इस्लामिक विद्वान का दावा, कश्मीर कभी भी पाकिस्तान का हिस्सा नहीं होगा

ऑस्ट्रेलिया (Australia) के इस्लामिक विद्वान इमाम मोहम्मद तौहीदी (Imam Mohamad Tawhidi) ने कहा है कि पाकिस्तान (Pakistan) जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) से आर्टिकल-370 (Article-370) हटाए जाने का भले ही विरोध कर रहा हो लेकिन कश्मीर उसका हिस्सा न कभी था और न कभी होगा.

News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 11:51 AM IST
इस्लामिक विद्वान का दावा, कश्मीर कभी भी पाकिस्तान का हिस्सा नहीं होगा
इस्लामिक विद्वान का दावा, कश्मीर कभी पाकिस्तान का नहीं होगा
News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 11:51 AM IST
जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में भारत सरकार की ओर से आर्टिकल-370 (Article-370) हटाए जाने के बाद से भारत (India) और पाकिस्तान (Pakistan) के बीच तनाव बढ़ गया है. इसी बीच अब अमेरिका में एक ऑस्ट्रेलियाई इस्लामिक विद्वान ने पाकिस्तान को यह कहकर स्तब्ध कर दिया है कि कश्मीर कभी भी उसका हिस्सा नहीं होगा. उन्होंने कहा कि कश्मीर में आर्टिकल-370 और आर्टिकल 35ए हटाए जाने के बाद पाकिस्तान जिस तरह से विरोध जता रहा है वह सही नहीं है क्योंकि कश्मीर पाकिस्तान का हिस्सा नहीं है.

खुद को सुधारवादी इमाम बताने वाले इमाम मोहम्मद तौहीदी ने कहा कि कश्मीर कभी भी पाकिस्तान नहीं रहा और आगे भी कभी पाकिस्तान को नहीं मिलेगा. उन्होंने तो यहां तक कह दिया कि पाकिस्तान और कश्मीर दोनों ही भारत के अंग हैं. इमाम ने ट्वीट करते हुए कहा कि हिंदू धर्म से इस्लाम ग्रहण करने वाले मुसलमान यह तथ्य कभी नहीं बदल सकते कि पूरा इलाका हिंदू भूमि वाला क्षेत्र है. भारत सिर्फ पाकिस्तान से ही नहीं, बल्कि इस्लाम से भी पुराना है. इस संबंध में ईमानदार रहें.


Loading...

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान की बौखलाहट लगातार सामने आ रही है. पाकिस्तान ने मंगलवार को एक बार फिर से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात बैठक बुलाने की मांग की है. इसको लेकर पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने एक वीडियो मैसेज जारी किया है. कुरैशी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद अध्यक्ष को आपात बैठक आयोजित करने के लिए UNSC में पाकिस्तान के स्थायी प्रतिनिधि मालेहा लोधी के जरिए एक औपचारिक चिट्ठी लिखी है. कुरैशी ने ये भी कहा है कि ये चिट्ठी UNSC के बाक़ी सदस्यों को भी भेजी जाएगी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 14, 2019, 11:51 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...