होम /न्यूज /राष्ट्र /Direct Flight News- जयपुर- भुवनेश्‍वर के बीच पहली सीधी फ्लाइट शुरू

Direct Flight News- जयपुर- भुवनेश्‍वर के बीच पहली सीधी फ्लाइट शुरू

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया पहली सीधी फ्लाइट को झंडी दिखाकर रवाना करते हुए.

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया पहली सीधी फ्लाइट को झंडी दिखाकर रवाना करते हुए.

Direct Flight: Jaipur-Bhubaneswar के बीच मंगलवार से सीधी फ्लाइट शुरू हो गई. Union Civil Aviation Minister ज्योतिरादित्य ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्‍ली. जयपुर और भुवनेश्‍वर के बीच मंगलवार से सीधी फ्लाइट शुरू हो गई. केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया ने पहली सीधी फ्लाइट को झंडी दिखाकर रवाना किया. नई फ्लाइट से भुवनेश्वर और उसके आस-पास के क्षेत्रों के लोगों को भुवनेश्वर और जयपुर के बीच सीधी हवाई कनेक्टिविटी मिलेगी, जिससे यात्रियों को निर्बाध आवाजाही की सुविधा होगी.

    सीधी फ्लाइट से पर्यटकों / यात्रियों को हवाई यात्रा के लिए कई विकल्प मिलेंगे, जिससे पर्यटन क्षमता में बढ़ोतरी होगी और क्षेत्र की आर्थिक गतिविधियों को भी बढ़ावा मिलेगा. इस मौके पर शिक्षा एवं कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, केंद्रीय रेल और संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) मंत्री वैष्णव अश्विनी भी शामिल रहे.

    इस अवसर पर सिंधिया ने कहा कि भुवनेश्वर मंदिरों का शहर है. यह हिंदू, बौद्ध और जैन समुदायों का धार्मिक केंद्र है. एक धार्मिक केंद्र होने के अलावा, इस शहर का नाम देश के स्मार्ट शहरों की सूची में है. भुवनेश्वर देश के प्रमुख आईटी और शिक्षा केंद्रों में से एक है। फिलहाल भुवनेश्वर 38 विमानों की आवाजाही के जरिए 19 शहरों से जुड़ा हुआ है.
    केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा कि विमानन में निवेश हमेशा गुणक प्रभाव लाता है. निवेश किया गया प्रत्येक 100 रुपया देश की जीडीपी में 325 रुपये जोड़ता है. यह विमान को रोजगार का प्रवेश द्वार बनाते हुए रोजगार के अपार अवसर लाता है. मंत्री ने आश्वासन दिया कि 200 करोड़ रुपये की लागत से नए टर्मिनल भवनों का निर्माण तय समय में पूरा हो जाएगा.

    उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य अपने सभी हवाई अड्डों को हरित हवाई अड्डे बनाने के लिए दीर्घकालिक ऊर्जा संसाधनों का इस्तेमाल करना है. भुवनेश्वर हवाई अड्डा 80 फीसदी सौर ऊर्जा से संचालित है, जो इस देश के लिए एक उत्कृष्ट उदाहरण है. इसके अलावा, झारसुगुडा जैसे उड़ान हवाई अड्डे अपने आप में एक सफलता हैं. हवाई अड्डे का उपयोग एक महीने में 1 लाख से अधिक यात्री करते हैं.

    Tags: Civil aviation, Jaipur news, Ministry of civil aviation, New Flight

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें