारियां जुटाने की आतंकियों की कोशिश के बारे में जानकारी दी गई थी. श्रीनगर, कुपवाड़ा,बारामुला और साउथ कश्मीर में ख़ुफ़िया एजेंसियों के ऑफिस का पता और दूसरी जानकारियां आतंकियों ने अपने मददगारों से मांगी थी.

इसे भी पढ़ें :- जम्मू-कश्मीर: सतवारी में बड़े हमले की फिराक में आतंकी, लश्कर के तीन आतंकियों ने पार की सीमा- सूत्र

दरअसल कश्मीर में आतंकवाद की कमर तोड़ने के पीछे खुफिया एजेंसियों का अहम रोल रहा है. घाटी में नासूर बन चुके रियाज़ नैकू, अबू दुजाना,समीर टाइगर ,जाकिर मूसा जैसे आतंकी कमांडरों के मारे जाने में भी खुफ़िया तंत्र का बड़ा हाथ रहा. पिछले डेढ़ महीने में कश्मीर घाटी में एक के बाद एक लश्कर और जैश जैसे आतंकी संगठनों के कई बड़े कमांडर मारे गए और ये सिलसिला जारी है. इन सब में भी खुफ़िया एजेंसियों की बड़ी भूमिका रही. ऐसे में ISI ने अब आतंकियों को भारतीय खुफ़िया एजेंसियों के लोगों को ही निशाना बनाने का निर्देश दिया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज