सोशल मीडिया पर आया जैश, आतंक के लिए भड़का रहा है कश्मीर के लोगों को

News18Hindi
Updated: August 23, 2019, 5:44 AM IST
सोशल मीडिया पर आया जैश, आतंक के लिए भड़का रहा है कश्मीर के लोगों को
कश्मीर में लोगों को भड़काना चाहता है जैश

इस सप्ताह की शुरुआत में जियो टीवी पर इंटरव्यू में अमेरिका (America) के एक अधिकारी ने जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Muhammad) और लश्कर-ए-तैयबा के खिलाफ उठाए गए कदमों के लिए पाकिस्तान (Pakistan) की तारीफ की थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 23, 2019, 5:44 AM IST
  • Share this:
अमेरिका (America) ने हाल ही में जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Muhammad) के खिलाफ पाकिस्तान (Pakistan) द्वारा उठाए गए कदमों की तारीफ की थी. लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बैन हो चुका यह आतंकवादी समूह (Terrorist Group) एक बार फिर सोशल मीडिया पर एक्टिव हो गया है और उसने अपना पहला सार्वजनिक संदेश जारी किया है.

फर्स्टपोस्ट की खबर के अनुसार उर्दू भाषा में लिखे एक संदेश में कहा गया है, "ऐसे लोग हैं जो चुप हैं, लेकिन बड़ा काम कर रहे हैं." यह संदेश जैश की वर्दी पहने एक आतंकवादी की तस्वीर के ऊपर लिखा गया है. कहा जा रहा है कि जैश सरगना मसूद अजहर (Masood Azhar) ने ये पोस्टर छपवाया है.

इस सप्ताह की शुरुआत में जियो टीवी पर इंटरव्यू में अमेरिका के एक अधिकारी ने जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा के खिलाफ उठाए गए कदमों के लिए पाकिस्तान की तारीफ की थी.

कश्मीर के कारण आतंकियों को ढील

भारतीय खुफिया अधिकारियों ने कहा कि जैश का सार्वजनिक संदेश इस बात का सबूत है कि पाकिस्तानी सेना ने उस पर जो लगाम कसी थी, उसमें ढील दी जा रही है और ऐसा कश्मीर संकट को लेकर किया जा रहा है.

पिछले सप्ताह पाकिस्तान में जिहादी सोशल मीडिया फीड ने एक मैसेज फैलाया था, जिसके लिए मसूद अजहर जिम्मेदार बताया जा रहा है. इसमें लिखा गया था, "कश्मीर को बाहर निकलने (सड़कों पर) की जरूरत है. तब दुश्मन शांति और बातचीत की भीख मांगेगा.'

पोस्टर पर नहीं है जैश का नाम
Loading...

हालांकि गुरुवार को जो संदेश प्रसारित किया गया है उसमें जैश-ए-मोहम्मद अथवा इसके आधिकारिक प्रकाशक अल-कुलाम का जिक्र नहीं किया गया है. वहीं बुधवार को अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर में पहला एनकाउंटर हुआ. इस दौरान लोगों ने सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी भी की.

ये भी पढ़ें: पाक ने केबल संचालकों को दी चेतावनी, न करें भारतीय चैनलों का प्रसारण

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 23, 2019, 5:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...