लॉकडाउन में गई नौकरी तो महाराष्‍ट्र में IT इंजीनियर और डबल ग्रेजुएट करने लगे नाले की सफाई

कोरोना में नौकरी जाने के बाद पढ़े-लिखे युवा नाले की सफाई करने को मजबूर हैं. (प्रतिकात्‍मक फोटो)

बता दें कि महाराष्‍ट्र (Maharashtra ) के मंब्रा इलाके में दीवा से एक ग्रुप को नाला साफ करने के लिए प्राइवेट ठेका (Private Contract) दिया गया है. 20 सदस्‍यों के इस ग्रुप में शामिल समीर ने बताया है कि वो डबल ग्रेजुएट हैं और पिछले तीन महीनों से ठेकेदार के साथ काम कर रहा है.

  • Share this:
    मुंबई. पिछले साल से देश में फैली कोरोना महामारी (Corona Epidemic) ने जहां लोगों की सेहत को बड़ा नुकसान पहुंचाया है तो वहीं काफी संख्‍या में लोगों का रोजगार भी छीन लिया है. हालात ये हो चुके हैं कि आईटी इंजीनियर (IT Engineer) और डबल ग्रेजुएट (Double Graduate) कर चुके छात्र पैसों के लिए नाले की सफाई तक करने को मजबूर हैं. बारिश के मौसम में महाराष्‍ट्र के मंब्रा इलाके में आपको ऐसे कई छात्र नाले की सफाई करते हुए दिखाई दे देंगे. न्‍यूज एजेंसी पीटीआई से बात करते हुए एक छात्र ने कहा कि, नाले की सफाई से हमें जो भी आमदनी होती है, उससे हम परिवार की मदद कर पाते हैं. काम चाहे किसी भी तरह का हो काम तो काम होता है.

    बता दें कि महाराष्‍ट्र के मंब्रा इलाके में दीवा से एक ग्रुप को नाला साफ करने के लिए प्राइवेट ठेका दिया गया है. हर साल मानसून में बारिश के दौरान नाले भर जाते हैं. इन नालों की सफाई का जिम्‍मा ठेकेदारों को दिया जाता है. बता दें कि इस बार भी जिस प्राइवेट ठेकेदार को ये काम सौंपा गया है उसके पास जो लोग काम करते हैं वह काफी पढ़े लिखे हैं. 20 सदस्‍यों के इस ग्रुप में शामिल समीर ने बताया है कि वो डबल ग्रेजुएट हैं और पिछले तीन महीनों से ठेकेदार के साथ काम कर रहा है.

    इसे भी पढ़ें :- कोरोना की तीसरी लहर में बच्चों के गंभीर रूप से प्रभावित होने के ठोस सबूत नहीं, लैनसेट पत्रिका ने कहा

    समीर ने बताया कि उसने कई कंपनियों में काम की तलाश की लेकिन कई कंपनियों कोरोना महामारी के दौरान या तो बंद हो गई हैं या फिर अभी किसी को भी नौकरी नहीं दे रही हैं. मुझे इस समय नौकरी की जरूरत है, जिससे मैं कुछ कमा सकूं और परिवार का पेट पाल सकूं. नाले की सफाई करने वाले में अनिल भी शामिल हैं. अनिल आईटी इंजीनियर हैं. अनिल एक कंपनी में काम किया करते थे लेकिन महामारी के दौरान उनकी जॉब चली गई थी. पैसे बचाने के लिए अनिल 10 किलोमीटर पैदल चलकर आते हैं और नाले की सफाई में जुट जाते हैं.

    इसे भी पढ़ें :- कोरोना की दूसरी लहर में हर 5 में से 1 मौत की नहीं दी गई थी जानकारी, अब डेटा सुधार रहे राज्य

    नाले की सफाई कर रहे एक अन्‍य शख्‍स ने कहा किसी भी काम को करने में शर्म नहीं करनी चाहिए. अगर हमें जिंदा रहना है और परिवार की मदद करनी है तो पैसा कमाना ही होगा. हम भले ही पोस्‍ट ग्रैजुएट या डबल ग्रैजुएट हैं लेकिन इस समय हमारी डिग्री हमारे किसी काम की नहीं है. हम अभी जो काम कर रहे हैं वो भी कुछ ही हफ्तों का बचा है. इसके बाद नई जॉब तलाश करनी होगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.