लाइव टीवी

'रायसीना डायलॉग' में बोले जयशंकर- भारत और चीन के पास साथ चलने के अलावा कोई रास्ता नहीं

News18Hindi
Updated: January 15, 2020, 12:56 PM IST
'रायसीना डायलॉग' में बोले जयशंकर- भारत और चीन के पास साथ चलने के अलावा कोई रास्ता नहीं
विदेश मंत्री एस. जयशंकर.

विदेश मंत्री (Foreign Minister) एस. जयशंकर (S Jaishankar) ने कहा, दोनों ही देशों के लिए संबंधों में संतुलन अहम है. हमें साथ-साथ चलना होगा. उन्होंने कहा कि भारत आतंकवाद से सख्ती से निपट रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 15, 2020, 12:56 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. विदेश मंत्री (Foreign Minister) एस. जयशंकर (S Jaishankar) ने 'रायसीना डायलॉग' (Raisina Dialogue) में बुधवार को कहा, भारत बचने की कोशिश नहीं करता बल्कि निर्णय लेने में विश्वास रखता है. जयशंकर का यह बयान ऐसे समय में आया है जब कई देशों ने हिंद-प्रशांत में भारत की बड़ी भूमिका का आह्वान किया है.

'रायसीना डायलॉग' को संबोधित कर रहे जयशंकर ने अमेरिका-ईरान के बीच चल रहे तनाव पर कहा कि वे दो विशिष्ट देश हैं और अब जो भी होगा वह इसमें शामिल पक्षों पर निर्भर करता है. चीन के साथ संबंधों पर विदेश मंत्री ने कहा, पड़ोसी देशों के लिए महत्वपूर्ण मुद्दों पर सहमति बनाना जरूरी है. उन्होंने कहा, दोनों ही देशों के लिए संबंधों में संतुलन अहम है. हमें साथ-साथ चलना होगा. उन्होंने कहा कि भारत आतंकवाद से सख्ती से निपट रहा है.

विदेश मंत्री ने कहा कि भारत को अपनी पुरानी छवि से बाहर निकलना होगा. उन्होंने कहा, एक समय था जब हम काम करने की तुलना में बोलते ज्यादा थे, लेकिन अब यह स्थिति बदल रही है. रायसीना डायलॉग के पांचवें संस्करण का आयोजन विदेश मंत्रालय और ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन सम्मिलित रूप से कर रहे हैं. इसमें सौ से अधिक देशों के 700 अंतरराष्ट्रीय भागीदार हिस्सा ले रहे हैं और इस तरह का यह सबसे बड़ा सम्मेलन है.

इसे भी पढ़ें :- अमेरिका चाहता है कि पाक आतंकवाद पर तत्काल कार्रवाई करे: जयशंकर

12 देशों के विदेश मंत्री कार्यक्रम में ले रहे हैं हिस्सा
मंगलवार से शुरू हुए इस तीन दिवसीय सम्मेलन में 12 विदेश मंत्री हिस्सा ले रहे हैं. इनमें रूस, ईरान, ऑस्ट्रेलिया, मालदीव, दक्षिण अफ्रीका, एस्तोनिया, चेक गणराज्य, डेनमार्क, हंगरी, लातविया, उज्बेकिस्तान और ईयू के विदेश मंत्री शामिल हैं. ईरान के विदेश मंत्री जावेद जरीफ की भागीदारी का इसलिए महत्व है क्योंकि ईरान के कुद्स फोर्स के कमांडर कासीम सुलेमानी की हत्या के बाद वह इसमें हिस्सा ले रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :- एस जयशंकर ने ईरानी विदेश मंत्री से की बात, कहा- घटनाक्रम ने लिया बहुत गंभीर मोड़

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 12:56 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर