• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • ICMR का सुझाव- सेकेंडरी के बजाय पहले प्राइमरी स्कूलों को खोलें, जानें कारण

ICMR का सुझाव- सेकेंडरी के बजाय पहले प्राइमरी स्कूलों को खोलें, जानें कारण

आईसीएमआर के निदेशक डॉ बलराम भार्गव

आईसीएमआर के निदेशक डॉ बलराम भार्गव

Covid-19: भार्गव ने कहा कि हम स्पष्ट रूप से जानते हैं कि बच्चे वयस्कों की तुलना में वायरल संक्रमण को बेहतर तरीके से संभाल सकते हैं. उन्होंने कहा कि वयस्कों की तरह बच्चों में भी एंटीबॉडी एक्सपोजर समान है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देश भर में कोरोना वायरस के मामलों (Coronavirus Cases) में आई कमी के बाद स्कूलों को खोले जाने के फैसले को लेकर केंद्र ने कहा कि पहले प्राथमिक स्कूलों को खोला जाना चाहिए. आईसीएमआर के निदेशक डॉ बलराम भार्गव (ICMR DG Balram Bhargav) ने कहा कि एक बार जब भारत स्कूलों को खोलने पर विचार कर रहा है तो तो माध्यमिक विद्यालय खोलने से पहले प्राथमिक विद्यालय खोलना बुद्धिमानी होगी. उन्होंने कहा कि स्कूल बस चालक, शिक्षक और स्कूल के अन्य कर्मचारियों और सभी सहायक कर्मचारियों का टीकाकरण किए जाने की आवश्यकता है.

    भार्गव ने कहा कि हम स्पष्ट रूप से जानते हैं कि बच्चे वयस्कों की तुलना में वायरल संक्रमण को बेहतर तरीके से संभाल सकते हैं. उन्होंने कहा कि वयस्कों की तरह बच्चों में भी एंटीबॉडी एक्सपोजर समान है. कुछ स्कैंडिनेवियाई देशों ने अपने प्राथमिक स्कूलों को कोविड की किसी भी लहर के दौरान बंद नहीं किया.

    ये भी पढ़ें- पंजाब, राजस्थान, हरियाणा के बाद अब कर्नाटक और महाराष्ट्र ने बढ़ाई कांग्रेस की टेंशन

    देश की एक तिहाई आबादी में एंटीबॉडी नहीं
    भार्गव ने कहा कि राष्ट्रीय सीरो सर्वे का चौथा चरण जून-जुलाई में 21 राज्यों के 70 ज़िलों में आयोजित किया गया. इसमें 6-17 वर्ष की आयु के बच्चे शामिल थे. महत्वपूर्ण बात यह है कि एक तिहाई आबादी में एंटीबॉडी नहीं है.

    सीरो सर्वे को लेकर बलराम भार्गव ने कहा कि हमने 7252 स्वास्थ्य कर्मियों का अध्ययन किया और 10% ने टीका नहीं लिया था, उनमें सीरोप्रेवलेंस 85.2% था. निष्कर्ष के तौर पर, सामान्य आबादी के दो तिहाई यानी 6 साल से अधिक उम्र के लोगों को SARS-CoV-2 संक्रमण था.

    आईसीएमआर निदेशक ने कहा कि इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि एक तिहाई आबादी में एंटीबॉडी नहीं थी यानी देश की 40 करोड़ आबादी अभी भी असुरक्षित है.

    ये भी पढ़ें- 'देश के दो तिहाई लोगों में कोरोना एंटीबॉडी, 40 करोड़ पर कोविड का खतरा'

    भार्गव ने सुझाव दिया कि सामाजिक, सार्वजनिक, धार्मिक और राजनीतिक सभाओं से बचना चाहिए, गैर-जरूरी यात्रा को हतोत्साहित किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि पूरी तरह से टीकाकरण होने पर ही यात्रा करें. आईसीएमआर निदेशक ने कहा कि हमें जल्द से जल्द सभी स्वास्थ्य कर्मियों का पूर्ण टीकाकरण सुनिश्चित करने की जरूरत है और इसके साथ ही कमजोर समूहों में टीकाकरण में तेजी लाने की जरूरत है.

    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मंगलवार के अद्यतन आंकड़ों के मुताबिक भारत में 125 दिन में कोविड-19 के एक दिन में सबसे कम 30,093 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 3,11,74,322 हो गए.

    सुबह आठ बजे जारी किए गए अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, देश में 374 और लोगों की संक्रमण से मौत हो जाने के बाद कुल मृतक संख्या बढ़कर 4,14,482 हो गई. वहीं, उपचाराधीन मरीजों की संख्या भी कम होकर 4,06,130 हो गई है, जो पिछले 117 दिन में सबसे कम है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज