होम /न्यूज /राष्ट्र /

जहांगीरपुरी हिंसा: पुलिस ने आरोपियों की तस्वीरें FSL से खिंचवाईं, वीडियो से मिलान कराई जाएंगी

जहांगीरपुरी हिंसा: पुलिस ने आरोपियों की तस्वीरें FSL से खिंचवाईं, वीडियो से मिलान कराई जाएंगी

दिल्ली पुलिस. (प्रतीकात्मक फोटो)

दिल्ली पुलिस. (प्रतीकात्मक फोटो)

दिल्ली पुलिस यहां जहांगीरपुरी हिंसा ( Jahangirpuri violence) मामले में गिरफ्तार आरोपियों को फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला (FSL) में ले गई जहां उनके उसी कोण से फोटो खींचे गए जिसमें वे सीसीटीवी फुटेज और वीडियो में दिख रहे हैं.

हाइलाइट्स

जहांगीरपुरी हिंसा मामले में पुलिस ने की कार्रवाई
वीडियो में दिख रहे आरोपियों की FSL से फोटो खिंचवाई
लोगों की पहचान करने में होगी आसानी

नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस यहां जहांगीरपुरी हिंसा ( Jahangirpuri violence) मामले में गिरफ्तार आरोपियों को फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला (FSL) में ले गई जहां उनके उसी कोण से फोटो खींचे गए जिसमें वे सीसीटीवी फुटेज और वीडियो में दिख रहे हैं. अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को बताया कि अदालत से आदेश लेने के बाद पूरी कवायद को अंजाम दिया गया. पुलिस ने कहा कि चेहरा पहचानने वाली प्रणाली से कई आरोपियों को पकड़ा गया है. अधिकारियों ने बताया कि पुलिस ने घटना के सिलसिले में दो और लोगों सद्दाम खान और सांवर मलिक उर्फ कालिया को गिरफ्तार किया है.

इससे पहले 37 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है और दो नाबालिगों को पकड़ा गया है. पुलिस ने कहा कि कुछ आरोपियों को चेहरा पहचानने वाली प्रणाली की मदद से पकड़ा गया, जिसका इस्तेमाल दिल्ली पुलिस संवेदनशील मामलों को सुलझाने के लिए कर रही है. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि 37 आरोपियों के खिलाफ जुलाई में आरोप पत्र दाखिल किया जा चुका है. अधिकारी ने बताया, ‘ शुरुआती जांच स्थानीय खुफिया ईकाई के जरिए की गई थी. स्थानीय लोगों ने भी आरोपियों की शिनाख्त करने में मदद की है. इसे तकनीकी रूप से बहुत ठोस सबूत बनाने के लिए हमने अदालत से आदेश लिया और एफएसएल के जरिए तस्वीरें खिंचवाईं. तस्वीरों का मिलान उपलब्ध वीडियो के साथ किया जाएगा.’

अप्रैल में जहांगीरपुरी में हुई थी हिंसा, 6 आरोपियों की गिरफ्तारी बाकी

उन्होंने बताया, ‘आरोपियों को जेल से एफएसएल ईकाई ले जाया गया और उनके उसी कोण से फोटो खिंचवाए गए जिसमें वे वीडियो में दिखे थे. एफएसएल के पास इसमें एक विशेषज्ञ ईकाई है. अभी रिपोर्ट नहीं आई है.’ अधिकारियों ने कहा कि यह प्रक्रिया पहले भी इस्तेमाल की गई है. उन्होंने कहा कि इस मामले में अभी छह और आरोपियों की गिरफ्तारी की जानी है. अप्रैल में जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती के मौके पर निकाले जा रहे जुलूस के दौरान दो समुदायों के लोगों में संघर्ष हो गया था जिसमें आठ पुलिस कर्मी और एक स्थानीय निवासी जख्मी हो गया था.

Tags: Delhi police, Forensic

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर