राज्यसभा में कांग्रेस ने उठाया ISRO वैज्ञानिकों की सैलरी काटने का मुद्दा

भारत सरकार ने चंद्रयान -2 के प्रक्षेपण से ठीक पहले इसरो के वैज्ञानिकों के वेतन में कटौती की थी.

News18Hindi
Updated: July 31, 2019, 5:19 AM IST
राज्यसभा में कांग्रेस ने उठाया ISRO वैज्ञानिकों की सैलरी काटने का मुद्दा
भारत सरकार ने चंद्रयान -2 के प्रक्षेपण से ठीक पहले इसरो के वैज्ञानिकों के वेतन में कटौती की थी.
News18Hindi
Updated: July 31, 2019, 5:19 AM IST
कांग्रेस के दिग्गज नेता और राज्यसभा सदस्य मोतीलाल वोरा ने मंगलवार को राज्यसभा में इसरो के वैज्ञानिकों के वेतन में कटौती का मुद्दा उठाया. उन्होंने कहा कि चंद्रयान -2 के सफल प्रक्षेपण के बाद पूरा देश इसरो के वैज्ञानिकों की सफलता पर बधाई दे रहा है. भारत सरकार उनके वेतन में कटौती कर रही है.

इसरो के वैज्ञानिकों के लिए दो अतिरिक्त वेतन वृद्धि को राष्ट्रपति द्वारा अनुमोदित किया गया था, ताकि इसरो के वैज्ञानिक बनने के लिए देश की सर्वश्रेष्ठ प्रतिभाओं को प्रेरित किया जा सके. इसरो के वैज्ञानिकों को भी प्रोत्साहित किया जाना चाहिए. मोतीलाल वोरा ने कहा कि यह अतिरिक्त वेतन वृद्धि 1996 में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अंतरिक्ष विभाग द्वारा लागू की गई थी.

शीर्ष अदालत ने अपने आदेश में कहा था कि वेतन वृद्धि को 'पेरोल' के रूप में माना जाना चाहिए. मोतीलाल वोरा ने राज्यसभा में अपील की कि केंद्र सरकार को इसरो के वैज्ञानिकों के वेतन में कटौती नहीं करनी चाहिए.

यह भी पढ़ें:  चंद्रमा पर रोवर उतारने के लिए सभी गतिविधियां सामान्‍य: ISRO

वैज्ञानिकों ने लिखी चिट्ठी

भारत सरकार ने चंद्रयान -2 के प्रक्षेपण से ठीक पहले इसरो के वैज्ञानिकों के वेतन में कटौती की थी.12 जून, 2019 को जारी एक आदेश में, केंद्र सरकार ने कहा कि 1996 से दो अतिरिक्त वेतन वृद्धि के रूप में इसरो के वैज्ञानिकों और इंजीनियरों को दी जा रही प्रोत्साहन अनुदान राशि बंद की जा रही है.

वेतन में कटौती की सूचना के बाद वैज्ञानिकों  स्पेस इंजीनियर्स एसोसिएशन ने इसरो के चेयरमैन डॉ. के. सिवन को चिट्ठी लिखकर इसे रोकने के लिए केंद्र सरकार के आदेश को रद्द करने में मदद कराने की अपील की थी.
Loading...

एसईए के अध्यक्ष ए मणिरमन ने चिट्ठी में कहा था कि सरकारी कर्मचारी के वेतन में किसी भी तरह की कटौती तब तक नहीं की जा सकती, जब तक बहुत गंभीर स्थिति न आ जाए. वेतन में कटौती से वैज्ञानिकों के उत्साह में कमी होगी और  इसरो के वैज्ञानिक सरकार के इस कदम से अचरज में हैं.

यह भी पढ़ें:   ISRO के लिए खुशखबरी, अब 2 साल चांद के चक्कर लगाएगा ऑर्बिटर
First published: July 31, 2019, 5:18 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...