Corona Crisis: दिल्ली हाई कोर्ट में उठा निजी अस्पतालों में महंगे बेड का मुद्दा

देश में कोरोना से होने वाली मौत का आंकड़ा डराने लगा है.

देश में कोरोना से होने वाली मौत का आंकड़ा डराने लगा है.

Coronavirus Crisis in India: कोरोना वायरस संक्रमण के बीच ऑक्सीजन संकट से जूझ रही है. दिल्ली में मरीजों को अस्पतालों में बेड के लिए भी मारामारी करनी पड़ रही है. राजधानी में दिल्ली सरकार के तमाम दावों के बावजूद कोरोना संक्रमित मरीज बेड के लिए परेशान हो रहे हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में ऑक्सीजन (Delhi Oxygen Crisis) समेत अन्य कई सुविधाओं को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट में शुक्रवार को भी सुनवाई जारी है. दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) में सुनवाई के दौरान कोर्ट के समक्ष दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों द्वारा नियम विरुद्ध बेड के लिए बहुत ज्यादा कीमत मांगने का मुद्दा भी उठा. दिल्ली हाई कोर्ट के सामने वकील अभय गुप्ता ने बेड के लिए मनमाने दाम लिए जाने का मुद्दा उठाया.

कोरोना वायरस संक्रमण के बीच ऑक्सीजन संकट से जूझ रही है. दिल्ली में मरीजों को अस्पतालों में बेड के लिए भी मारामारी करनी पड़ रही है. राजधानी में दिल्ली सरकार के तमाम दावों के बावजूद कोरोना संक्रमित मरीज बेड के लिए परेशान हो रहे हैं. इस दौरान निजी अस्पतालों लेकर तमाम तरह की शिकायतें मिल रही हैं. लोगों को कहना है कि इस संकट के दौरान निजी अस्पताल में बेड के लिए बहुत ज्यादा पैसे मांग रहे हैं.

दिल्ली सराकर ने अस्पतालों को दिए निर्देश

इस बीच कोरोना संक्रमित मरीजों को बेड संबंधी परेशानी से बचाने के लिए दिल्ली सरकार ने राजधानी के सभी अस्पतालों को बेड के बारे में खास निर्देश दिया है. सरकार के निर्देश के मुताबिक, दिल्ली कोरोना ऐप पर हर 2 घंटे में बेड की उपलब्धता की जानकारी देते रहना होगा. सरकार का मानना है कि इससे उन लोगों को मदद मिलेगी जिन्हें बेड की तलाश में इधर-उधर भटकना पड़ता है.

Youtube Video

ये भी पढ़ेंः- भारत को अगर कोरोना पर काबू पाना है तो शीर्ष चिकित्सा विशेषज्ञ की बात सुनें




दिल्ली सरकार का यह आदेश राजधानी के सभी अस्पतालों के लिए जारी कर दिया गया है. इसमें कहा गया है कि अस्पतालों को हर 2 घंटे के भीतर ये अपडेट करते रहना होगा कि उनके पास बेड की उपलब्धता की क्या स्थिति .

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज