Assembly Banner 2021

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI की नापाक चाल, भारत में आतंकी घुसपैठ की करा रही तैयारी

आतंकी सरगना ने जम्मू कश्मीर में घुसपैठ को लेकर पीओके में बैठक की (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

आतंकी सरगना ने जम्मू कश्मीर में घुसपैठ को लेकर पीओके में बैठक की (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

Jammu Kashmir: कश्मीर में आतंक फैला रहे पाकिस्तान की जमीन पर मौजूद सभी आतंकी तंजीमों को 20-20 आतंकियों को इस रिफ्रेशर ट्रेनिंग कैम्प के लिए तुरंत भेजने की ताकीद दी गयी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 11, 2021, 12:00 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी ISI ने इस सीजन में ही नहीं बल्कि अगले सीजन के लिए भी जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में घुसपैठ की तैयारियां शुरू कर दी है. सूत्रों ने इसकी जानकारी दी. ख़ुफ़िया एजेंसियों को मिली जानकारी के मुताबिक इस बाबत 27 फरवरी, 2021 को यानी 11 दिन पहले मुज़्ज़फ्फराबाद के एक आतंकी कैम्प में हिज़्ब सरगना सैय्यद सलाहुद्दीन और पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में आतंकी लॉन्चपैड के 32 कमांडरों समेत कई आतंकी संगठनों के कमांडरों के साथ ISI ने मीटिंग की है.

सैय्यद सलाहुद्दीन के अलावा इस मीटिंग में इम्तियाज़ आलम, झेलम वैली लॉन्चपैड कमांडर एज़ाज़ आलम, नीलम वैली लॉन्चपैड कमांडर एज़ाज़ की जगह जल्द ही नीलम वैली आतंकी लॉन्च पैड की कमान संभालने वाले ज़ाकिर हुसैन हिजबुल का सेकेंड इन कमान आमिर खान लश्कर का अबू रफी और अल फतह के लीडर और हरकत उल जेहाद उल इस्लामी के पाकिस्तान चैप्टर का चीफ फारूक रहमानी भी मौजूद था.

मीटिंग में अगले सीजन में घुसपैठ की तैयारियों के लिए आतंकियों को संखियारी टेरर कैम्प में तीन हफ्ते की रिफ्रेशर ट्रेनिंग दी जायेगी. कश्मीर में आतंक फैला रहे पाकिस्तान की जमीन पर मौजूद सभी आतंकी तंजीमों को 20-20 आतंकियों को इस रिफ्रेशर ट्रेनिंग कैम्प के लिए तुरंत भेजने की ताकीद दी गयी.



ट्रेनिंग की जिम्मेदारी पेशावर के रहने वाले और संखियारी मिलिट्री स्टेशन से ISI डिटैचमेंट सेन्टर की गतिविधियों को कंट्रोल करने वाले पाक आर्मी के मेजर नासिर पठान को सौंपी गई है.2
ये भी पढ़ें- गर्मियों में लागू होगा नया कानून, अब कंपनियों को करनी ही होगी होम अप्‍लायंसेस की सर्विस

तजुर्बे में छोटे आतंकी नहीं खरीद पाएंगे हथियार
इस सीजन में जम्मू कश्मीर में घुसपैठ के लिए सारी आतंकी तंजीमों को एक दूसरे से कोआर्डिनेट करने को कहा गया और जरूरत के मुताबिक एक दूसरे को पोर्टर्स और गाइड मुहैया कराने को कहा गया. वहीं हायरकी में नीचे के आतंकी हथियार नहीं खरीद पाएंगे, सिर्फ टॉप आतंकी कमांडर या ISI ही आतंकियों को हथियार मुहैया कराएगी.

जम्मू कश्मीर में सरेंडर करने वाले किसी भी आतंकी की पत्नी को किसी भी तरह का मोरल या दूसरी तरह का सपोर्ट टॉप आतंकी कमांडर की तरफ से नहीं मिलेगा. अगर इन सरेंडर करने वाले आतंकियों की पाकिस्तानी पत्नियों को भारतीय नागरिकता नहीं मिली है और वो पाकिस्तान लौटना चाहती हैं तो भी उनकी कोई मदद नहीं की जायेगी. इसके पीछे की ISI की सोच ये है कि आतंकियों की पत्नियों के पाकिस्तान लौटने पर उनका इस्तेमाल भारतीय एजेंसियां कर सकती हैं.

खुफिया सूत्रों के मुताबिक फिलहाल इस सीजन में घुसपैठ के लिए लॉन्च पैड और उसके आसपास के इलाकों में आतंकी, उनके गाइड्स और पोर्टर्स की हरकतें तेज हो गयी है. ये लोग घुसपैठ के लिए लगातार रेकी करते नज़र आ रहे हैं. साथ ही आतंकियों द्वारा लॉन्च पैड पर घुसपैठ के लिए जरूरी राशन ,दूसरे साजो सामान,हथियार और गोला बारूद पर्याप्त मात्रा में जमा कर लिए गए है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज