लाइव टीवी

इजराइली स्पाइक ATGMs सेना में शामिल, पाक सेना की बढ़ी मुश्किल

News18Hindi
Updated: October 4, 2019, 10:00 AM IST
इजराइली स्पाइक ATGMs सेना में शामिल, पाक सेना की बढ़ी मुश्किल
भारतीय डिफेंस रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) ऐसी ही ऐंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का विकास कर रहा है.

भारतीय सेना (indian army) में इजराइल (Israel) द्वारा निर्मित ऐंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (ATGMs) स्पाइक को इंटीग्रेट किया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 4, 2019, 10:00 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कश्मीर में आर्टिकल 370 (Article 370) समाप्त होने के बाद भारत-पाकिस्तान (india pakistan) में बढ़े तनाव के मद्देनजर भारत (army) तेजी से अपनी सेना की ताकत में इजाफा कर रहा है. इसी के तहत भारतीय सेना में इजराइल (Israel) द्वारा निर्मित ऐंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (ATGMs) स्पाइक को इंटीग्रेट किया जा रहा है. बता दें कि हाल ही में इजराइल से भारतीय सेना के लिए 400 स्पाइक मिसाइल्स का सौदा किया गया था. हालांकि सेना में ऐसे करीब 6000 मिसाइल्स की जरूरत है.

गौरतलब है कि भारतीय डिफेंस रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) ऐसी ही ऐंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का विकास कर रहा है. इस प्रोग्राम के चलते भारत ने एक बार स्पाइस मिसाल्स का सौदा रद्द कर दिया था. लेकिन स्वदेशी ऐंटी टैंक गाइडेड मिलाइल के विकास में हो रही देरी के कारण स्पाइक सौदे को फिर से किया गया, हालांकि इसकी मात्रा सीमित रखी गई है.

भारतीय डिफेंस रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) ऐसी ही ऐंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का विकास कर रहा है


स्पाइक मिसाइल की पहली खेप की तैनाती शुरू

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार करीब 210 स्पाइक मिसाइल और 12 लॉन्चर्स की पहली खेप भारत पहुंच चुकी है. इन मिसाइलों को सेना में इंटीग्रेट किया जा रहा है. बता दें कि स्पाइक एक तीसरी पीढ़ी की अत्याधुनिक ऐंटी टैंक गाइडेड मिसाइल है. जिसकी रेंज करीब 4 किलो मीटर की होती है. पुलवामा आतंकी हमले के बाद आतंकियों के बड़े अड्डे बालाकोट में भारतीय वायु सेना ने एयर स्ट्राइक की थी. जिसके बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव काफी बढ़ गया. इसी के बाद भारतीय सेना ने इन स्पाइक मिसाइलों को खरीदने की मंजूरी दी थी.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बांकी के स्पाइक मिलाइलों की तैनाती जल्द ही सेना में कर दी जाएगी.  वहीं ऐसा माना जा रहा है कि डीआरडीओ यदि अगले साल तक स्वदेशी ऐंटी-टैंक मिसाइल नहीं बना पाता है तो ऐसी स्थित में और भी इजरायली स्पाइक मिसाइलों की खरीद का सौदा किया जा सकता है. हालांकि डीआरडीओ को भरोसा है को वह 2020 तक अपने MP-ATGM मिसाइल को यूजर ट्रायर के लिए भेज सकता है. इसी साल मार्च के आसपास डीआरडीओ ने एटीजीएम मिसाइल का सफल परीक्षण भी किया था.

ये भी पढ़ें: 
Loading...

दिल्ली पुलिस के पास है एक 'इंसानी CCTV’, जो चलता-फिरता है और बोलता भी है

चंद मिनटों में PF अकाउंट में UAN नंबर एक्टिवेट कर सकते हैं जानिए कैसे?

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 4, 2019, 10:00 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...