कर-नाटक: कांग्रेस-JDS गठबंधन सरकार गिरी, बीजेपी को मिले 105 वोट

कर्नाटक सरकार में कांग्रेस के 79 विधायकों में 13 और जेडीएस के 37 विधायकों मे से 3 ने इस्तीफा दे दिया है. इसके बाद कुमारस्वामी सरकार संकट में है.

News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 11:11 AM IST
News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 11:11 AM IST
कर्नाटक का सियासी नाटक 21 दिन बाद मंगलवार शाम थम गया. आज एचडी कुमारस्‍वामी सरकार फ्लोर में फेल हो गई. कर्नाटक विधानसभा में एचडी कुमारस्‍वामी ने विश्‍वासमत प्रस्‍ताव पेश किया. इस दौरान विश्‍वासमत के पक्ष में 99 और बीजेपी के पक्ष में 105 वोट पड़े. बीजेपी ने छह वोटों से फ्लोट टेस्‍ट जीत लिया है.

इससे पहले विश्‍वास प्रस्‍ताव पर चर्चा में भाग लेते हुए कुमारस्‍वामी ने कहा, 'मैं एक्‍सीडेंटल सीएम बना. सीएम कार्यकाल के दौरान मैंने अच्‍छा काम किया. मैं खुशी-खुशी अपने पद का त्‍याग करने के लिए तैयार हूं.' कुमारस्‍वामी की सरकार गिरने के बाद बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्‍पा ने कहा कि बीजेपी के खेमे में जश्‍न का माहौल है.

पढ़ें  HIGHLIGHTS:-


>>7:36 PM- कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन को 99 वोट मिले, भारतीय जनता पार्टी को 105 वोट मिले.

>>7:32 PM- स्पीकर ने कहा मैं केवल तभी वोट दूंगा जब कोई टाई हो. कुर्सी की गरिमा बचाने के लिए मैं अब वोट नहीं दूंगा.

>>7:27 PM- पांचवीं पंक्ति के लिए मतदान चल रहा है, पहली चार पंक्तियां मतदान कर चुकी हैं

>>7:21 PM- कुमारस्वामी ने कहा- जैसा कि डीके शिवकुमार ने बताया, बीएसवाई ने कहा था कि इस्तीफा देने वाले सदस्य, जो दोषपूर्ण हैं, को दस साल के लिए अयोग्य होना चाहिए. जो लोग हमारा इतिहास लिखने जा रहे हैं, वे इस सब पर ध्यान देंगे. मुझे पता है कि आप भी सरकार नहीं चला सकते हैं. तभीअध्यक्ष केआर रमेश ने हस्तक्षेप किया और उनसे पूछा कि "अगर बागी वापस आते हैं, तो क्या आप उन्हें ले जाएंगे? मैं आपसे और सिद्धारमैया से पूछ रहा हूं. क्या आप उन्हें वापस लेंगे? कुमारस्वामी ने कहा कि जेडीएस अपने 3 सदस्यों को नहीं लेगी सिद्धारमैया का भी यह कहना है कि बागी कांग्रेस विधायकों को स्वीकार नहीं किया जाएगा.
Loading...

>>7:15 PM- एचडी कुमारस्वामी ने कहा यह ऑपरेशन कमला की राजनीति भाजपा ने शुरू की थी. हमने नहीं. आपको आत्मनिरीक्षण करना चाहिए. हमारे पास बेंगलुरु में केवल 2 विधायक हैं और तब भी हमने बेंगलुरु के विकास के लिए 1,30,000 करोड़ रुपये दिए गए थे. यह भी हमारी उपलब्धियों में से एक है. इसके लिए हमारे अधिकारी भी जिम्मेदार हैं.

>>7:10 PM- हमने जिला अधिकारियों के साथ एक वर्ष में तीन बार बैठकें बुलाईं. आपको यह बताने की जरूरत है कि सूखे की स्थिति से निपटने में हमने क्या गलती की है क्योंकि अगर कोई गलती है, तो उसे सुधारने की जरूरत है. मैं विभिन्न विभागों के बारे में आगे चर्चा करना चाहता हूं.

>>7:03 PM- कुमारस्वामी ने कहा हम बात कर रहे थे कि कैसे हमारे कुछ सदस्य धाराप्रवाह अंग्रेजी नहीं बोल सकते. यह विधायकों का राज्य है. अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों की मांग है. सरकारी स्कूली बच्चों के लिए, हमने अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों के लिए धन जारी किया है. हमारी सरकार ने शिक्षा को महत्व दिया है.

>>6:49 PM- सीएम एचडी कुमारस्वामी का कहना है कि उन्होंने इनमें से बागी विधायकों के निर्वाचन क्षेत्रों के लिए विकासात्मक कार्यों के लिए 100-600 करोड़ रुपये दिए हैं. इसके बाद उन्होंने हर निर्वाचन क्षेत्र के लिए राशि की सूची बनाई है.

>>6:49 PM- इलेक्ट्रॉनिक मीडिया यह भूल गया कि आईएमए मामले में अब तक क्या हुआ है. मीडिया और भाजपा के सीटी रवि का कहना है कि रोशन बेग को हिरासत में लेने के लिए राज्य मशीनरी का दुरुपयोग किया गया. हमारी एसआईटी ने मंसूर खान का पता लगाया और उसे वापस लाया गया. वह दिल्ली लाया गया. ED ने SIT को इससे बाहर करते हुए उसे गिरफ्तार कर लिया.

>>6:46 PM- कुमारस्वामी ने कहा सीएम की पोज़िशन स्थायी नहीं है. कुछ चैनल IMA मामले में बिरयानी कहानी के बारे में चर्चा कर रहे थे. कुमारस्वामी ने कहा मैं मीडिया से कह रहा हूं कि इस देश को बर्बाद मत कीजिए.

>>6:44 PM- कुमारस्वामी ने कहा सिर्फ आलोचना मत करें. अगर मैं कोई गलती करता हूं तो मेरे कान खींचे. अगर अच्छा काम हो तो उसकी सराहना करें. कृपया इसे समझें. मेरी सरकार बेशर्म नहीं है. हमने ऐसा क्या किया है जो आप हमें ऐसे नामों से बुला रहे हैं. क्या मैं उन लोगों के लिए पक्षपाती रहा जिन्होंने मेरे लिए वोट नहीं किया.

>>6:41 PM- कृष्णा बायरे गौड़ा ने कुमारस्वामी पर निशाना साधते हुए कहा- इससे आपको भी चोट पहुंच सकती है. आपने जो कहा, उसका आधा हिस्सा ही बताया है. बागी विधायकों ने सुप्रीम कोर्ट को यह भी बताया कि जब बागी विधायकों के आने के बारे में आपको पता चला तो आप खुद गायब हो गए. उनके आने से पहले आप एक निजी कार में रवाना हो गए.

>>6:31 PM- भाजपा जल्दी में है. हम वोट डालेंगे, चिंता मत कीजिए. मैं भागने वाला नहीं हूं. चर्चा होने दीजिए. लोगों को पता होना चाहिए. मैं इस डर से भागने वाला नहीं हूं कि मैं जीतूंगा या हारूंगा. वोटों का बंटवारे से  मैं चिंतित नहीं हूं. लेकिन मुझे अपनी बात पूरी करने दें.

>>6:28 PM- एचडी कुमारस्वामी ने कहा ताज वेस्टएंड में मेरा एक कमरा है. जब पिछली बार विधानसभा चुनाव की घोषणा हुई थी, तब मैं वहां कमरे से परिणाम देख रहा था. मुझे गुलाम नबी आज़ाद का फोन आया. मुझे बताया गया था कि सरकार ने सरकार बनाने के लिए हमारी पार्टी का समर्थन बढ़ाया है.  उन्होंने कहा मैंने उस कमरे को भाग्यशाली माना है.

>>6:23 PM- कुमारस्वामी ने कहा- मैंने किसानों को धोखा नहीं दिया है. बजट के दौरान सिद्धारमैया ने जो भी घोषणा की है, मैंने उनमें से किसी भी फंड में कटौती नहीं की है. हमने कृषि ऋण माफी का वादा किया है और इसके अनुसार राष्ट्रीयकृत बैंकों के साथ बैठकें की हैं. फंडों को भी मंजूरी दी है. हमने किसानों से जानकारी मांगी है. कुमारस्वामी ने कहा हमें जानकारी मिल रही है. हमें बैंकों द्वारा बताया गया है कि राशि का वितरण किया जाएगा. मैंने कभी किसानों को धोखा नहीं दिया है.

>>6:17 PM- कुमारस्वामी ने कहा इस गठबंधन सरकार के पहले दिन से, अस्थिर सरकार की मीडिया रिपोर्टें थीं.  स्थिर सरकार के लिए भी काम करना इतना मुश्किल है. अधिकारी इस तरह कैसे काम करते हैं. हमारे अधिकारियों ने दिन रात काम किया है. अगर मैंने कुछ भी हासिल किया है, तो यह इन अधिकारियों की उपलब्धि है.

>>6:11 PM- मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा चर्चा इस बात पर हो रही है कि मैंने इस्तीफा क्यों नहीं दिया और मैं कुर्सी से क्यों चिपका रहा, मेरा विश्वास मत को लंबा खींचने का कोई इरादा नहीं था; मैं स्पीकर और राज्य के लोगों से माफी मांगता हूं.

>>6:03 PM- विधानसभा में विश्वास मत से पहले कर्नाटक के सीएम एचडी कुमारस्वामी का कहना है कि वह खुशी से पद छोड़ने के लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा एक दिन किसी चैनल ने एक कहानी चलाई, जिसमें कहा गया था कि हम लोड शेडिंग पर जोर दे रहे हैं. सीएम राज्य को अंधेरे में धकेल रहे हैं. क्या मैं ऐसे सर्टिफिकेट लेने के लिए मुख्यमंत्री बना था. आज मैं खुशी से इस पद को छोड़ने के लिए तैयार हूं.

>>6:00 PM- सीएम एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि उन्होंने हमेशा पार्टी के लिए लड़ाई लड़ी है, चाहे जो भी हो. "1996 में, मुझे लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए कहा गया था. कांग्रेस के उम्मीदवार चंद्रशेखर मूर्ति के खिलाफ खड़े होने के लिए कोई नहीं था और मुझे चुनाव लड़ने के लिए कहा गया. 1999 में, पार्टी कार्यकर्ताओं ने मुझे शिवकुमार के खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए कहा, क्योंकि कोई और नहीं था. मैंने चुनाव लड़ा और हार गया. मैं हार गया लेकिन मैंने दोनों बार पार्टी के लिए चुनाव लड़ा. मैं तब राजनीति छोड़ना चाहता था, लेकिन पार्टी कार्यकर्ताओं ने मुझे जाने नहीं दिया.

>>5:55 PM- बेंगलुरु के पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार ने कहा- आज और कल हम शहर भर में धारा 144 लगा रहे हैं. सभी पब, शराब की दुकानें 25 तारीख तक बंद रहेंगी. अगर कोई भी इन नियमों का उल्लंघन करता हुआ पाया जाता है, तो उन्हें दंडित किया जाएगा.

>>5:50 PM- सीएम एचडी कुमारस्वामी ने आरोपों से इनकार किया कि वह ताज वेस्टेंड होटल में आराम कर रहे हैं. उन्होंने कहा सुबह से, मीडिया में ऐसी खबरें हैं कि वह सीएम ताज वेस्टएंड में आराम कर रहा हूं. मैं आखिरी समय में करदाताओं का पैसा लूट रहा हूं लेकिन ऐसा नहीं है मैं तैयारी कर रहा था. मैंने उन लोगों के लिए आखिरी मिनट तक कोशिश की जिन्होंने मेरा समर्थन किया

>>5:02 PM- एचडी रेवन्ना विधानसभा में बोल रहे हैं. उनके बाद सीएम कुमारस्वामी तब तक बोलेंगे जब तक कोई और नहीं बोलना चाहता और अध्यक्ष इसकी अनुमति नहीं देते. सीएम के भाषण के बाद फ्लोर टेस्ट होगा.

>>4:58 PM- सिद्धारमैया ने कहा है कि सरकारें आएंगी जाएंगी लेकिन हमें संविधान को बचाना होगा. विधायकों की थोक या खुदरा खरीद फरोख्त गलत है.

>>4:54 PM- बीजेपी ने आरोप लगाया कि एचडी कुमारस्वामी टैक्सपेयर्स का पैसा बर्बाद कर रहे हैं.

>>3:00 PM- विधानसभा में कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार बागी विधायकों पर भड़कते दिखे. उन्होंने कहा कि बागी विधायकों ने मेरी पीठ में चाकू घोंपा है, लेकिन चिंता मत करो वो बीजेपी वालों के साथ भी ऐसा करेंगे. मैं आपसे कह रहा हूं कि वो लोग मंत्री नहीं बन पाएंगे.

>>1:56 PM- बागी विधायकों के वकील मुकुल रोहतगी ने स्पीकर केआर रमेश कुमार से बंद चेंबर में मुलाकात की. इसके बाद कांग्रेस पार्टी का एक डेलीगेशन भी स्पीकर से मुलाकात करेगा.

>>12:50 PM- कर्नाटक विधानसभा स्पीकर केआर रमेश कुमार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि सदन की कार्यवाही चल रही है. आज शाम 6 बजे तक कुमारस्वामी सरकार का फ्लोर टेस्ट करा दिया जाएगा. इसपर कोर्ट ने कहा कि स्पीकर आशावादी हैं. उम्मीद है कि आज फ्लोर टेस्ट हो ही जाएगा.

>>12:35 PM-सुप्रीम कोर्ट में एक बार फिर कर्नाटक मसले पर सुनवाई टल गई है. सीजेआई रंजन गोगोई का कहना है कि अभी स्पीकर चर्चा करवा रहे हैं, शाम तक वोटिंग हो सकती है. लिहाजा सुनवाई बुधवार को ही होगी.

>>12:25 PM-कांग्रेस की ओर से अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि जब याचिका दायर की गई है तो स्पीकर मतदान कैसे करा दें? सरकार को गिरना है आज या कल. इस पर शीर्ष अदालत ने कहा कि ये हम नहीं तय करेंगे कि सरकार कब गिर रही है लेकिन स्पीकर आशावादी हैं और बहस की बात कर रहे हैं.

कर्नाटक के स्पीकर केआर रमेश कुमार


>>11:50 AM-कर्नाटक विधानसभा की कार्यवाही जारी है. स्पीकर ने आज बागी विधायकों को मिलने के लिए बुलाया है. स्पीकर केआर रमेश कुमार बारी-बारी से इन विधायकों से मुलाकात करेंगे और उनके इस्तीफे पर बात करेंगे. अभी कांग्रेस नेता दिनेश गुंडूराव और सिद्धारमैया इस वक्त स्पीकर रमेश कुमार से उनके चेंबर में मुलाकात कर रहे हैं.

>>10:50 AM-कर्नाटक में आज फ्लोर टेस्ट होना है, लेकिन कांग्रेस विधायक ईश्वर कांद्रे ने मांग की है कि वोटिंग को 4 हफ्ते के लिए टाल देना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर बागी विधायक 4 हफ्ते का वक्त मांग रहे हैं तो फिर उन्हें भी वोटिंग का वक्त मिलना चाहिए.

वायरल हुआ कुमारस्वामी का झूठा इस्तीफा
इसके पहले सोमवार को मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के इस्तीफे की खबर आई थी. इस कथित इस्तीफे पर मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा था कि मुझे पता चला है कि मैंने राज्यपाल को अपना इस्तीफा दे दिया है. मैं नहीं जानता कि कौन मुख्यमंत्री बनने को इतना उतावला है. किसी ने मेरे फर्जी हस्ताक्षर करके यह लेटर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया है. मैं पब्लिसिटी के लिए इस गिरे हुए स्तर से हैरान हूं.

येदियुरप्पा ने विधायकों को बांटा चॉकलेट
सीएम कुमारस्वामी के इस्तीफे की खबर के बीच बीजेपी विधायक बीएस येदियुरप्पा ने सदन में विधायकों को चॉकलेट बांटी. हालांकि, इस बारे में बताया गया कि देर रात तक सदन की कार्यवाही चलने के कारण विधायकों के लिए खाने की इंतजाम हो रहा था. खाना बनने में वक्त लग रहा था, लिहाजा उन्होंने विधायकों की भूख का ख्याल करते हुए चॉकलेट बांटी. उसके बाद विधायकों के डिनर के लिए बिरयानी बनवाई गई.

यह भी पढ़ें: कर्नाटक संकट: शिवकुमार का नया दावा, कांग्रेस का होगा CM

स्पीकर ने बागी विधायकों को दिया पेश होने का आदेश
दूसरी ओर स्पीकर ने बागी विधायकों के अयोग्यता वाले मामले में उन्हें मंगलवार को पेश होने को कहा है. स्पीकर ने 15 बागी विधायकों को चिट्ठी लिख मंगलवार सुबह 11 बजे पेश होने को कहा है. कार्यवाही के दौरान स्पीकर ने कहा, 'सुप्रीम कोर्ट का आदेश समझने में देरी हुई. सभी सदस्य सदन में गरिमा बनाए रखें. यहां समय बर्बाद करने से विधानसभा, स्पीकर और विधायकों की छवि धूमिल होती है.'

 

सोमवार को मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के इस्तीफे की खबर आई थी.


कांग्रेस के 13 और जेडीएस के 3 विधायकों ने दिया इस्तीफा
कर्नाटक सरकार में कांग्रेस के 79 विधायकों में 13 और जेडीएस के 37 विधायकों मे से 3 ने इस्तीफा दे दिया है. इसमें उमेश कामतल्ली, बीसी पाटिल, रमेश जारकिहोली, शिवाराम हेब्बर, एच विश्वनाथ, गोपालैया, बी बस्वराज, नारायण गौड़ा, मुनिरत्ना, एसटी सोमाशेखरा, प्रताप गौड़ा पाटिल, मुनिरत्ना और आनंद सिंह शामिल हैं. वहीं, कांग्रेस के निलंबित विधायक रोशन बेग ने भी इस्तीफा दे दिया है. 10 जून को के सुधाकर, एमटीबी नागराज भी इस्तीफा सौंप चुके हैं.

क्या है बहुमत का आंकड़ा?
स्पीकर और मनोनीत सदस्यों को मिलाकर सदन की कुल संख्या 225 है. इसमें से 17 सदस्यों के सदन में शामिल नहीं होने की संभावना है. 17 में से 12 कांग्रेस के, 3 जेडी(एस) के विधायक हैं और 2 कांग्रेसी विधायक अस्पताल में भर्ती हैं. इस तरह अब सदन की संख्या 208 रह जाती है. बहुमत साबित करने के लिए 105 वोटों की जरूरत होगी.

कर-नाटक: आज शाम 6 बजे तक खत्म करना होगा फ्लोर टेस्ट

कर्नाटक के बीजेपी विधायक


ये 4 विधायक बचा सकते कुमारस्वामी सरकार
बागी विधायकों में बेंगलुरु क्षेत्र से आने वाले चार विधायक- एसटी सोमशेखर, बी बासवराजू, एन मुनिरत्ना और रामलिंगा रेड्डी सबसे अहम माने जा रहे हैं. ऐसा कहा जा रहा है कि परमेश्वर से उनके निजी विरोध को सुलझाया जा सकता है. अगर ऐसा हुआ तो ये चार बागी विधायक बीजेपी की मदद करने से पीछे हट सकते हैं. कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि इन चार विधायकों को कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार से कोई दिक्कत नहीं है. परमेश्वरा से निजी खुन्नस के चलते इन्होंने इस्तीफा देने का कदम उठाया.

ऐसे में इस बात के आसार हैं कि अगर डिप्टी सीएम परमेश्वरा इन चार विधायकों से बैठकर आपस में मामला सुलझा लेते हैं, तो उनका इस्तीफा शायद विधानसभा स्पीकर केआर रमेश कुमार द्वारा मंजूर करने की नौबत ही न आए. बता दें कि ये सभी विधायक कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारमैया के करीबी हैं.

यह भी पढ़ें:  संकट में कर्नाटक सरकार, ज्योतिषियों और टोटकों के सहारे नेता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 23, 2019, 6:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...