लाइव टीवी

GSAT 30 लॉन्‍च: अब भारत में बैंक एटीएम, स्‍टॉक एक्‍सचेंज और कम्युनिकेशन सर्विसेस होंगी फास्‍ट

News18Hindi
Updated: January 17, 2020, 11:37 AM IST
GSAT 30 लॉन्‍च: अब भारत में बैंक एटीएम, स्‍टॉक एक्‍सचेंज और कम्युनिकेशन सर्विसेस होंगी फास्‍ट
फ्रेंच गुयाना से यह सैटेलाइट लॉन्च किया गया.

इसरो (ISRO) के अनुसार जीसैट-30 (GSAT 30) का इस्तेमाल व्यापक रूप से वीसैट नेटवर्क, टेलीविजन अपलिंकिंग, टेलीपोर्ट सेवाएं, DTH टेलीविजन सेवाओं के लिए किया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 17, 2020, 11:37 AM IST
  • Share this:
फ्रेंच गुयाना/नई दिल्ली. भारत ने संचार उपग्रह जीसैट 30 (GSAT 30) का फ्रेंच गुयाना से एरियन 5 का गुरुवार देर रात सफल लॉन्च किया. यह सैटेलाइट उच्च गुणवत्ता वाली टेलीविजन, दूरसंचार एवं प्रसारण सेवाएं मुहैया कराएगी. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो ISRO) ने बताया कि जीसैट-30 सैटेलाइट ने भारतीय समयानुसार देर रात 2 बजकर 35 मिनट पर दक्षिण अमेरिका के उत्तरपूर्वी तट पर फ्रांसीसी क्षेत्र कौरो के एरियर प्रक्षेपण परिसर से उड़ान भरी.

एरियन 5 यान ने करीब 38 मिनट की उड़ान के बाद उपग्रह को उसकी कक्षा में स्थापित किया. इसरो ने ट्वीट किया, ‘जीसैट 30 एरियन 5 के ऊपरी चरण से सफलतापूर्वक अलग हो गया.’ इसे कम्‍युनिकेशन के क्षेत्र में भारत का बड़ा और अगला कदम बताया जा रहा है.



जानें क्या है GSAT-30 की खासियत?>> GSAT-30 का वजन लगभग 3100 किलोग्राम है. इसरो के मुताबिक, GSAT-30 उपग्रह INSAT-4 की जगह काम करेगा. इसकी कवरेज क्षमता इनसैट-4 से ज्यादा होगी.

>>जीसैट-30 पृथ्वी के ऊपर 15 साल तक भारत के लिए काम करता रहेगा. इससे भारत की कम्युनिकेशन सर्विस को मजबूती मिलेगी.

>> यह सैटेलाइट DTH, टेलीविजन अपलिंक और वीसैट सर्विस के कम्युनिकेशन के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

GSAT1
GSAT-30 इसरो द्वारा डिजाइन किया हुआ और बनाया गया एक दूरसंचार उपग्रह है.


>> GSAT-30 से आपदाओं की पूर्व सूचना और उसके रेस्क्यू ऑपरेशन की जानकारी मिलने में आसानी होगी.

>> जीसैट-30 के कम्युनिकेशन पेलोड गको की मदद से टेलीपोर्ट सेवाएं, डिजिटल सैटेलाइट खबर संग्रहण (DSNG) जैसी सेवाओं के संचार में मदद मिलेगी. मौसम संबंधी जानकारी जुटाने में भी यही सैटेलाइट इस्तेमाल की जाती है.

>>इसरो ने बताया गया कि यह सैटेलाइट केयू बैंड में भारतीय मुख्य भूमि और द्वीपों को सी बैंड में खाड़ी देशों, बड़ी संख्या में एशियाई देशों और आस्ट्रेलिया को कवरेज प्रदान करता है.

>>इसरो ने बताया कि ये सैटेलाइट बैंकों के एटीएम, स्‍टॉक एक्‍सचेंज और ई-गवर्नेंस एप्‍लीकेशन कनेक्‍टेविटी को सपोर्ट करेगा. ये सैटेलाइट इन सेवाओं में तेजी लाएगा.

 ये भी पढ़ें: 2020 में इसरो करेगा बड़ा धमाका, अंतरिक्ष में भेजेगा मानव

चंद्रयान-2 मिशन ने 98 फीसदी लक्ष्य हासिल कर लिया है : इसरो प्रमुख

 


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 17, 2020, 8:41 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर