लोकसभा में पूछे जाने वाले प्रश्नों की संख्या तय, रोजाना दिए जाएंगे 160 सवालों के जवाब

लोकसभा में पूछे जाने वाले प्रश्नों की संख्या तय, रोजाना दिए जाएंगे 160 सवालों के जवाब
14 सितंबर से संसद का मानसून सत्र शुरू हो रहा है.

सचिवालय (Lok Sabha Secretariat) की तरफ से बताया गया है कि कोविड 19 की जैसी गंभीर स्थिति को देखते हुए प्रश्नकाल हटाए जाने का निर्णय किया गया था. सचिवालय ने कहा कि अस्थायी व्यवस्था के तहत ऐसा किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 4, 2020, 9:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. संसद की कार्यवाही के दौरान प्रश्नकाल (Question Hour) हटाए जाने को लेकर मचे बवाल के बाद अब लोकसभा सचिवालय (Lok Sabha Secretariat) ने जवाब दिया है. सचिवालय की तरफ से बताया गया है कि कोविड 19 (Covid-19) की जैसी गंभीर स्थिति (extraordinary situation) को देखते हुए प्रश्नकाल हटाए जाने का निर्णय किया गया था.

सचिवालय ने कहा कि अस्थायी व्यवस्था के तहत ऐसा किया गया है. दरअसल प्रश्नकाल के दौरान बड़ी संख्या में गैलरी में अधिकारियों की मौजूदगी को देखते हुए ये निर्णय लिया गया. इसके पीछे सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना मुख्य कारण है.

शीतकालीन सत्र में फिर शुरू कर दिया जाएगा प्रश्नकाल
सचिवालय की तरफ से साफ किया गया है कि ये परिवर्तन सिर्फ मानसून सत्र के लिए किया गया है. सरकार पहले ही साफ कर चुकी है कि शीतकालीन सत्र से प्रश्नकाल फिर से शुरू कर दिया जाएगा.







रोजाना 160 सवालों के दिए जाएंगे लिखित जवाब
सचिवालय द्वारा यह भी बताया गया कि भले ही प्रश्नकाल नहीं होगा लेकिन सरकार लिखित तौर पर सवालों के जवाब देती रहेगी. तकरीबन रोज 160 सवालों के जवाब लिखित तौर पर दिए जाएंगे यानी एक सप्ताह में 1120.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज