कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए मीडिया आउटलेट का यूज कर रहा था ISIS का आका, पढ़ें खास रिपोर्ट

कासिम खुरासानी के कोड नाम से इस मैगजीन को चला रहा था.

खोरासानी जम्मू कश्मीर के अनंतनाग के अचबल में 2016 से एक्टिव था और भारत विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए जम्मू-कश्मीर में रसद की आपूर्ति, हथियार और विस्फोटक की खरीद और आईएसआईएस के कैडरों की भर्ती करता था.

  • Share this:
    नई दिल्ली/जम्मू. जम्मू-कश्मीर में प्रतिबंधित आतंकवादी समूह आईएसआईएस (ISIS) की मौजूदगी के सुबूत मिले हैं. इस्लामिक स्टेट जम्मू और कश्मीर के प्रमुख उमर निसार भट उर्फ कासिम खोरासानी को सोमवार को गिरफ्तार किया गया है. सीएनएन न्यूज18 को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक, कासिम खोरसानी एक मैसेजिंग ऐप ग्राउंड सोलाइडर्स और मीडिया आउटलेट स्वात अल-हिंद (वॉयस ऑफ हिंद) के जरिए कट्टरपंथियों की भर्ती करता था.

    खोरासानी जम्मू कश्मीर के अनंतनाग के अचबल में 2016 से एक्टिव था और भारत विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए जम्मू-कश्मीर में रसद की आपूर्ति, हथियार और विस्फोटक की खरीद और आईएसआईएस के कैडरों की भर्ती करता था. खोरासानी ने सेना और पुलिस के अधिकारियों के सामने कबूल किया है कि स्वात अल-हिंद पत्रिका पाकिस्तान में नियमित रूप से जारी की जाती थी और वह सोशल मीडिया पर पाकिस्तान स्थित टीमों के संपर्क में था. पत्रिका को पहली बार फरवरी 2020 में इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रांत (ISKP) संचालकों के मार्गदर्शन में लॉन्च किया गया था. पत्रिका के अब तक 17 अंक प्रकाशित हो चुके हैं.

    खुरासानी ने टेलीग्राम से बातचीत में कहा, "हमें आईएसआईएस योद्धाओं को दो में विभाजित करना है: एक जमीन है और दूसरा मीडिया है. कई बार हमारे लड़ाके दुश्मनों द्वारा मारे जाते हैं. हमारे योद्धाओं में से एक को जमीन संभालनी चाहिए और एक को बंदूक." अधिकारियों के मुताबिक, उसने भारत और विदेशों से आईएसआईएस समर्थकों को भी फाइनेंस किया है.


    टेलीग्राम के साथ एक अन्य बातचीत में, वह भारतीय अधिकारियों द्वारा पकड़े नहीं जाने के लिए "एसओपी का पालन करें" (मानक संचालन प्रक्रिया) के लिए रंगरूटों को आगाह कर रहा है. एनआइए के प्रवक्ता ने बताया कि देश-विदेश में सक्रिय आइएस का कैडर फर्जी नामों से भारत के खिलाफ आनलाइन दुष्प्रचार अभियान चला रहा है.

    वायस ऑफ हिंद मैग्जीन से जम्मू कश्मीर समेत देश के कई हिस्सों में बैठे राष्ट्रविरोधी और जिहादी तत्व जुड़े हुए हैं. सूत्रों ने बताया कि एनआइए बीते दो दिनों के दौरान कथित तौर पर एक महिला समेत नौ लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में ले चुकी है. अलबत्ता, एनआईए के प्रवक्ता ने इस मामले में अभी तक सिर्फ तीन लोगों की गिरफ्तारी की पुष्टि की है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.