ये देश कोई धर्मशाला नहीं है कि कोई भी यहां आकर बस जाए: अमित शाह

अमित शाह ने दावा किया कि मध्य प्रदेश, राजस्थान और छतीसगढ़ में हम पूर्ण बहुमत से सरकार बनाएंगे और तेलंगाना-मिजोरम में भी हमारी स्थिति मजबूत होगी.

Ankit Francis | News18Hindi
Updated: December 9, 2018, 1:02 PM IST
Ankit Francis | News18Hindi
Updated: December 9, 2018, 1:02 PM IST
जागरण फोरम के दूसरे दिन शनिवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने एनआरसी के मुद्दे पर कहा कि हम इस देश को धर्मशाला नहीं बनने देंगे कि कोई भी आकर यहां बस जाए. उन्होंने जोर देते हुए कहा कि इस देश के संसाधनों पर सिर्फ उसका अधिकार है जो या तो यहां पैदा हुआ हो या फिर यहां की संस्कृति से इत्तेफाक रखता हो. शाह ने दावा किया कि मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में हम पूर्ण बहुमत से सरकार बनाएंगे और तेलंगाना-मिजोरम में भी हमारी स्थिति मजबूत होगी.

शाह ने एग्जिट पोल्स के बारे में कहा कि चुनाव के बाद जो एग्जिट पोल होते हैं उनका आकलन ये रहा है कि वो हमारे पक्ष में नहीं होता लेकिन नतीजे लगातार हमारे पक्ष में रहे हैं. 2019 में चुनावी मुद्दे क्या होंगे इस सवाल के जवाब में शाह ने कहा कि विकास और राम मंदिर में से हम किसी भी मुद्दे पर चुनाव लड़ सकते हैं, कांग्रेस तो राम मंदिर के मुद्दे पर मुंह दिखाने लायक ही नहीं है. राम मंदिर बनाना हमारे चुनावी घोषणापत्र का मुद्दा था और हम सार्वजनिक रूप से कहते रहे हैं कि वहां हर हाल में जितना जल्दी हो सके राम मंदिर बनना चाहिए. भविष्य में देश का प्रधानमंत्री बनने के बारे में शाह ने कहा कि बीजेपी में ये पार्टी तय करती है और फिलहाल पार्टी में मेरे से सीनियर 15 लोग मौजूद हैं.

एनआरसी पर उन्होंने कहा कि इसे बीजेपी के साथ जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए. ये देश ऐसे नहीं चल सकता कि कोई भी आकर यहां बस जाए. इस देश में उन्हीं लोगों को रहने का अधिकार है, उन्हीं का इसके संसाधनों पर अधिकार है जो यहां पैदा हुए हैं या यहां की संस्कृति से इत्तेफाक रखते हैं. 70 साल से घुसपैठियों को वोट बैंक की तरह इस्तेमाल किया जाता रहा है लेकिन बीजेपी का स्पष्ट मानना है कि इन्हें पहचान कर डिपोर्ट करना चाहिये. घुसपैठिये देश की सुरक्षा के लिए भी खतरा हैं ये देश धर्मशाल नहीं है.

सीबीआई में झगड़े वाले मामले पर शाह ने कहा कि हमने जो किया वो कानून के मुताबिक ही था किसी को निकाला नहीं गया है उन्हें सिर्फ छुट्टी पर भेजा गया है. राफेल मुद्दे पर शाह ने कहा कि किसी तरह का भ्रष्टाचार नहीं हुआ है और सुप्रीम कोर्ट की बेंच की निगरानी में इसकी जांच हो रही है. अगर किसी को दिक्कत है तो वो हलफनामा दायर कर दे. 15 लाख रुपए देने के मामले में शाह ने कहा कि इस बात को गलत समझा गया है हमने गैस कनेक्शन, सब्सिडी और विकास के रूप में ये लोगों तक पहुंचा दिए हैं.

शाह ने कहा कि रोहिंग्या घुसपैठ पर रोक लगाने के लिए सीमाओं पर भी सुरक्षा कड़ी रखनी होगी. पश्चिम बंगाल में न जाने देने के सवाल पर शाह ने कहा कि मेरी आवाज़ को जितना दबाने की कोशिश होगी वो और ज्यादा असरदार तरीके से बंगाल के गांव-गांव तक पहुंचेगी.

महागठबंधन पर शाह ने कहा कि ये सिर्फ एक ढकोसला है. यूपी छोड़कर इस गठबंधन का असर कहीं नहीं पड़ने जा रहा है और वहां भी हमें सिर्फ 6% का फासला मिटाना है. यूपी में हम 51% वोट की लड़ाई लड़ रहे हैं.

शाह ने नोटबंदी पर कहा कि ये एक सफल प्रयास था और इनकम टैक्स में हुई बढ़ोत्तरी में इसे देखा जा सकता है. नोटबंदी से नाराज़ लोग छुपकर कमरों में रो रहे हैं क्योंकि वो खुले में अपना दुःख नहीं बता सकता. बीजेपी ने कभी भी लोगों को अच्छे लगे ऐसे फैसले नहीं लिए लोगों के लिए जो अच्छे हों वो फैसले लिए हैं. मैं मानता हूं सरकार चलाने के लिए चुनाव नहीं लड़ना चाहिए बल्कि देश सुधारने के लिए लड़ना चाहिए.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर