पुलवामा हमले में NIA ने की सातवीं गिरफ्तारी, पकड़ा गया जैश का आतंकी

पुलवामा हमले में NIA ने की सातवीं गिरफ्तारी, पकड़ा गया जैश का आतंकी
कश्मीर स्थित पुलवामा में जैश ए मुहम्मद आतंकी संगठन के आतंकियों ने एक सोची समझी साजिश के तहत CRPF के काफिले पर हमला किया था (सांकेतिक फोटो)

NIA की टीम ने पुलवामा अटैक (Pulwama Attack) मामले में सातवें आतंकी की गिरफ्तारी (Arrest) की है. आतंकी बिलाल अहमद मूल रूप से कश्मीर (Kashmir) के ही पुलवामा स्थित हाजिबल, काकोपोरा का रहने वाले है.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय जांच एजेंसी (National Investigate Agency- NIA) ने एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए पुलवामा हमला (Pulwama Attack) मामले में तफ्तीश के बाद बिलाल अहमद कुचेय नाम के आतंकी (Terrorist) को गिरफ्तार किया है. बिलाल अहमद, आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) का आतंकी है.

NIA अधिकारियों के मुताबिक पुलवामा अटैक (Pulwama Attack) में आतंकियों (Terrorist) का मददगार था, इसके खिलाफ काफी तफ्तीश करने के बाद उसे गिरफ्तार (Arrest) किया गया, बिलाल पर ये भी आरोप है कि आतंकी संगठन (Terrorist Organisation) जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों को ये लॉजिस्टिक सपोर्ट (Logistic support) मुहैया करता था, जिसके चलते इतने बड़े आतंकी हमले को उन आतंकियों ने अंजाम दिया.

पुलवामा हमले की साजिश
14 फरवरी 2019 को कश्मीर स्थित पुलवामा में जैश ए मुहम्मद आतंकी संगठन के आतंकियों ने एक सोची समझी साजिश के तहत CRPF के काफिले पर हमला किया था, जिसमें CRPF के 40 जवान शहीद हो गए थे. इस मामले की तफ्तीश पहले कश्मीर की स्थानीय पुलिस की टीम कर रही थी, लेकिन मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच का जिम्मा केंद्रीय जांच एजेंसी NIA को सौंपा गया था. इस मामले में काफी महीनों की तफ्तीश के बाद पुलवामा अटैक मामले में केंद्रीय जांच एजेंसी NIA को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. हालांकि NIA की टीम ने पुलवामा अटैक मामले में सातवें आतंकी की गिरफ्तारी की है. पकड़े गए आतंकी बिलाल अहमद मूल रूप से कश्मीर के ही पुलवामा स्थित हाजिबल, काकोपोरा का रहने वाला है.
NIA की टीम को इस मामले में जांच के दौरान पता चला है कि पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शामिल जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों को हमला से पहले और फिर बाद में भी बिलाल अहमद ने ही अपने घर में पनाह दी थी. जिससे आतंकियों को इस साजिश को अंजाम दे सके. NIA मुख्यालय में कार्यरत अधिकारी के मुताबिक जांच आ एजेंसी को इस मामले में काफी पुख़्ता सबूत भी मिल चुके हैं कि हमले की साजिश बिलाल के घर में ही रची गयी थी. इतना ही नहीं, हमले को अंजाम देने वाले सभी आतंकियों को बिलाल ने ही सेफ हाउस मुहैया करवाया था. यहां तक कि पुलवामा हमला के पहले और बाद में जिन मोबाइल फोन के जरिये ये आतंकी पाकिस्तान में बैठे अपने आकाओं के संपर्क में थे, वो फ़ोन उन्हें दिलवाने में बिलाल अहमद ने ही उनकी मदद की थी.



NIA स्पेशल कोर्ट ने आतंकी बिलाल अहमद को 10 दिन की रिमांड पर भेजा
आतंकी बिलाल अहमद के पेशे की अगर बात करें तो वो पुलवामा में ही अपनी आरा मिल चलाता है, जिससे उसका घर चलता था. इसी दौरान वह आतंकियों के संपर्क में आया और आतंकी संगठन जैश के लिए वो काम करने लगा. NIA के सूत्र ये भी बताते हैं कि फिदायीन हमले को अंजाम देने वाला आतंकी आदिल अहमद डार का हमले का जो वीडियो वायरल हुआ था, वो वीडियो क्लिप भी उसी मोबाइल फ़ोन से बनाया गया था जो पकड़े गए आतंकी बिलाल अहमद ने उसे दिलवाया था.

यह भी पढ़ें: वित्त राज्य मंत्री का मीडिया-मनोरंजन सेक्टर में नौकरियों को लेकर आया बड़ा बयान

आतंकी बिलाल अहमद कुचेय को जांच एजेंसी NIA ने जम्मू स्थित NIA की स्पेशल कोर्ट में पेश किया जहां से उसे 10 की रिमांड पर भेज दिया गया है. यानी अब 10 दिनों तक NIA की टीम विस्तार से बिलाल अहमद से पुलवामा हमले सहित अन्य दूसरे आतंकियों के बारे में पूछताछ करेगी और आगे की कार्रवाई को अंजाम देगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading