Chandrayaan-2: ISRO ने खोज निकाला विक्रम लैंडर, ऑर्बिटर ने भेजी थर्मल तस्वीर- के सिवन

इसरो (ISRO) चीफ के. सिवन ने महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट चंद्रयान 2 (Chandrayaan 2) को लेकर बड़ी जानकारी दी है. उन्होंने बताया कि चंद्रमा की सतह पर विक्रम लैंडर (Vikram Lander) के सटीक लोकेशन का पता चल गया है. हालांकि फिलहाल उससे संपर्क स्थापित नहीं हो पाया है.

News18Hindi
Updated: September 8, 2019, 8:53 PM IST
Chandrayaan-2: ISRO ने खोज निकाला विक्रम लैंडर, ऑर्बिटर ने भेजी थर्मल तस्वीर- के सिवन
इसरो चीफ के. सिवन ने News18 को बताया कि चंद्रमा की सतह पर विक्रम लैंडर के सटीक लोकेशन का पता चल गया है.
News18Hindi
Updated: September 8, 2019, 8:53 PM IST
नई दिल्ली. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (ISRO) चीफ के. सिवन ने महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट चंद्रयान 2 (Chandrayaan 2) को लेकर बड़ी जानकारी दी है. इसरो चीफ ने News18 को बताया कि चंद्रमा की सतह पर विक्रम लैंडर के सटीक लोकेशन का पता चल गया है. हालांकि फिलहाल उससे संपर्क स्थापित नहीं हो पाया है. सिवन ने NEWS18 से कहा, 'चंद्रमा की सतह पर विक्रम लैंडर के लोकेशन का पता चल गया है. चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर ने लैंडर की एक थर्मल तस्वीर भेजी है.'

बता दें कि चंद्रमा की सतह से 2.1 किलोमीटर पहले ही विक्रम लैंडर से संपर्क टूट गया था. हालांकि सिवन ने यह स्पष्ट किया है कि लैंडर विक्रम से अभी तक संपर्क स्थापित नहीं हो सका है. इसकी कोशिशें लगातार जारी हैं. News18 से  बात करते हुए सिवन ने कहा कि तस्वीरों के जरिए Vikram Lander का पता लगा लिया गया है.

शुक्रवार-शनिवार की रात होना था लैंड
चंद्रयान 2 के लैंडर Vikram को 6-7 सितंबर की दरम्यानी रात चांद की सतह (Lunar Surface) पर लैंड होना था, हालांकि 2.1 किलोमीटर दूर ही धरती पर स्थित इसरो के स्टेशन से उसका संपर्क टूट गया. इसरो चीफ के. सिवन ने तब इसकी जानकारी देते हुए कहा था कि चंद्रयान 2 के 'विक्रम' लैंडर से संचार को शनिवार की तड़के लूनर सर्फेस पर पहुंचने से 2.1 किलोमीटर पहले संपर्क टूट गया और डेटा का विश्लेषण किया जा रहा है.'

कैसे टूटा संपर्क?
लैंडर विक्रम ने चांद से 30 किलोमीटर की दूरी पर अपने कक्ष से नीचे उतरते समय 10 मिनट तक सटीक रफब्रेकिंग हासिल की थी. इसकी गति 1680 मीटर प्रति सेकंड से 146 मीटर प्रति सेकंड हो चुका था. इसरो के टेलीमेट्री, ट्रैकिंग ऐंड कमांड नेटवर्क केंद्र के स्क्रीन पर देखा गया कि विक्रम अपने तय पथ से थोड़ा हट गया और उसके बाद संपर्क टूट गया.

ऑर्बिटर में लगे हुए हैं कैमरे
Loading...

आर्बिटर में SAR (सिंथेटिक अपर्चर रेडार), IR स्पेक्ट्रोमीटर और कैमरे की मदद से 10 x 10 किलोमीटर के इलाके को छाना जा सकता है. वैज्ञानिकों के मुताबिक लैंडर विक्रम का पता लगाने के लिए उन्हें उस इलाके की हाई रेजॉलूशन तस्वीरें लेनी होंगी.

'लैंडर से संपर्क की 14 दिनों तक करते रहेंगे कोशिश'
इसरो के चेयरमैन सिवन ने दूरदर्शन को दिए अपने इंटरव्यू में कहा कि हालांकि हमारा चंद्रयान 2 के लैंडर से संपर्क टूट चुका है, लेकिन वो लैंडर से दोबारा संपर्क स्थापित करने के लिए अगले 14 दिनों तक प्रयास करते रहेंगे. उन्होंने कहा कि लैंडर के पहले चरण को सफलता पूर्वक पूरा किया गया, जिसमें यान की गति को कम करने में एजेंसी को सफलता मिली. हालांकि अंतिम चरण में आकर लैंडर का संपर्क एजेंसी से टूट गया.

यह भी पढ़े:  ISRO चीफ सिवन का दावा- असफल नहीं हुआ चंद्रयान-2, अगले 14 दिनों तक कोशिश जारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 8, 2019, 1:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...