होम /न्यूज /राष्ट्र /जेल में बंद पादरी ने दुष्कर्म पीड़िता से विवाह के लिये अदालत में लगाई याचिका

जेल में बंद पादरी ने दुष्कर्म पीड़िता से विवाह के लिये अदालत में लगाई याचिका

बिहार के नालंदा में सात साल की बच्ची से रेप (सांकेतिक फोटो)

बिहार के नालंदा में सात साल की बच्ची से रेप (सांकेतिक फोटो)

अदालत (Court) में बुधवार को मामले की सुनवाई के दौरान बच्चों व महिलाओं के लिये विशेष लोक अभियोजक (special public prosecu ...अधिक पढ़ें

    कोच्चि. तीन साल पहले नाबालिग (minor girl) को गर्भवती (impregnating) करने के मामले में जेल की सजा काट रहे रोमन कैथोलिक चर्च (Roman Catholic Church) के एक पूर्व पादरी (Former Priest) ने अदालत (Court) में याचिका दायर कर अपनी सजा को दो महीने के लिये निलंबित करने का अनुरोध किया है जिससे वह उस पीड़िता से विवाह कर सके जिसकी वैधानिक उम्र (legal age) अब विवाह (marriage) योग्य हो गई है.

    अदालत (Court) में बुधवार को मामले की सुनवाई के दौरान बच्चों व महिलाओं के लिये विशेष लोक अभियोजक (special public prosecutor) ने रॉबिन वडाक्कुमचेरी की याचिका का विरोध किया. उन्होंने कहा कि सजा को दो महीने निलंबित (suspension) नहीं किया जा सकता क्योंकि यह कोई विशेष परिस्थिति (special circumstance) नहीं है. अभियोजक ने अदालत को बताया कि दोषी पादरी की उम्र 50 साल से ज्यादा है और निचली अदालत (Lower Court) ने उसे 2017 में 16 वर्षीय लड़की से बार-बार दुष्कर्म (Rape) कर उसे गर्भवती करने के मामले में दोषी ठहराया था.

    दुष्कर्म के दोषियों के लिए पीड़िताओं से विवाह का मंच नहीं बनाया जा सकता
    अभियोजन (Prosecution) ने कहा कि अदालत (Court) को दुष्कर्म (Rape) के दोषियों के लिए पीड़िताओं (Victim) से विवाह (Marriage) का मंच नहीं बनाया जा सकता क्योंकि इससे गलत संदेश जाएगा.

    अदालत ने इस मामले में और विचार करने की बात कहते हुए, सुनवाई की अगली तारीख 24 जुलाई तय की है.

    वडाक्कुमचेरी स्थानीय चर्च का पादरी था, जहां पीड़िता कर रही थी पढ़ाई
    थालास्सेरी की एक POCSO अदालत ने पिछले साल वडाक्कुमचेरी को 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई थी और उस पर तीन लाख रुपये का जुर्माना लगाया था. वडाक्कुमचेरी, कन्नूर जिले के कोट्टियुर में स्थानीय चर्च का पादरी था और उस स्कूल में प्रबंधक था जहां पीड़िता पढ़ रही थी.

    यह भी पढ़ें: IIT दिल्ली की बनाई दुनिया की सबसे सस्ती कोरोना टेस्टिंग किट 'कोरोश्योर' लॉन्च

    कनाडा भागने की कोशिश के दौरान उसे दो साल पहले गिरफ्तार किया गया था. नाबालिगों का यौन शोषण करने वाले पादरियों के प्रति शून्य सहिष्णुता की नीति का पालन करते हुए, पोप फ्रांसिस ने बलात्कार के दोषी पुजारी को सभी पुजारी कर्तव्यों और अधिकारों से निष्कासित कर दिया था.

    Tags: Jail, Kerala, Sexual Harassment, Sexualt assualt

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें